Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Apr 2024 · 2 min read

शोकहर छंद विधान (शुभांगी)

शोकहर छंद ( शुभांगी छंद) विधान सउदाहरण
30 मात्राओं का “#समपद” मात्रिक छंद है। चार पदों के इस छंद में चारों पद समतुकांत या दो दो पद तुकांत किए जाते है |
छंद मात्रा विन्यास निम्न है-
अठकल + अठकल + अठकल + छक्कल
2222, 2222, 2222, 222 (S)
8+8+8+6 = 30 मात्रा।
प्रत्येक पद के दूसरे चौथे और छठे चौकल में लगाल ( जगण) नही होना चाहिए
चौकल में चारों रूप (11 11, 11 2, 2 11, 22) मान्य रहते हैं।
जगण वर्जित है
प्रथम दो आंतरिक यति की समतुकांतता आवश्यक व उत्तम है व तीनों यति की समतुकांतता सर्वोत्तम है।
अंत में एक गुरु का होना अनिवार्य है।

नानी आती , घर महकाती , लड्डू लाती , फल केला |
कहती प्यारा , मेरा तारा , राज दुलारा , अलबेला ||
मन को खोले , दृग से तोले , सबसे बोले , यह नाती |
मेरे मन में , इस जीवन में , इन आँखन में , है बाती ||

मेरी नानी , बोल कहानी , बहुत पुरानी , जो भाए |
करती ताजा , रानी राजा, गाना बाजा , भी गाए ||
हम सब बच्चे , जितने कच्चे , बनते सच्चे ,पा नानी |
वह भी हँसती,सबसे कहती ,अच्छी लगती , नादानी ||
~~`~~`

कविता लिखते , कभी न चिढ़ते, पाठक मिलते , है उसको |
कवि कहलाता , सुंदर गाता , है वह पाता , शुभ रस को ||
पर जो भटके , मग में अटके, खाता झटके , सविता‌ में |
तब भरमाए , ठोकर खाए , भाव न आए , कविता में ||

पथ पहचाना , चलते जाना , फल भी पाना ,‌‌‌ होता है |
करने पालन , बीज सुहावन , अपने आँगन , बोता है ||
तृृष्णा करते , हठ में रहते , तब वह सहते , घातों को |
उनके गानें , देख पुराने , जगत न मानें , बातों को ||
~~~~`

हे दीवानो , वीर जवानो , और किसानो , आ जाओ |
रखकर यारी , खेलें पारी , जिम्मेदारी , को लाओ ||
हम सब जानें , इतना मानें, माँ के गानें , चाहत है |
सबसे न्यारा , देश हमारा , लगता प्यारा , भारत है |

प्यारा नाता , दिल भी गाता ,भारत माता , न्यारी है |
मिट्टी पानी , है बलिदानी , सार कहानी , भारी है ||
शुचिता पाले, नूर उजाले , हम रखवाले , दीवाने |
चलते जाते , हाथ उठाते , जनगण गाते , मस्ताने ||

शोकहर छंद (मुक्तक )

करकें बातें , देते घातें , मारें लातें , जब अपने ,
हमको माने ,वह पहचानें , यह अनजानें, हैं सपने ,
चलते जाते, ठोकर खाते , फिर उठ जाते , दुनिया में –
होता खेला , उठता मेला , चले अकेला , थपने |

यहाँ अकेला , आया मेला ,कूदाँ खेला , अब जाना ,
जो कुछ पाया , सब अपनाया , बाँटा खाया , सब खाना ,
आया रोड़ा , तोड़ा मोड़ा , फिर कुछ जोड़ा , दुनिया में –
सब कुछ मेरा , देकर घेरा , बनता शेरा , दीवाना |

©® सुभाष सिंघई
एम•ए• हिंदी साहित्य , दर्शन शास्त्र
जतारा (टीकमगढ़) म०प्र०

Language: Hindi
35 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
#सामयिक_आलेख
#सामयिक_आलेख
*Author प्रणय प्रभात*
सही पंथ पर चले जो
सही पंथ पर चले जो
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
2722.*पूर्णिका*
2722.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
श्रीराम किसको चाहिए..?
श्रीराम किसको चाहिए..?
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
ऐ ज़िन्दगी ..
ऐ ज़िन्दगी ..
Dr. Seema Varma
*मां चंद्रघंटा*
*मां चंद्रघंटा*
Shashi kala vyas
अभिसप्त गधा
अभिसप्त गधा
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
युवा दिवस
युवा दिवस
Tushar Jagawat
मैं गीत हूं ग़ज़ल हो तुम न कोई भूल पाएगा।
मैं गीत हूं ग़ज़ल हो तुम न कोई भूल पाएगा।
सत्य कुमार प्रेमी
गरीबी की उन दिनों में ,
गरीबी की उन दिनों में ,
Yogendra Chaturwedi
सुख दुःख मनुष्य का मानस पुत्र।
सुख दुःख मनुष्य का मानस पुत्र।
लक्ष्मी सिंह
स्वामी विवेकानंद ( कुंडलिया छंद)
स्वामी विवेकानंद ( कुंडलिया छंद)
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
दस्तरखान बिछा दो यादों का जानां
दस्तरखान बिछा दो यादों का जानां
Shweta Soni
महादेवी वर्मा जी की पुण्यतिथि पर श्रद्धांजलि
महादेवी वर्मा जी की पुण्यतिथि पर श्रद्धांजलि
Harminder Kaur
घर सम्पदा भार रहे, रहना मिलकर सब।
घर सम्पदा भार रहे, रहना मिलकर सब।
Anil chobisa
मन मेरा कर रहा है, कि मोदी को बदल दें, संकल्प भी कर लें, तो
मन मेरा कर रहा है, कि मोदी को बदल दें, संकल्प भी कर लें, तो
Sanjay ' शून्य'
ऐसे ना मुझे  छोड़ना
ऐसे ना मुझे छोड़ना
Umender kumar
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
आज की बेटियां
आज की बेटियां
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
SCHOOL..
SCHOOL..
Shubham Pandey (S P)
धर्म वर्ण के भेद बने हैं प्रखर नाम कद काठी हैं।
धर्म वर्ण के भेद बने हैं प्रखर नाम कद काठी हैं।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
अनघड़ व्यंग
अनघड़ व्यंग
DR ARUN KUMAR SHASTRI
हम कहाँ जा रहे हैं...
हम कहाँ जा रहे हैं...
Radhakishan R. Mundhra
छह दिसबंर / मुसाफ़िर बैठा
छह दिसबंर / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
हम तो अपनी बात कहेंगें
हम तो अपनी बात कहेंगें
अनिल कुमार निश्छल
यदि आप नंगे है ,
यदि आप नंगे है ,
शेखर सिंह
तुम मेरा साथ दो
तुम मेरा साथ दो
Surya Barman
इंसान
इंसान
Vandna thakur
(16) आज़ादी पर
(16) आज़ादी पर
Kishore Nigam
संघर्ष
संघर्ष
Shyam Sundar Subramanian
Loading...