Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Jan 2024 · 1 min read

श्रेष्ठ वही है…

श्रेष्ठ वही है, जिसमें दृढ़ता हो, जिद नहीं,
बहादुरी हो, जल्दबाजी नहीं,
दया हो, कमजोरी नहीं,
ज्ञान हो, अहंकार नहीं,
करुणा हो, प्रतिशोध नहीं,
निर्णायकता हो, असमंजस नहीं ।
✍️✍️..

Language: Hindi
1 Like · 75 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*मिला दूसरा संडे यदि तो, माँ ने वही मनाया【हिंदी गजल/गीतिका 】*
*मिला दूसरा संडे यदि तो, माँ ने वही मनाया【हिंदी गजल/गीतिका 】*
Ravi Prakash
स्वार्थ सिद्धि उन्मुक्त
स्वार्थ सिद्धि उन्मुक्त
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
गुरुजन को अर्पण
गुरुजन को अर्पण
Rajni kapoor
एकीकरण की राह चुनो
एकीकरण की राह चुनो
Jatashankar Prajapati
वक्त हालत कुछ भी ठीक नहीं है अभी।
वक्त हालत कुछ भी ठीक नहीं है अभी।
Manoj Mahato
ऐ जिंदगी
ऐ जिंदगी
Anil "Aadarsh"
जिसने हर दर्द में मुस्कुराना सीख लिया उस ने जिंदगी को जीना स
जिसने हर दर्द में मुस्कुराना सीख लिया उस ने जिंदगी को जीना स
Swati
आखिरी वक्त में
आखिरी वक्त में
Harminder Kaur
#मेरा_जीवन-
#मेरा_जीवन-
*Author प्रणय प्रभात*
जिन्होंने भारत को लूटा फैलाकर जाल
जिन्होंने भारत को लूटा फैलाकर जाल
Rakesh Panwar
हमारे भीतर का बच्चा
हमारे भीतर का बच्चा
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मैंने चांद से पूछा चहरे पर ये धब्बे क्यों।
मैंने चांद से पूछा चहरे पर ये धब्बे क्यों।
सत्य कुमार प्रेमी
ये अलग बात है
ये अलग बात है
हिमांशु Kulshrestha
*┄┅════❁ 卐ॐ卐 ❁════┅┄​*
*┄┅════❁ 卐ॐ卐 ❁════┅┄​*
Satyaveer vaishnav
हार हूँ
हार हूँ
Satish Srijan
साथ
साथ
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
जिंदगी भी फूलों की तरह हैं।
जिंदगी भी फूलों की तरह हैं।
Neeraj Agarwal
जीवन की अभिव्यक्ति
जीवन की अभिव्यक्ति
मनमोहन लाल गुप्ता 'अंजुम'
हम हमारे हिस्से का कम लेकर आए
हम हमारे हिस्से का कम लेकर आए
सिद्धार्थ गोरखपुरी
खुद के करीब
खुद के करीब
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
"कारवाँ"
Dr. Kishan tandon kranti
जीवन का रंगमंच
जीवन का रंगमंच
Harish Chandra Pande
देखें क्या है राम में (पूरी रामचरित मानस अत्यंत संक्षिप्त शब्दों में)
देखें क्या है राम में (पूरी रामचरित मानस अत्यंत संक्षिप्त शब्दों में)
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
वर्षा ऋतु के बाद
वर्षा ऋतु के बाद
लक्ष्मी सिंह
Kagaj ki nav ban gyi mai
Kagaj ki nav ban gyi mai
Sakshi Tripathi
प्रभु जी हम पर कृपा करो
प्रभु जी हम पर कृपा करो
Vishnu Prasad 'panchotiya'
माँ की गोद में
माँ की गोद में
Surya Barman
#करना है, मतदान हमको#
#करना है, मतदान हमको#
Dushyant Kumar
*
*"ममता"* पार्ट-5
Radhakishan R. Mundhra
चांदनी रातों में
चांदनी रातों में
Surinder blackpen
Loading...