Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 May 2018 · 2 min read

श्रमिक

श्रम‌दिवस पर विशेष
(वर्ष १९८४ में सृजित एक रचना)
-०-०-०-०-०-०-०-०-०-०-०-०-
श्रमिक
********
सिसक रहा संसार श्रमिक का
तुम उसकी तकदीर जगा दो
उठो राम !
इस पूँजीवादी रावण में अब आग लगा दो ।
*
निश्चय ही कुछ गलत नीतियाँ पनप रही हैं
अर्थ व्यवस्था पर अजगर की सी जकड़न है
लोग केंचुए जैसे रेंग रहे धरती पर
लगता नहीं कि इनके दिल में भी धड़कन है
और जौंक से संस्कार चिपके हैं तन पर
बैठे हैं कुछ लोग कुंडली मारे धन पर
बहुत विषैली फुफकारें और दंश सहा है
सूख चुका है माँस मात्र कंकाल बचा है
तोड़ो दाँत तक्षकों के जबड़ों के अब तो
जर्जर मानवता के मन में
नवजीवन की आस जगा दो
उठो राम !
इस पूँजीवादी रावण में अब आग लगा दो ।
*
विषधर पीता दूध वमन विष ही करता है
अवसर पाकर जी भर दंश दिया करता है
रोज रोज के दंशों ने जो नशा दिया है
श्रम को उन दंशों का आदी बना दिया है
और भाग्य की बात बता कर श्रम रोता है
ठठरी के आँचल में जा छुपकर सोता है
चिमनी से बन धुँआ मांस तन का उड़ जाता
खून धमनियों में जल कर काला पड़ जाता
और टकों में बिक जाता है गरम पसीना
खुके आम डल रही डकैती
कुछ पैने प्रतिबंध लगा दो
उठो राम‌!
इस पूँजीवादी रावण को अब आग लगा दो ।
*
जिस दिन अँगड़ाई लेकर श्रम जाग उठेगा
उस माँगेगी हिसाब हर बूँद खून की
आहों का हिसाब करना आसान नहीं‌ है
आहों का हिसाब बनती है क्रांति खून‌ की
थैली शाहों को इतना समझा दो भाई
थैली अपने साथ करोड़ों आहें लाई
बंद तिजोरी में आहें बारूद बनेंगी
सुलगेंगी, दहकेंगी और विस्फोट करेंगी
अच्छा होगा यही कि ढह जाने से पहले
खोलो बंद तिजोरी के पट
कैदी आहें दूर भगा दो
उठो राम !
इस पूँजीवादी रावण में अब आग लगा दो ।
*
जिन हाथों ने थामे हँसिया और हथौड़े
जिनके है शृंगार खुरपिया और फावड़े
बंदूकों के बट जिनके काँधे सजते हैं
जिनकी उँगली हाथ मशीनों से कटते हैं
जो बाॅयलर के तेज ताप से जूझा करते
निशिदिन जिनके हाथ कलम की पूजा करते
इन मेहनतकश में ही राम छिपे होते हैं
मुफ्तखोर साधू भगवान नहीं होते हैं
अवसर रहते पहचानो श्रम के महत्व को
श्रम पूजा है पूर्ण ब्रह्म की
श्रम की घर-घर ज्योति जगा दो
उठो राम !
इस पूँजीवादी रावण में‌ अब आग लगा दो ।
*****
-महेश जैन ‘ज्योति’
***
(सृजन वर्ष-१९८४)

Language: Hindi
246 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Mahesh Jain 'Jyoti'
View all
You may also like:
कुछ अपनें ऐसे होते हैं,
कुछ अपनें ऐसे होते हैं,
Yogendra Chaturwedi
इलेक्शन ड्यूटी का हौव्वा
इलेक्शन ड्यूटी का हौव्वा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
.तेरी यादें समेट ली हमने
.तेरी यादें समेट ली हमने
Dr fauzia Naseem shad
"काफ़ी अकेला हूं" से "अकेले ही काफ़ी हूं" तक का सफ़र
ओसमणी साहू 'ओश'
हीर मात्रिक छंद
हीर मात्रिक छंद
Subhash Singhai
*
*"मजदूर"*
Shashi kala vyas
वज़्न ---221 1221 1221 122 बह्र- बहरे हज़ज मुसम्मन अख़रब मक़्फूफ़ मक़्फूफ़ मुखंन्नक सालिम अर्कान-मफ़ऊल मुफ़ाईलु मुफ़ाईलु फ़ऊलुन
वज़्न ---221 1221 1221 122 बह्र- बहरे हज़ज मुसम्मन अख़रब मक़्फूफ़ मक़्फूफ़ मुखंन्नक सालिम अर्कान-मफ़ऊल मुफ़ाईलु मुफ़ाईलु फ़ऊलुन
Neelam Sharma
जानते वो भी हैं...!!
जानते वो भी हैं...!!
Kanchan Khanna
2646.पूर्णिका
2646.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
" मिलकर एक बनें "
Pushpraj Anant
मोहब्बत का मेरी, उसने यूं भरोसा कर लिया।
मोहब्बत का मेरी, उसने यूं भरोसा कर लिया।
इ. प्रेम नवोदयन
"ऐ मुसाफिर"
Dr. Kishan tandon kranti
Acrostic Poem
Acrostic Poem
jayanth kaweeshwar
🙅आज का टोटका🙅
🙅आज का टोटका🙅
*प्रणय प्रभात*
आज दिवस है  इश्क का, जी भर कर लो प्यार ।
आज दिवस है इश्क का, जी भर कर लो प्यार ।
sushil sarna
बदला है
बदला है
इंजी. संजय श्रीवास्तव
Not a Choice, But a Struggle
Not a Choice, But a Struggle
पूर्वार्थ
मैं और मेरी तन्हाई
मैं और मेरी तन्हाई
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
सपना देखना अच्छी बात है।
सपना देखना अच्छी बात है।
Paras Nath Jha
लिखना
लिखना
Shweta Soni
रात स्वप्न में दादी आई।
रात स्वप्न में दादी आई।
Vedha Singh
वीकेंड
वीकेंड
Mukesh Kumar Sonkar
प्रेम
प्रेम
Pushpa Tiwari
हाल मियां।
हाल मियां।
Acharya Rama Nand Mandal
मिली जिस काल आजादी, हुआ दिल चाक भारत का।
मिली जिस काल आजादी, हुआ दिल चाक भारत का।
डॉ.सीमा अग्रवाल
लोग दुर चले जाते पर,
लोग दुर चले जाते पर,
Radha Bablu mishra
ਹਕੀਕਤ ਜਾਣਦੇ ਹਾਂ
ਹਕੀਕਤ ਜਾਣਦੇ ਹਾਂ
Surinder blackpen
वो खिड़की जहां से देखा तूने एक बार
वो खिड़की जहां से देखा तूने एक बार
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
जिंदगी है कि जीने का सुरूर आया ही नहीं
जिंदगी है कि जीने का सुरूर आया ही नहीं
Deepak Baweja
रण प्रतापी
रण प्रतापी
Lokesh Singh
Loading...