Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Jul 2023 · 1 min read

शौक-ए-आदम

शौक-ए-आदम

दुनिया ये तेरी मेरी ,फरक फकत के यूं है,
ना आरजू हुनुज है , ना कोई जुस्तजू हैI

दियार-ए-खंजर माफिक, है मंजर कायनात के,
ताऊन से भी उसरत, तबियत हालात केI

धुएं का असर है कि , लहर इक सड़ा हुआ,
जहर में बसर है ये , खाक में पड़ा हुआ।

बह रही ना हर सहर ,मसर्रत बहार की,
शामें है शाम-ए-हिज्र ,रातें शब-ए-फ़िराक़ कीI

सजदे तो मैं भी रखता ,रहगुजर में माबूद,
फकत तल्खी-ए-जिस्त से ,रूह तन्हा रंज-ए-वजूद।

चलो चलें पूरा करने ,अपने आपने शौक,
तू पैदा कर नस्ल-ए-आदम, मैं मुकर्रर अपनी मौतI

अजय अमिताभ सुमन

260 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जल प्रदूषण पर कविता
जल प्रदूषण पर कविता
कवि अनिल कुमार पँचोली
हे परम पिता परमेश्वर,जग को बनाने वाले
हे परम पिता परमेश्वर,जग को बनाने वाले
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
अजीब शौक पाला हैं मैने भी लिखने का..
अजीब शौक पाला हैं मैने भी लिखने का..
शेखर सिंह
सर्वप्रथम पिया से रँग लगवाउंगी
सर्वप्रथम पिया से रँग लगवाउंगी
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
अगर आपमें मानवता नहीं है,तो मुझे कोई फर्क नहीं पड़ता कि आप क
अगर आपमें मानवता नहीं है,तो मुझे कोई फर्क नहीं पड़ता कि आप क
विमला महरिया मौज
23/96.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/96.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
मेहनत की कमाई
मेहनत की कमाई
Dr. Pradeep Kumar Sharma
गीत(सोन्ग)
गीत(सोन्ग)
Dushyant Kumar
गाय
गाय
Vedha Singh
प्राण vs प्रण
प्राण vs प्रण
Rj Anand Prajapati
उम्मीद से अधिक मिलना भी आदमी में घमंड का भाव पैदा करता है !
उम्मीद से अधिक मिलना भी आदमी में घमंड का भाव पैदा करता है !
Babli Jha
फ़साने
फ़साने
अखिलेश 'अखिल'
प्रेम पाना,नियति है..
प्रेम पाना,नियति है..
पूर्वार्थ
एक तुम्हारे होने से....!!!
एक तुम्हारे होने से....!!!
Kanchan Khanna
बस कट, पेस्ट का खेल
बस कट, पेस्ट का खेल
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
बाल शिक्षा कविता पाठ / POET : वीरचन्द्र दास बहलोलपुरी
बाल शिक्षा कविता पाठ / POET : वीरचन्द्र दास बहलोलपुरी
Dr MusafiR BaithA
#राम-राम जी..👏👏
#राम-राम जी..👏👏
आर.एस. 'प्रीतम'
Saso ke dayre khuch is kadar simat kr rah gye
Saso ke dayre khuch is kadar simat kr rah gye
Sakshi Tripathi
सब तो उधार का
सब तो उधार का
Jitendra kumar
श्रमिक  दिवस
श्रमिक दिवस
Satish Srijan
तू ठहर जा मेरे पास, सिर्फ आज की रात
तू ठहर जा मेरे पास, सिर्फ आज की रात
gurudeenverma198
चाँद कुछ इस तरह से पास आया…
चाँद कुछ इस तरह से पास आया…
Anand Kumar
प्यार करता हूं और निभाना चाहता हूं
प्यार करता हूं और निभाना चाहता हूं
Er. Sanjay Shrivastava
खत उसनें खोला भी नहीं
खत उसनें खोला भी नहीं
Sonu sugandh
यक्ष प्रश्न
यक्ष प्रश्न
Manu Vashistha
प्रभु श्री राम
प्रभु श्री राम
Mamta Singh Devaa
तुम्हारी कहानी
तुम्हारी कहानी
PRATIK JANGID
*झंडा (बाल कविता)*
*झंडा (बाल कविता)*
Ravi Prakash
क्यूं हो शामिल ,प्यासों मैं हम भी //
क्यूं हो शामिल ,प्यासों मैं हम भी //
गुप्तरत्न
Loading...