Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Nov 2021 · 3 min read

श्री रमेश जैन द्वारा “कहते रवि कविराय” कुंडलिया संग्रह की सराहना : मेरा सौभाग्य

श्री रमेश जैन द्वारा “कहते रवि कविराय” कुंडलिया संग्रह की सराहना : मेरा सौभाग्य
■■■■■■■■■■■■■■■■■■■■■■■■■■■■■■■■■■■■■■■■■
अग्रणी सामाजिक कार्यकर्ता श्री रमेश जैन आज दिनांक 20 नवंबर 2021 को मेरी पुस्तक कहते रवि कविराय पर कुछ टिप्पणियों के साथ मेरी दुकान पर पधारे। आपने बताया कि कल ही 19 नवंबर को आपके द्वारा समस्त 260 कुंडलियों को पढ़ने का कार्य पूरा हुआ है । पुस्तक के अंत में आपने जो – जो कुंडलियाँ आपको विशेष रुचिकर लगीं, उनका कुंडलिया संख्या तथा पृष्ठ संख्या अंकित करते हुए उल्लेख किया हुआ था । पुस्तक पर 19 नवंबर 2021 की तिथि भी अंकित थी ।
कुंडलिया संख्या 223 आया फागुन आपको अत्यधिक पसंद आई । आपने उस पर अति सुंदर (वेरी गुड) अंकित किया हुआ था । आया फागुन शीर्षक से कुंडलिया इस प्रकार है :

आया फागुन स्वागतम ,अभिनंदन ऋतुराज
अंतरिक्ष से आ रही ,बंसी की आवाज
बंसी की आवाज ,साँस में मस्ती छाती
गई शीत की रात ,पवन चलती मुस्काती
कहते रवि कविराय ,गीत पेड़ों ने गाया
फूलों का मकरंद ,चूसने भौंरा आया

रमेश कुमार जैन साहब से मिली सराहना वास्तव में बहुत मूल्यवान है ।आप खरी-खरी कहने के लिए प्रसिद्ध हैं। आप से प्रशंसा तभी मिलती है ,जब आपको कोई वस्तु या कार्य प्रशंसा के योग्य जान पड़ता है। प्रसंग वश आपने जानकारी दी कि सब प्रकार के फूलों पर भौंरा मँडराता है लेकिन चंपा के फूल पर नहीं आता । जबकि चंपा का फूल जब खिलता है तो सबसे ज्यादा खुशबू फैलती है ।
हरसिंगार के फूलों को आपने बताया कि नजदीक से मैंने पेड़ों से झड़ते हुए देखा है ।यह वर्ष में कुछ खास अवधि में ही खिलते और झड़ते हैं । इसी तरह से सेमल का फूल है जिसकी लालिमा से एक प्रकार से शिवजी का अभिषेक होता है । एक फल संभवतः अलूचे का आपने नाम लिया था जिसका फूल इतना सुंदर होता है कि अगर उसे कुछ सेकेंड के लिए भी टकटकी लगाकर देख लिया जाए तो नेत्रों की ज्योति बढ़ जाती है । मुझे याद आता है आपने कुछ समय पूर्व एक संस्मरण भी सुनाया था कि किस प्रकार पंतनगर कृषि विश्वविद्यालय के वाइस चांसलर के द्वार पर आपने एक पेड़ देखा और उस पर जो कविता लिखी ,उस कविता के रचयिता की तलाश में वाइस चांसलर महोदय रामपुर में आप का पता ढूंढते रहे थे ।
बातचीत के मध्य आपने उल्लेख किया लोक अदालत में न्याय के आसन पर बैठकर लगभग 10 – 15 वर्ष तक सिविल मामलों के विवादों का फैसला करवाने में अपनी भूमिका का । आपने कहा कि तलाक करवाना कभी भी आपका ध्येय नहीं रहा। आप पति-पत्नी के विवादों को परस्पर सामंजस्य के साथ निपटाने के लिए प्रयत्नशील रहते थे ।आपने अनेक मुकदमे आपसी समझौते के आधार पर सुलह की ओर अग्रसर किए और परिवार बिखरने से बच गये।
एक मामले का उल्लेख करते हुए आपने बताया कि पति विवाह के पश्चात अपनी पत्नी को भेंट में जब कुछ न दे सका, तो इसी बात पर विवाद शुरू हो गया। बढ़ता गया । आपने पूछा कि सोने की वह उपहार की वस्तु कितने रुपए में आएगी ? लड़की ने कहा दो हजार में आ जाएगी । आपने अपनी जेब से दो हजार रुपए निकालकर उस लड़की को दे दिए । मामला चुटकियों में सुलझ गया । यद्यपि लड़की का पिता खुश नहीं था । आपने यह अनुभव किया है कि अनेक बार माता-पिता की दखलंदाजी से पति-पत्नी का दांपत्य जीवन बिखर जाता है। कई बार माता-पिता का लड़की को अपने साथ रखने में स्वार्थ होता है । विवाद का कारण कुछ भी हो ,आप की भूमिका मामले को खुशनुमा तरीके से निपटाने की रही ।
उत्तर प्रदेश के राज्यपाल डॉ. चेन्ना रेड्डी से आपकी अच्छी मुलाकात रहती थी। आपके कथनानुसार तीन महीने में या तो चेन्ना रेड्डी साहब आपसे मिलने आ जाते थे या फिर लखनऊ राजभवन में आपको बुला लेते थे । यह निश्चल आत्मीयता से भरा संबंध था । आपने कभी भी अपने व्यक्तिगत लाभ के लिए डॉक्टर चेन्ना रेड्डी से कुछ नहीं माँगा ।
सचमुच आप विचारों और कार्यों की दृष्टि से एक दिव्य चेतना से ओतप्रोत फकीर हैं । पुनः काव्य संग्रह की सराहना के लिए आपका हृदय से आभार ।।

