Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Sep 2022 · 1 min read

श्रद्धा से शीश झुकाऍं (गीत)

श्रद्धा से शीश झुकाऍं (गीत)
***********
जीवन-भर निज पुरखों को, श्रद्धा से शीश झुकाऍं
(1)
चले गए जो जग से उनके, सौ- सौ ऋण हैं भारी
हमें चाहिए हम उनके, हों सदा-सदा आभारी
याद करें एहसानों को, उनके पावन गुण गाऍं
(2)
जन्म दिया था और पकड़, उँगली चलना सिखलाया
पालन – पोषण किया हमारा, जग में उच्च बनाया
सोचें तो उनका अथाह-ऋण, शायद चुका न पाऍं
(3)
करें याद हम दादी-बाबा, परबाबा-परदादी
कितना प्रेम छुपा था उनमें, आओ करें मुनादी
चित्र सँजो कर मन में उनके, साँसों को महकाऍं
जीवन-भर निज पुरखों को, श्रद्धा से शीश झुकाऍं
*********************************
रचयिता :रवि प्रकाश, बाजार सर्राफा
रामपुर (उत्तर प्रदेश )
मोबाइल 99976 15451

1 Like · 126 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
*दिल में  बसाई तस्वीर है*
*दिल में बसाई तस्वीर है*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
चौकड़िया छंद के प्रमुख नियम
चौकड़िया छंद के प्रमुख नियम
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
रिसाइकल्ड रिश्ता - नया लेबल
रिसाइकल्ड रिश्ता - नया लेबल
Atul "Krishn"
बादल गरजते और बरसते हैं
बादल गरजते और बरसते हैं
Neeraj Agarwal
"सबूत"
Dr. Kishan tandon kranti
Republic Day
Republic Day
Tushar Jagawat
चला रहें शिव साइकिल
चला रहें शिव साइकिल
लक्ष्मी सिंह
★HAPPY FATHER'S DAY ★
★HAPPY FATHER'S DAY ★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
मां कात्यायनी
मां कात्यायनी
Mukesh Kumar Sonkar
रिश्ते-नाते गौण हैं, अर्थ खोय परिवार
रिश्ते-नाते गौण हैं, अर्थ खोय परिवार
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
💐प्रेम कौतुक-532💐
💐प्रेम कौतुक-532💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
सोच के रास्ते
सोच के रास्ते
Dr fauzia Naseem shad
मां तुम्हें सरहद की वो बाते बताने आ गया हूं।।
मां तुम्हें सरहद की वो बाते बताने आ गया हूं।।
Ravi Yadav
बलबीर
बलबीर
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
चंद एहसासात
चंद एहसासात
Shyam Sundar Subramanian
#काव्य_कटाक्ष
#काव्य_कटाक्ष
*Author प्रणय प्रभात*
गणतंत्र दिवस
गणतंत्र दिवस
विजय कुमार अग्रवाल
खेल जगत का सूर्य
खेल जगत का सूर्य
आकाश महेशपुरी
धारा छंद 29 मात्रा , मापनी मुक्त मात्रिक छंद , 15 - 14 , यति गाल , पदांत गा
धारा छंद 29 मात्रा , मापनी मुक्त मात्रिक छंद , 15 - 14 , यति गाल , पदांत गा
Subhash Singhai
जुबां पर मत अंगार रख बरसाने के लिए
जुबां पर मत अंगार रख बरसाने के लिए
Anil Mishra Prahari
जेएनयू
जेएनयू
Shekhar Chandra Mitra
"प्यार तुमसे करते हैं "
Pushpraj Anant
दिखाओ लार मनैं मेळो, ओ मारा प्यारा बालम जी
दिखाओ लार मनैं मेळो, ओ मारा प्यारा बालम जी
gurudeenverma198
रंजीत कुमार शुक्ल
रंजीत कुमार शुक्ल
Ranjeet Kumar Shukla
देखकर प्यारा सवेरा
देखकर प्यारा सवेरा
surenderpal vaidya
Mere hisse me ,
Mere hisse me ,
Sakshi Tripathi
उसे गवा दिया है
उसे गवा दिया है
Awneesh kumar
'शत्रुता' स्वतः खत्म होने की फितरत रखती है अगर उसे पाला ना ज
'शत्रुता' स्वतः खत्म होने की फितरत रखती है अगर उसे पाला ना ज
satish rathore
सितारों को आगे बढ़ना पड़ेगा,
सितारों को आगे बढ़ना पड़ेगा,
Slok maurya "umang"
Loading...