Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 May 2023 · 1 min read

“श्रमिकों को निज दिवस पर, ख़ूब मिला उपहार।

“श्रमिकों को निज दिवस पर, ख़ूब मिला उपहार।
फँसे रहो बस काम में, भोगों कष्ट अपार।।”

■प्रणय प्रभात■

1 Like · 160 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जमाना तो डरता है, डराता है।
जमाना तो डरता है, डराता है।
Priya princess panwar
जिंदगी और रेलगाड़ी
जिंदगी और रेलगाड़ी
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
करती गहरे वार
करती गहरे वार
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
छोड़ कर मुझे कहा जाओगे
छोड़ कर मुझे कहा जाओगे
Anil chobisa
सत्य की खोज
सत्य की खोज
Neeraj Agarwal
अपनी आवाज में गीत गाना तेरा
अपनी आवाज में गीत गाना तेरा
Shweta Soni
16. आग
16. आग
Rajeev Dutta
प्यार में बदला नहीं लिया जाता
प्यार में बदला नहीं लिया जाता
Shekhar Chandra Mitra
श्री रामचरितमानस में कुछ स्थानों पर घटना एकदम से घटित हो जाती है ऐसे ही एक स्थान पर मैंने यह
श्री रामचरितमानस में कुछ स्थानों पर घटना एकदम से घटित हो जाती है ऐसे ही एक स्थान पर मैंने यह "reading between the lines" लिखा है
SHAILESH MOHAN
दोहे-
दोहे-
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
2629.पूर्णिका
2629.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
मे कोई समस्या नहीं जिसका
मे कोई समस्या नहीं जिसका
Ranjeet kumar patre
तू इतनी खूबसूरत है...
तू इतनी खूबसूरत है...
आकाश महेशपुरी
अजनबी !!!
अजनबी !!!
Shaily
जीवन में भी
जीवन में भी
Dr fauzia Naseem shad
इश्क- इबादत
इश्क- इबादत
Sandeep Pande
Red is red
Red is red
Dr. Vaishali Verma
-        🇮🇳--हमारा ध्वज --🇮🇳
- 🇮🇳--हमारा ध्वज --🇮🇳
Mahima shukla
डर के आगे जीत।
डर के आगे जीत।
Anil Mishra Prahari
"शत्रुता"
Dr. Kishan tandon kranti
राधा और मुरली को भी छोड़ना पड़ता हैं?
राधा और मुरली को भी छोड़ना पड़ता हैं?
The_dk_poetry
बरखा
बरखा
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
हम मुहब्बत कर रहे थे........
हम मुहब्बत कर रहे थे........
shabina. Naaz
भूख
भूख
नाथ सोनांचली
एकता
एकता
Dr. Pradeep Kumar Sharma
🙅आज🙅
🙅आज🙅
*Author प्रणय प्रभात*
कहाँ से लाऊँ वो उम्र गुजरी हुई
कहाँ से लाऊँ वो उम्र गुजरी हुई
डॉ. दीपक मेवाती
ना तुमसे बिछड़ने का गम है......
ना तुमसे बिछड़ने का गम है......
Ashish shukla
अलविदा
अलविदा
ruby kumari
हर चढ़ते सूरज की शाम है,
हर चढ़ते सूरज की शाम है,
Lakhan Yadav
Loading...