Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Feb 2024 · 3 min read

श्री राम एक मंत्र है श्री राम आज श्लोक हैं

श्री राम आयेंगे इस सुंदर संकल्प,पावन दिवस पर लिखने के लिए लेखनी भी आतुर है,धन्य भाग जो आज इस सशक्त सनातनी युग के नव निर्माण के लिए लिखने का सौभाग्य प्राप्त हो रहा है।

श्री राम एक मंत्र है, श्री राम एक श्लोक,
श्री राम हो श्याम है, श्री राम ही त्रिलोक।

श्री राम का अवध में प्राण प्रतिष्ठा होना, पृथ्वी पर एक अद्भुत उत्सव है। बरसों से जिस उत्सव की, जिस क्षण की सबकों प्रतिक्षा थी, वो अनमोल रत्न रूपी स्वर्णिम पल हमारे समक्ष है, महोत्सव मनाने का सुनहरा वक्त आ गया है।

क्या? वर्णन करें क्या नहीं, आज मनोरम प्रभु के मनोहर रूप, मनोहर दृश्य का बखान करने के लिए शब्द कम पड़ रहें हैं। भावपूर्ण शब्दों को बयान करने को सामथ्र्य नहीं जान पड़ती।

अपनी अयोध्या नगरी में खुद को आने में श्री राम को बहुत समय लग गया, बहुत संघर्ष किया रामलीला ने।

सातपुरीयो अयोध्या, मथुरा, हरिद्वार, काशी, कांचीपुरम, उज्जैन, द्वारका, इनमें से एक है अयोध्या नगरी। अयोध्या को मनु ने बसाया था। मनभावन स्वर्ग समान नगरी। स्कंद पुराण में भी अयोध्या नगरी और यहां की सरयू नदी की सुंदरता का विश्लेषण है।

आज दीपोत्सव मनाया जा रहा है, विश्व का हर कोना राममय है, अयोध्या नगरी दुल्हन की भाति श्रृंगार कर रही है और पूरा देश अयोध्या नगरी की भांति।

हम सौभाग्यशाली है जो इस स्वप्न को, इस स्वर्णिम युग को साक्षात देख पा रहे हैं।

ये राम लला की जीत का उत्सव है शानदार होना ही चाहिए, अयोध्या के राजा श्रीराम ने अपने मंदिर के लिए, न्याय के मंदिर में बरसों बरस लड़ाई की, जिससे आज उन्हें यह जीत मिली। 5 अगस्त 2020 को राममंदिर का भूमिपूजन हुआ और अब तैयारी है, 22 जनवरी 2024

श्री राम के अयोध्या पधारने की अर्थात रामलला की प्राण-प्रतिष्ठा की। पूरा विश्व, संपूर्ण भारतवर्ष एक स्वर्णिम इतिहास रचने की ओर अग्रसर है। हर घर में रामोत्सव का डंका बज गया है, घर घर पीले चावल पहुंच गये है,

भारत के कोने कोने से अद्भुत साजो सामान लाया गया है। कहीं से विशाल अगरबत्ती, कहीं से चांदी का दीपक, बहुतेरे हवनकुंड से अवध नगरी शोभायमान हो रही है। विशाल अगरबत्ती प्रज्वलित हो चुकी है। लडु, मिटाई और ना जाने क्या क्या श्री राम प्रभु की सेवा में आ गये है।

सारी प्रक्ति झूम उठी है, कोई राम पर गीत गा रहा है, कोई अर्चना कर रहा है चारों दिशाएं भक्तिमय, प्रेम रस से परिपूर्ण हो गई है।

हम सौभाग्यशाली है जो इस स्वर्णिम पल के साक्षी बनेंगे। धन्य भाग, धन्य भाग।

सदियों से जिस क्षण का बेसब्री से इंतजार था, आज वो पड़ी आ गई। मंगल नाम श्री राम का, मंगल काज श्री राम का।

एक मोठा, सुंदर, ऐतिहासिक सपना, जो पूर्ण हो रहा है।

ब्रह्माण्ड साक्षी है, इन अविस्मरणीय क्षणों का।

सारी प्रक्ति अपनी खुशी व्यक्त कर रही है। श्री राम के स्वागत में प्रकृति ने चहुंओर पुष्प वर्षा की है, कोयल राम स्वागत के मधुर गीत गा रही है, मोर अपनी सारी सुंदरता नृत्य के माध्यम से श्री राम को अर्पण कर रहा है। आसमान खुद को खुद से भी ऊंचा महसूस कर रहा है। कैसा सुंदर दृश्य है। चारों ओर संगीत गुंजायमान है। सरस्वती लगता है सबको जिव्हा पर विराजमान हो गई है। सारे देव श्री राम के स्वागत सत्कार के लिए मानों धरा पर उतर आये हो।

