Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 May 2023 · 1 min read

श्री विध्नेश्वर

श्री विघ्नेश्वर
एकदंताय ,
विघ्न विनाशक ,
प्रथम पूज्य गणेश ,
सुखकर्ता दुखहर्ता ,
विघ्नेश्वराय।

वक्रतुण्डाय ,
गजवदन विनायक ,
रिद्धि सिद्धि दाता ,
गौरी नंदन ,
लम्बोदराय।

गणपति ,
मूषक वाहन ,
सकल कष्ट हरो ,
मोदक प्रिय ,
संकटहराय।

शशिकला व्यास*शिल्पी*🌹✍️🙏✨⭐🌟

Language: Hindi
1 Like · 513 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
इस्लामिक देश को छोड़ दिया जाए तो लगभग सभी देश के विश्वविद्या
इस्लामिक देश को छोड़ दिया जाए तो लगभग सभी देश के विश्वविद्या
Rj Anand Prajapati
आपका बुरा वक्त
आपका बुरा वक्त
Paras Nath Jha
देखना हमको फिर नहीं भाता
देखना हमको फिर नहीं भाता
Dr fauzia Naseem shad
अब तक मुकम्मल नहीं हो सका आसमां,
अब तक मुकम्मल नहीं हो सका आसमां,
Anil Mishra Prahari
बस चलता गया मैं
बस चलता गया मैं
Satish Srijan
ये जो मुस्कराहट का,लिबास पहना है मैंने.
ये जो मुस्कराहट का,लिबास पहना है मैंने.
शेखर सिंह
3006.*पूर्णिका*
3006.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
साँसें कागज की नाँव पर,
साँसें कागज की नाँव पर,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
आओ चलें नर्मदा तीरे
आओ चलें नर्मदा तीरे
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
छुट्टी का इतवार( बाल कविता )
छुट्टी का इतवार( बाल कविता )
Ravi Prakash
तेरे भीतर ही छिपा,
तेरे भीतर ही छिपा,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
जीवन को अतीत से समझना चाहिए , लेकिन भविष्य को जीना चाहिए ❤️
जीवन को अतीत से समझना चाहिए , लेकिन भविष्य को जीना चाहिए ❤️
Rohit yadav
एक बिहारी सब पर भारी!!!
एक बिहारी सब पर भारी!!!
Dr MusafiR BaithA
गले की फांस
गले की फांस
Dr. Pradeep Kumar Sharma
हसरतों के गांव में
हसरतों के गांव में
Harminder Kaur
डीएनए की गवाही
डीएनए की गवाही
अभिनव अदम्य
शिक्षक दिवस
शिक्षक दिवस
विजय कुमार अग्रवाल
क्यों बदल जाते हैं लोग
क्यों बदल जाते हैं लोग
VINOD CHAUHAN
मुक्तक
मुक्तक
पंकज कुमार कर्ण
जब लोग आपसे खफा होने
जब लोग आपसे खफा होने
Ranjeet kumar patre
"तोता"
Dr. Kishan tandon kranti
वाह भई वाह,,,
वाह भई वाह,,,
Lakhan Yadav
मौन जीव के ज्ञान को, देता  अर्थ विशाल ।
मौन जीव के ज्ञान को, देता अर्थ विशाल ।
sushil sarna
#क़तआ
#क़तआ
*Author प्रणय प्रभात*
साकार नहीं होता है
साकार नहीं होता है
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
प्रेरणादायक कविता
प्रेरणादायक कविता
Anamika Tiwari 'annpurna '
Next
Next
Rajan Sharma
क्या वायदे क्या इरादे ,
क्या वायदे क्या इरादे ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
छल
छल
Aman Kumar Holy
“नया मुकाम”
“नया मुकाम”
DrLakshman Jha Parimal
Loading...