Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Oct 2016 · 2 min read

श्री हनुमत् कथा भाग -3

[20/09 5:52 am] Dr.Tej Swaroop Bhardwaj: Title:None,Content: श्री हनुमन्त कथा
भाग -3
जिस समय हनुमान जी का जन्म हुआ उस समय नीच का सूर्य ,दक्षिणायन कृष्णपक्ष,रिक्ता तिथि थी जो अशुभ माने जाते हैं परन्तु हनुमान जी सबको बलपूर्वक प्रशस्त बनाउसी समय उत्पन्न हुए थे।यह सब सत्संग का प्रभाव था क्योंकि सत्संग से कनिष्ठ भी श्रेष्ठ पदवी प्राप्त कर लेता है।
हनुमान जी के जन्म से चारों ओर हर्षोल्लास छा गया ।देवताओं ने प्रसन्न होकर पुष्पवर्षा की ।माँ अन्जना एवं पिता केशरी की प्रसन्नता का तो ठिकाना हीनहीं रहा ।जन्म के समय हनुमान जी तपे हुए सोने के समान वर्ण वाले तथा मुकुट -कुण्डल एवं कच्छा से शुशोभित थे।
एक दिन अपने प्रिय पुत्र के लिए बुद्धिवर्धक फल लाने के लिए वन को चली गयी और फलों को खोजते हुए उसे देर हो गयी ।तभी भूख से व्याकुल बाल हनुमानजी ने उगते हुए लाल सूर्य को देखा और उसे फल समझ कर खाने के लिए छलाँग लगा दी।उसे तीव्र वेग से सूर्य की ओर जाता हुआ देखकर देवता ,मनुष्य,राक्षसादि आश्चर्य चकित हो गये और उनकी प्रभावशीलता की प्रशंसा करने लगे ।सूर्यदेव के जलाने के भय से शीतलता प्रदान करने के लिए वायुदेव भा अपने पुत्र के साथ हो लिए ।और विचार करने लगे कि ऐसी लीला किसी भी ईश्वर की न तो हुई और न होगी ।
शिशु अंजना नन्दन सूर्य को फल समझकर अत्यधिक प्रसन्न हुए और दोनों हाथों से पकड़कर उसे अपने मुँह में रख लिया ।चारों तरफ अंधेरा छा जाने से हाहाकार मच गया ।उसी समय राहु नामक राक्षस अमावस्या के दिन सूर्य का ग्रास करने हेतु आगया तभी हनुमान जी ने राहु के ऊपर छलाँग मारी जिससे डरकर राहु भाग गया और इन्द्र के पास पहुचकर सब वृत्तान्त वताया।इससे कुपित होकर इन्द्र ने बज्र से प्रहार कर दिया जिससे हनु(ठुड्ढी)टूट जाने से हनुमान जी
[20/09 5:52 am] Dr.Tej Swaroop Bhardwaj: Title:None,Content:
मूर्छित हो गये ।इससे कुपित होकर वायुदव अपने पुत्र को लेकर पहाड़ की गुफा में छुप गये ।इससे वायु का संचरण बन्द हो जाने से सम्पूर्ण संसार व्याकुल हो गया ।दवताओं की प्रार्थना पर ब्रह्मादि देवों ने वायुदेव से प्रार्थना की।बाल हनुमानजी के स्वस्थ हो जाने पर वायुदेव प्रसन्न हो गये जिससे वायु का संचरण पूर्ववत् होने लगा और सभी प्राणी स्वस्थ हो गये।इन्द्रदेव ने हनुमानजी को वरदान देते हुए कहा कि मेरे बज्र से इन्हें किसी प्रकार का भय नहीं होगा ।इनकी हनु (ठुड्ढी) टूट गयी है इसलिए यह हनुमान कहलाएगा।इसीप्रकार अन्य देवों ने अनेक वरदान दिये। ब्रह्मा जी ने किसी ब्रह्मदण्ड से दण्डित न होने का वरदान दिया।
शेष अगले अंक में
प्रेषक-डाँ0 तेज स्वरूप भारद्वाज
बोलो बाल हनुमान जी की जय

Language: Hindi
522 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जलियांवाला बाग
जलियांवाला बाग
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
कड़वा सच~
कड़वा सच~
दिनेश एल० "जैहिंद"
जीवन एक और रिश्ते अनेक क्यों ना रिश्तों को स्नेह और सम्मान क
जीवन एक और रिश्ते अनेक क्यों ना रिश्तों को स्नेह और सम्मान क
Lokesh Sharma
पोषित करते अर्थ से,
पोषित करते अर्थ से,
sushil sarna
*सरस्वती वन्दना*
*सरस्वती वन्दना*
Ravi Prakash
लक्ष्मी अग्रिम भाग में,
लक्ष्मी अग्रिम भाग में,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
नजर  नहीं  आता  रास्ता
नजर नहीं आता रास्ता
Nanki Patre
आयी प्यारी तीज है,झूलें मिलकर साथ
आयी प्यारी तीज है,झूलें मिलकर साथ
Dr Archana Gupta
Natasha is my Name!
Natasha is my Name!
Natasha Stephen
कैसे हमसे प्यार करोगे
कैसे हमसे प्यार करोगे
KAVI BHOLE PRASAD NEMA CHANCHAL
तुम और मैं
तुम और मैं
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
केना  बुझब  मित्र आहाँ केँ कहियो नहिं गप्प केलहूँ !
केना बुझब मित्र आहाँ केँ कहियो नहिं गप्प केलहूँ !
DrLakshman Jha Parimal
रेतीले तपते गर्म रास्ते
रेतीले तपते गर्म रास्ते
Atul "Krishn"
पिता
पिता
Shweta Soni
* खूबसूरत इस धरा को *
* खूबसूरत इस धरा को *
surenderpal vaidya
औरों की बात मानना अपनी तौहीन लगे, तो सबसे पहले अपनी बात औरों
औरों की बात मानना अपनी तौहीन लगे, तो सबसे पहले अपनी बात औरों
*प्रणय प्रभात*
3223.*पूर्णिका*
3223.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
वार्तालाप अगर चांदी है
वार्तालाप अगर चांदी है
Pankaj Sen
प्रभु नृसिंह जी
प्रभु नृसिंह जी
Anil chobisa
मत हवा दो आग को घर तुम्हारा भी जलाएगी
मत हवा दो आग को घर तुम्हारा भी जलाएगी
इंजी. संजय श्रीवास्तव
सच तो ये भी है
सच तो ये भी है
शेखर सिंह
मुक्तक
मुक्तक
महेश चन्द्र त्रिपाठी
हम भी तो देखे
हम भी तो देखे
हिमांशु Kulshrestha
ये आकांक्षाओं की श्रृंखला।
ये आकांक्षाओं की श्रृंखला।
Manisha Manjari
एक जिद्दी जुनूनी और स्वाभिमानी पुरुष को कभी ईनाम और सम्मान क
एक जिद्दी जुनूनी और स्वाभिमानी पुरुष को कभी ईनाम और सम्मान क
Rj Anand Prajapati
"Communication is everything. Always always tell people exac
पूर्वार्थ
"सफलता की चाह"
Dr. Kishan tandon kranti
ज़िंदगी तेरे मिज़ाज से
ज़िंदगी तेरे मिज़ाज से
Dr fauzia Naseem shad
इस ठग को क्या नाम दें
इस ठग को क्या नाम दें
gurudeenverma198
वो इश्क जो कभी किसी ने न किया होगा
वो इश्क जो कभी किसी ने न किया होगा
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
Loading...