Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Oct 2023 · 2 min read

श्राद्ध

श्राद्ध
“हेलो पण्डित जी प्रणाम!…… मैं श्यामलाल जी का बेटा प्रकाश बोल रहा हूं, आयुष्मान भव बेटा!….. कहो कैसे याद किया आज सुबह सुबह। जी पण्डित दरअसल बात ये है कि हमारे पिताजी का स्वर्गवास हुए एक साल हो गए हैं और उनका श्राद्ध का कार्यक्रम हम धूमधाम से मना रहे हैं जिसमें मैंने नाते रिश्तेदारों के अलावा ग्यारह ब्राम्हणों को भोजन कराने की सोच रखी है इसलिए आप भी जरूर आईएगा, ठीक है बेटा हम जरूर आएंगे कहकर पण्डित जी ने हामी भरी फिर प्रकाश ने फोन रखा और तैयारियों का जायजा लेने चला गया।
इधर उनकी बातें सुन रहा प्रकाश का एक बुजुर्ग रिश्तेदार अपनी पत्नी से प्रकाश की तारीफ करते हुए, देख रही हो भाग्यवान कितना नेक लड़का है अपने पिताजी के लिए इसके मन में कितना स्नेह है उनका श्राद्ध करने के लिए कितने जतन कर रहा है, ईश्वर ऐसा बेटा सभी को दे।
इस पर प्रकाश का एक पड़ोसी जो वहीं खड़ा था उसने उन्हें टोकते हुए कहा, ऐसा बेटा ईश्वर किसी को न से कहिए महोदय, जब ये छोटा था इसके मां बाप ने इसे पढ़ा लिखाकर बड़ा आदमी बनाने के लिए जी तोड़ मेहनत करने में ही अपनी जिन्दगी गुजार दी और जब यह उनका सहारा बनने के काबिल हुआ तो उन्हें अपने हाल पर छोड़कर शहर में नौकरी करने चला गया फिर कभी इसके पास इतनी भी फुरसत नहीं थी कि अपने मां बाप की खोज खबर ले सके।
जब इसकी मां का देहान्त हुआ था तब हमने ही इसे फोन करके बुलाया था और अपनी व्यस्तता का हवाला देकर शोक कार्यक्रम फटाफट निपटाके यह फिर वापस शहर चला गया, अपने पिता को यहां चार दीवारों के बीच अकेला छोड़कर और इसी अकेलेपन में कुछ समय बाद वो भी चल बसे।
आज अपने पिताजी के निधन को एक बरस पूरे होने पर बड़ा श्रवण कुमार बना यहां उनका श्राद्ध मनाने आया है और दिखावा देखिए श्राद्ध को भी किसी कार्यक्रम की तरह धूमधाम से मनाने की बात कह रहा है बेशर्म, ऐसा बेटा ईश्वर किसी को न दे…..यह कहकर वो पड़ोसी दांत पिसता हुआ अपने घर में चला गया और वो बुजुर्ग भी उसे जाता हुआ देखकर ये सोचते शांत खड़े थे कि काश वो प्रकाश की तारीफ में कहे अपने शब्द वापस ले सकते।

1 Like · 147 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
इस दुनिया के रंगमंच का परदा आखिर कब गिरेगा ,
इस दुनिया के रंगमंच का परदा आखिर कब गिरेगा ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
अजीज़ सारे देखते रह जाएंगे तमाशाई की तरह
अजीज़ सारे देखते रह जाएंगे तमाशाई की तरह
_सुलेखा.
तर्क-ए-उल्फ़त
तर्क-ए-उल्फ़त
Neelam Sharma
2793. *पूर्णिका*
2793. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
नव प्रबुद्ध भारती
नव प्रबुद्ध भारती
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
"आज का आदमी"
Dr. Kishan tandon kranti
साथ
साथ
Dr fauzia Naseem shad
है कहीं धूप तो  फिर  कही  छांव  है
है कहीं धूप तो फिर कही छांव है
कुंवर तुफान सिंह निकुम्भ
दो दिन
दो दिन
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
. inRaaton Ko Bhi Gajab Ka Pyar Ho Gaya Hai Mujhse
. inRaaton Ko Bhi Gajab Ka Pyar Ho Gaya Hai Mujhse
Ankita Patel
शिवाजी गुरु समर्थ रामदास – पंचवटी में प्रभु दर्शन – 04
शिवाजी गुरु समर्थ रामदास – पंचवटी में प्रभु दर्शन – 04
Sadhavi Sonarkar
कैसी लगी है होड़
कैसी लगी है होड़
Sûrëkhâ
आंगन महक उठा
आंगन महक उठा
Harminder Kaur
माँ
माँ
Arvina
आज़ादी की क़ीमत
आज़ादी की क़ीमत
Shekhar Chandra Mitra
■ रहस्यमयी कविता
■ रहस्यमयी कविता
*Author प्रणय प्रभात*
पापा गये कहाँ तुम ?
पापा गये कहाँ तुम ?
Surya Barman
विदाई
विदाई
Aman Sinha
*धरती के सागर चरण, गिरि हैं शीश समान (कुंडलिया)*
*धरती के सागर चरण, गिरि हैं शीश समान (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
शेर
शेर
Monika Verma
Asman se khab hmare the,
Asman se khab hmare the,
Sakshi Tripathi
बात तनिक ह हउवा जादा
बात तनिक ह हउवा जादा
Sarfaraz Ahmed Aasee
मैं तो महज एक नाम हूँ
मैं तो महज एक नाम हूँ
VINOD CHAUHAN
" खुशी में डूब जाते हैं "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
*Near Not Afar*
*Near Not Afar*
Poonam Matia
यदि कोई आपकी कॉल को एक बार में नहीं उठाता है तब आप यह समझिए
यदि कोई आपकी कॉल को एक बार में नहीं उठाता है तब आप यह समझिए
Rj Anand Prajapati
क्यों नहीं देती हो तुम, साफ जवाब मुझको
क्यों नहीं देती हो तुम, साफ जवाब मुझको
gurudeenverma198
अमन तहज़ीब के परचम को हम ईमान कहते हैं।
अमन तहज़ीब के परचम को हम ईमान कहते हैं।
Phool gufran
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
मेरा दुश्मन
मेरा दुश्मन
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
Loading...