हर घर दीपक, हर रास्ते में रांगोली सजाई जा रही है। तरू का हर पात हवा के हल्के झोंकों के साथ श्री राम का वंदन कर रहा है। मंगलगीत गायें जा रहे हैं, बंदनवार सजायें जा रहे हैं। हर मंदिर में रामायण की चौपाइयां गुंजायमान है। भक्त अंजनी पुत्र आज अपने प्रभु के स्वागत में पलकें बिछाए खड़े हैं मानों सेवक बस आज्ञा की प्रतिक्षा में हो। आज की गरिमामयी झांकी निहारने के लिए ये दो आंखें भी कम पड़ जायेगी, अगर ऐसा कहे तो अतिशयोक्ति नहीं होगी। भावपूर्ण हृदय भक्तिमय वातावरण और प्रेम से ओतप्रोत हैं।

जनमानस का रोम रोम पुलकित है। आज के श्री राम प्रभु के वर्णन के लिए लेखनी कम पड़ गई है। इस स्वर्णिम, भक्तिमय, राममय सृष्टि का, सृष्टिकर्ता का गुण गाने के लिए हृदय का हर कोना प्रफुल्लित है। यह सुनहरा वक्त सदैव आशा और सुनहरी याद बनकर दिलों में बस जायेगा।

आप सभी प्रभु राम की कृपा बनी रहे

@शंकर आँजणा

Language: Hindi
74 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सूखी नहर
सूखी नहर
मनोज कर्ण
क्या सितारों को तका है - ग़ज़ल - संदीप ठाकुर
क्या सितारों को तका है - ग़ज़ल - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
मन के सवालों का जवाब नाही
मन के सवालों का जवाब नाही
भरत कुमार सोलंकी
दूर हो गया था मैं मतलब की हर एक सै से
दूर हो गया था मैं मतलब की हर एक सै से
कवि दीपक बवेजा
साहित्य चेतना मंच की मुहीम घर-घर ओमप्रकाश वाल्मीकि
साहित्य चेतना मंच की मुहीम घर-घर ओमप्रकाश वाल्मीकि
Dr. Narendra Valmiki
एक आंसू
एक आंसू
Surinder blackpen
गजल सगीर
गजल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
सर्द आसमां में दिखती हैं, अधूरे चाँद की अंगड़ाईयाँ
सर्द आसमां में दिखती हैं, अधूरे चाँद की अंगड़ाईयाँ
Manisha Manjari
जो मनुष्य सिर्फ अपने लिए जीता है,
जो मनुष्य सिर्फ अपने लिए जीता है,
नेताम आर सी
पेड़ और ऑक्सीजन
पेड़ और ऑक्सीजन
विजय कुमार अग्रवाल
जिसकी जिससे है छनती,
जिसकी जिससे है छनती,
महेश चन्द्र त्रिपाठी
■ क़तआ (मुक्तक)
■ क़तआ (मुक्तक)
*प्रणय प्रभात*
आज की पंक्तिजन्म जन्म का साथ
आज की पंक्तिजन्म जन्म का साथ
कार्तिक नितिन शर्मा
कभी हैं भगवा कभी तिरंगा देश का मान बढाया हैं
कभी हैं भगवा कभी तिरंगा देश का मान बढाया हैं
Shyamsingh Lodhi Rajput (Tejpuriya)
अज़ल से इंतजार किसका है
अज़ल से इंतजार किसका है
Shweta Soni
फर्क नही पड़ता है
फर्क नही पड़ता है
ruby kumari
पिता
पिता
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
कृष्ण कन्हैया
कृष्ण कन्हैया
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
There will be moments in your life when people will ask you,
There will be moments in your life when people will ask you,
पूर्वार्थ
*** होली को होली रहने दो ***
*** होली को होली रहने दो ***
Chunnu Lal Gupta
कल?
कल?
Neeraj Agarwal
*कर्मफल सिद्धांत*
*कर्मफल सिद्धांत*
Shashi kala vyas
कोरोंना
कोरोंना
Bodhisatva kastooriya
अपराह्न का अंशुमान
अपराह्न का अंशुमान
Satish Srijan
*ऐसा हमेशा कृष्ण जैसा, मित्र होना चाहिए (मुक्तक)*
*ऐसा हमेशा कृष्ण जैसा, मित्र होना चाहिए (मुक्तक)*
Ravi Prakash
**सिकुड्ता व्यक्तित्त्व**
**सिकुड्ता व्यक्तित्त्व**
DR ARUN KUMAR SHASTRI
पराठों का स्वर्णिम इतिहास
पराठों का स्वर्णिम इतिहास
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
राम रावण युद्ध
राम रावण युद्ध
Kanchan verma
"बोली-दिल से होली"
Dr. Kishan tandon kranti
मेरे हैं बस दो ख़ुदा
मेरे हैं बस दो ख़ुदा
The_dk_poetry
Loading...