Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Jul 2023 · 1 min read

श्रावण सोमवार

श्रावण सोमवार

श्रावण सोमवार का मेला है, त्यौहार बड़ा अलबेला है
हर हर बम बम भोले गूंज रहा, जन- दर्शन को उमड़ रहा
बादल अभिषेक को आए हैं, घनघोर घटाएं लाए हैं
सावन जमकर बरस रहा, जलधार धरा को चढ़ा रहा
उमड़ रही सर सरिताएं, खेत बाग तरूवर लताएं
फूट पड़े झरने गिरवर से, कल कल गीत खुशी के गाएं
धरती अंबर का प्रेम मिलन है, प्रकृति का हर जीव मगन है
त्रय ताप का हुआ समन है, नाच रहा है मन मयूर
बिजली और मेघ नर्तन है
सजे हुए हर ओर शिवाले, तीर्थ सरोवर मंदिर सारे
जन समुद्र की लहरें जैसे, शिव सागर के आईं किनारे
पुष्प पत्र फलफूल लिए, धानी चूनर धरा है धारे
नयनाभिराम हर दृश्य धरा पर, मन मोह रहा नैना रतनारे
श्रावण सोमवार अनुपम है, ऊं नमः शिवाय मंत्र उचारे
हर हर गंगे हर महादेव ओमकार गगन में गूंजा रे
सुरेश कुमार चतुर्वेदी

3 Likes · 183 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from सुरेश कुमार चतुर्वेदी
View all
You may also like:
कविता-
कविता- "हम न तो कभी हमसफ़र थे"
Dr Tabassum Jahan
प्रश्न  शूल आहत करें,
प्रश्न शूल आहत करें,
sushil sarna
"मन और मनोबल"
Dr. Kishan tandon kranti
संवेदना का कवि
संवेदना का कवि
Shweta Soni
साइकिल चलाने से प्यार के वो दिन / musafir baitha
साइकिल चलाने से प्यार के वो दिन / musafir baitha
Dr MusafiR BaithA
जिसको भी चाहा तुमने साथी बनाना
जिसको भी चाहा तुमने साथी बनाना
gurudeenverma198
****रघुवीर आयेंगे****
****रघुवीर आयेंगे****
Kavita Chouhan
*रामचरितमानस का पाठ : कुछ दोहे*
*रामचरितमानस का पाठ : कुछ दोहे*
Ravi Prakash
हर सांस का कर्ज़ बस
हर सांस का कर्ज़ बस
Dr fauzia Naseem shad
ज़िंदगी की उलझन;
ज़िंदगी की उलझन;
शोभा कुमारी
कविता
कविता
Rambali Mishra
लाल रंग मेरे खून का,तेरे वंश में बहता है
लाल रंग मेरे खून का,तेरे वंश में बहता है
Pramila sultan
अच्छाई बनाम बुराई :- [ अच्छाई का फल ]
अच्छाई बनाम बुराई :- [ अच्छाई का फल ]
Surya Barman
जिन्दगी
जिन्दगी
लक्ष्मी सिंह
मुझे इस दुनिया ने सिखाया अदाबत करना।
मुझे इस दुनिया ने सिखाया अदाबत करना।
Phool gufran
पीने -पिलाने की आदत तो डालो
पीने -पिलाने की आदत तो डालो
सिद्धार्थ गोरखपुरी
गजल सगीर
गजल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
हम
हम
Dr. Pradeep Kumar Sharma
"मोहे रंग दे"
Ekta chitrangini
।।
।।
*प्रणय प्रभात*
* भैया दूज *
* भैया दूज *
surenderpal vaidya
मन के सवालों का जवाब नाही
मन के सवालों का जवाब नाही
भरत कुमार सोलंकी
!! मैं उसको ढूंढ रहा हूँ !!
!! मैं उसको ढूंढ रहा हूँ !!
Chunnu Lal Gupta
बृद्ध  हुआ मन आज अभी, पर यौवन का मधुमास न भूला।
बृद्ध हुआ मन आज अभी, पर यौवन का मधुमास न भूला।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
बधाई
बधाई
Satish Srijan
सौगंध
सौगंध
Shriyansh Gupta
कश्मकश
कश्मकश
swati katiyar
प्रकृति
प्रकृति
Sûrëkhâ
प्रेम भरे कभी खत लिखते थे
प्रेम भरे कभी खत लिखते थे
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
Bundeli Doha-Anmane
Bundeli Doha-Anmane
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
Loading...