Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Sep 2022 · 1 min read

श्रद्धा से शीश झुकाऍं (गीत)

श्रद्धा से शीश झुकाऍं (गीत)
***********
जीवन-भर निज पुरखों को, श्रद्धा से शीश झुकाऍं
(1)
चले गए जो जग से उनके, सौ- सौ ऋण हैं भारी
हमें चाहिए हम उनके, हों सदा-सदा आभारी
याद करें एहसानों को, उनके पावन गुण गाऍं
(2)
जन्म दिया था और पकड़, उँगली चलना सिखलाया
पालन – पोषण किया हमारा, जग में उच्च बनाया
सोचें तो उनका अथाह-ऋण, शायद चुका न पाऍं
(3)
करें याद हम दादी-बाबा, परबाबा-परदादी
कितना प्रेम छुपा था उनमें, आओ करें मुनादी
चित्र सँजो कर मन में उनके, साँसों को महकाऍं
जीवन-भर निज पुरखों को, श्रद्धा से शीश झुकाऍं
*********************************
रचयिता :रवि प्रकाश, बाजार सर्राफा
रामपुर (उत्तर प्रदेश )
मोबाइल 99976 15451

1 Like · 57 Views
Join our official announcements group on Whatsapp & get all the major updates from Sahityapedia directly on Whatsapp.

Books from Ravi Prakash

You may also like:
निराली है तेरी छवि हे कन्हाई
निराली है तेरी छवि हे कन्हाई
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
'अकेलापन'
'अकेलापन'
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
सब कुछ हमारा हमी को पता है
सब कुछ हमारा हमी को पता है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
"अंकों की भाषा"
Dr. Kishan tandon kranti
भगवावस्त्र
भगवावस्त्र
डॉ प्रवीण ठाकुर
तुझसे कुछ नहीं चाहिये ए जिन्दगीं
तुझसे कुछ नहीं चाहिये ए जिन्दगीं
Jay Dewangan
★गैर★
★गैर★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
*बड़े नखरों से आना, शीघ्रता रहती है जाने की (हिंदी गजल/ गीतिका)*
*बड़े नखरों से आना, शीघ्रता रहती है जाने की (हिंदी गजल/ गीतिका)*
Ravi Prakash
अपनों की ठांव .....
अपनों की ठांव .....
Awadhesh Kumar Singh
इश्क़
इश्क़
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
कुछ मन्नतें पूरी होने तक वफ़ादार रहना ऐ ज़िन्दगी.
कुछ मन्नतें पूरी होने तक वफ़ादार रहना ऐ ज़िन्दगी.
पूर्वार्थ
माँ
माँ
नन्दलाल सुथार "राही"
सुदूर गाँव मे बैठा कोई बुजुर्ग व्यक्ति, और उसका परिवार जो खे
सुदूर गाँव मे बैठा कोई बुजुर्ग व्यक्ति, और उसका परिवार जो खे
Shyam Pandey
हर दिन नया नई उम्मीद
हर दिन नया नई उम्मीद
Dr fauzia Naseem shad
Jeevan ke is chor pr, shanshon ke jor pr
Jeevan ke is chor pr, shanshon ke jor pr
Anu dubey
प्रेम और सद्भाव के रंग सारी दुनिया पर डालिए
प्रेम और सद्भाव के रंग सारी दुनिया पर डालिए
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
ये भी सच है के हम नही थे बेइंतेहा मशहूर
ये भी सच है के हम नही थे बेइंतेहा मशहूर
'अशांत' शेखर
तुम लौट आओ ना
तुम लौट आओ ना
Anju ( Ojhal )
#एक_कविता
#एक_कविता
*Author प्रणय प्रभात*
नव वर्ष
नव वर्ष
Satish Srijan
💐प्रेम कौतुक-390💐
💐प्रेम कौतुक-390💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
रिश्ते (एक अहसास)
रिश्ते (एक अहसास)
umesh mehra
*नया साल*
*नया साल*
Dushyant Kumar
दोस्त मेरे यार तेरी दोस्ती का आभार
दोस्त मेरे यार तेरी दोस्ती का आभार
Anil chobisa
कविता की महत्ता।
कविता की महत्ता।
Rj Anand Prajapati
*
*"माँ"*
Shashi kala vyas
तुम ये उम्मीद मत रखना मुझसे
तुम ये उम्मीद मत रखना मुझसे
Maroof aalam
प्यार की बात है कैसे कहूं तुम्हें
प्यार की बात है कैसे कहूं तुम्हें
Er Sanjay Shrivastava
पेड़ लगाए पास में, धरा बनाए खास
पेड़ लगाए पास में, धरा बनाए खास
जगदीश लववंशी
सामाजिक न्याय
सामाजिक न्याय
Shekhar Chandra Mitra
Loading...