1 Like · 350 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
परम सत्य
परम सत्य
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
चला मुरारी हीरो बनने ....
चला मुरारी हीरो बनने ....
Abasaheb Sarjerao Mhaske
जाने क्या-क्या कह गई, उनकी झुकी निग़ाह।
जाने क्या-क्या कह गई, उनकी झुकी निग़ाह।
sushil sarna
पराक्रम दिवस
पराक्रम दिवस
Bodhisatva kastooriya
तेरे जागने मे ही तेरा भला है
तेरे जागने मे ही तेरा भला है
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
ऐ बादल अब तो बरस जाओ ना
ऐ बादल अब तो बरस जाओ ना
नूरफातिमा खातून नूरी
*गली-गली में घूम रहे हैं, यह कुत्ते आवारा (गीत)*
*गली-गली में घूम रहे हैं, यह कुत्ते आवारा (गीत)*
Ravi Prakash
*
*"मुस्कराने की वजह सिर्फ तुम्हीं हो"*
Shashi kala vyas
रिश्ते
रिश्ते
पूर्वार्थ
कागज़ से बातें
कागज़ से बातें
krishna waghmare , कवि,लेखक,पेंटर
ध्यान में इक संत डूबा मुस्कुराए
ध्यान में इक संत डूबा मुस्कुराए
Shivkumar Bilagrami
Kabhi kitabe pass hoti hai
Kabhi kitabe pass hoti hai
Sakshi Tripathi
ग़ज़ल/नज़्म - हुस्न से तू तकरार ना कर
ग़ज़ल/नज़्म - हुस्न से तू तकरार ना कर
अनिल कुमार
क्या पता मैं शून्य न हो जाऊं
क्या पता मैं शून्य न हो जाऊं
The_dk_poetry
संन्यास के दो पक्ष हैं
संन्यास के दो पक्ष हैं
हिमांशु Kulshrestha
2624.पूर्णिका
2624.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
सच्चाई का रास्ता
सच्चाई का रास्ता
Sunil Maheshwari
प्रिय भतीजी के लिए...
प्रिय भतीजी के लिए...
डॉ.सीमा अग्रवाल
“आँख के बदले आँख पूरी दुनिया को अँधा बना देगी”- गांधी जी
“आँख के बदले आँख पूरी दुनिया को अँधा बना देगी”- गांधी जी
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
जब सावन का मौसम आता
जब सावन का मौसम आता
लक्ष्मी सिंह
संवेदना की बाती
संवेदना की बाती
Ritu Asooja
बेटियाँ
बेटियाँ
Raju Gajbhiye
अतिथि देवोभवः
अतिथि देवोभवः
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
**सिकुड्ता व्यक्तित्त्व**
**सिकुड्ता व्यक्तित्त्व**
DR ARUN KUMAR SHASTRI
आज गरीबी की चौखट पर (नवगीत)
आज गरीबी की चौखट पर (नवगीत)
Rakmish Sultanpuri
जब बेटा पिता पे सवाल उठाता हैं
जब बेटा पिता पे सवाल उठाता हैं
Nitu Sah
🙅आज पता चला🙅
🙅आज पता चला🙅
*प्रणय प्रभात*
कुछ पल
कुछ पल
Mahender Singh
प्रकृति को त्यागकर, खंडहरों में खो गए!
प्रकृति को त्यागकर, खंडहरों में खो गए!
विमला महरिया मौज
बहुत खूबसूरत सुबह हो गई है।
बहुत खूबसूरत सुबह हो गई है।
surenderpal vaidya
Loading...