Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Jan 2024 · 1 min read

संकल्प

जीवन के इस पायदान में मैने यह
संकल्प लिया है,
इस माया- मोह के बंधन से स्वयं को
मुक्त किया है,

अतीत की स्मृतियों को छोड़ वर्तमान
अपना लिया है,
संताप -भय चिंताविहींन निरापद भाव
अपना लिया है ,

अहं त्याग शांति समग्र निर्विकार भाव
समाहित किया है,
प्रेम,दया,करुणा ,एवं मानव सेवा भाव
अंतस्थ किया है,

निरर्थक जीवन निर्वाह की परिपाटी को छोड़ ,
सार्थक जीवन यापन के तत्व का संज्ञान लिया है।

नोट : मेरी ७२ वीं वर्षगांठ पर काव्य प्रस्तुति !

Language: Hindi
105 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Shyam Sundar Subramanian
View all
You may also like:
पुस्तक समीक्षा - अंतस की पीड़ा से फूटा चेतना का स्वर रेत पर कश्तियाँ
पुस्तक समीक्षा - अंतस की पीड़ा से फूटा चेतना का स्वर रेत पर कश्तियाँ
डॉ. दीपक मेवाती
प्रसाद का पूरा अर्थ
प्रसाद का पूरा अर्थ
Radhakishan R. Mundhra
.....★.....
.....★.....
Abhishek Shrivastava "Shivaji"
😊आज के दो रंग😊
😊आज के दो रंग😊
*Author प्रणय प्रभात*
Speciality comes from the new arrival .
Speciality comes from the new arrival .
Sakshi Tripathi
बादल (बाल कविता)
बादल (बाल कविता)
Ravi Prakash
3018.*पूर्णिका*
3018.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
उस दिन पर लानत भेजता  हूं,
उस दिन पर लानत भेजता हूं,
Vishal babu (vishu)
"क्या लिखूं क्या लिखूं"
Yogendra Chaturwedi
मेरी जाति 'स्वयं ' मेरा धर्म 'मस्त '
मेरी जाति 'स्वयं ' मेरा धर्म 'मस्त '
सिद्धार्थ गोरखपुरी
डिग्रियों का कभी अभिमान मत करना,
डिग्रियों का कभी अभिमान मत करना,
Ritu Verma
खेल और राजनीती
खेल और राजनीती
'अशांत' शेखर
दिल तड़प उठता है, जब भी तेरी याद आती है,😥
दिल तड़प उठता है, जब भी तेरी याद आती है,😥
SPK Sachin Lodhi
उसकी बाहो में ये हसीन रात आखिरी होगी
उसकी बाहो में ये हसीन रात आखिरी होगी
Ravi singh bharati
विज्ञान का चमत्कार देखो,विज्ञान का चमत्कार देखो,
विज्ञान का चमत्कार देखो,विज्ञान का चमत्कार देखो,
पूर्वार्थ
हमने माना अभी
हमने माना अभी
Dr fauzia Naseem shad
कारगिल युद्ध फतह दिवस
कारगिल युद्ध फतह दिवस
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
सफलता का मार्ग
सफलता का मार्ग
Praveen Sain
वक्त ए रूखसती पर उसने पीछे मुड़ के देखा था
वक्त ए रूखसती पर उसने पीछे मुड़ के देखा था
Shweta Soni
मययस्सर रात है रोशन
मययस्सर रात है रोशन
कवि दीपक बवेजा
जब कभी प्यार  की वकालत होगी
जब कभी प्यार की वकालत होगी
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
कि  इतनी भीड़ है कि मैं बहुत अकेली हूं ,
कि इतनी भीड़ है कि मैं बहुत अकेली हूं ,
Mamta Rawat
हिंदी दिवस पर विशेष
हिंदी दिवस पर विशेष
Akash Yadav
अब तुझपे किसने किया है सितम
अब तुझपे किसने किया है सितम
gurudeenverma198
दिल के अरमान मायूस पड़े हैं
दिल के अरमान मायूस पड़े हैं
Harminder Kaur
ठंड
ठंड
Ranjeet kumar patre
वक्त
वक्त
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
हार कभी मिल जाए तो,
हार कभी मिल जाए तो,
Rashmi Sanjay
डिगरी नाहीं देखाएंगे
डिगरी नाहीं देखाएंगे
Shekhar Chandra Mitra
मगरूर क्यों हैं
मगरूर क्यों हैं
Mamta Rani
Loading...