Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Dec 2023 · 1 min read

संकट..

जो बचना जानता है वो ,
भले बच जाए झमेले से !
संकट भी टला करता है ?
कहीं..पलकें मूंद लेने से !

©सुस्मिता सिंह ‘काव्यमय’

121 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
राणा सा इस देश में, हुआ न कोई वीर
राणा सा इस देश में, हुआ न कोई वीर
Dr Archana Gupta
किया है यूँ तो ज़माने ने एहतिराज़ बहुत
किया है यूँ तो ज़माने ने एहतिराज़ बहुत
Sarfaraz Ahmed Aasee
एक मन
एक मन
Dr.Priya Soni Khare
कैलाश मानसरोवर यात्रा (पुस्तक समीक्षा)
कैलाश मानसरोवर यात्रा (पुस्तक समीक्षा)
Ravi Prakash
“अकेला”
“अकेला”
DrLakshman Jha Parimal
औरत अश्क की झीलों से हरी रहती है
औरत अश्क की झीलों से हरी रहती है
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
सविता की बहती किरणें...
सविता की बहती किरणें...
Santosh Soni
चलो माना तुम्हें कष्ट है, वो मस्त है ।
चलो माना तुम्हें कष्ट है, वो मस्त है ।
Dr. Man Mohan Krishna
कुछ लोग अच्छे होते है,
कुछ लोग अच्छे होते है,
Umender kumar
मन से हरो दर्प औ अभिमान
मन से हरो दर्प औ अभिमान
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
सोच एक थी, दिल एक था, जान एक थी,
सोच एक थी, दिल एक था, जान एक थी,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
आपस की दूरी
आपस की दूरी
Paras Nath Jha
■ सनातन विचार...
■ सनातन विचार...
*Author प्रणय प्रभात*
23/68.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/68.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*दिल कहता है*
*दिल कहता है*
Kavita Chouhan
जा रहा हु...
जा रहा हु...
Ranjeet kumar patre
मछली के बाजार
मछली के बाजार
Shekhar Chandra Mitra
काली हवा ( ये दिल्ली है मेरे यार...)
काली हवा ( ये दिल्ली है मेरे यार...)
Manju Singh
लोग आते हैं दिल के अंदर मसीहा बनकर
लोग आते हैं दिल के अंदर मसीहा बनकर
कवि दीपक बवेजा
पके फलों के रूपों को देखें
पके फलों के रूपों को देखें
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
शिक्षक को शिक्षण करने दो
शिक्षक को शिक्षण करने दो
Sanjay Narayan
स्त्री का प्रेम ना किसी का गुलाम है और ना रहेगा
स्त्री का प्रेम ना किसी का गुलाम है और ना रहेगा
प्रेमदास वसु सुरेखा
"खूबसूरती"
Dr. Kishan tandon kranti
आहिस्था चल जिंदगी
आहिस्था चल जिंदगी
Rituraj shivem verma
ये आसमां ये दूर तलक सेहरा
ये आसमां ये दूर तलक सेहरा
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
गर्मी आई
गर्मी आई
Manu Vashistha
ग़ज़ल/नज़्म - उसके सारे जज़्बात मद्देनजर रखे
ग़ज़ल/नज़्म - उसके सारे जज़्बात मद्देनजर रखे
अनिल कुमार
बैरिस्टर ई. राघवेन्द्र राव
बैरिस्टर ई. राघवेन्द्र राव
Dr. Pradeep Kumar Sharma
रंजीत कुमार शुक्ल
रंजीत कुमार शुक्ल
Ranjeet Kumar Shukla
ज़िन्दगी तुमको ढूंढ ही लेगी
ज़िन्दगी तुमको ढूंढ ही लेगी
Dr fauzia Naseem shad
Loading...