Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Feb 2024 · 3 min read

शॉल (Shawl)

कुछ अलग और अच्छा खरीदने, एक बार मैं निकल पड़ा बाज़ार।
बाज़ार तक पहुॅंचने से पहले ही, मुझे दूर से चीज़ें दिख गईं हज़ार।
एक बार में सारा बाज़ार खरीद लें, सबका दिल तो यही चाहता है।
हम सबके मन की इच्छाओं को, बाज़ार प्रलोभन देकर बुलाता है।

उस रोज़ ठंडियों का मौसम था, बाज़ार में कपड़ों की गर्मी दिखी।
सुबह-शाम ठंड का कर्फ़्यू था, दिन के सूरज में थोड़ी नर्मी दिखी।
घर में दो जून की रोटी मिले, तभी ये फेरी वाला रोज़ चिल्लाता है।
हम सबके मन की इच्छाओं को, बाज़ार प्रलोभन देकर बुलाता है।

सबसे पहले मेरा चंचल मन भी, ऊॅंची व सार्वजनिक मॉल में गया।
फिर कपड़ों का मूल्य सुनते ही, मन फेरी पे बिक रहे शॉल में गया।
फेरी वालों की हालत देखकर, मेरा दिल पल में द्रवित हो जाता है।
हम सबके मन की इच्छाओं को, बाज़ार प्रलोभन देकर बुलाता है।

फेरी के इर्द-गिर्द भीड़ बनकर, बहुत लोग शॉल खरीदने में लगे थे।
पशमीना, कलमकारी, नागा, कढ़ाईदार, वहाॅं तो कई शॉल टॅंगे थे।
ढूॅंढ़े अनेक पर लेते सिर्फ़ एक, थान टटोले बिना रहा नहीं जाता है।
हम सबके मन की इच्छाओं को, बाज़ार प्रलोभन देकर बुलाता है।

फेरी की टूटा बंदोबस्त देखकर, मैंने भी अपनी आँखें बंद कर लीं।
जैसे ही मुझे एक शॉल दिखी, मैंने बिन बोले वो ही पसंद कर ली।
पहली बार में इतना सुंदर वस्त्र, भला अकेले में कौन चुन पाता है?
हम सबके मन की इच्छाओं को, बाज़ार प्रलोभन देकर बुलाता है।

घर पहुॅंचते ही सभी घरवालों ने, शॉल की किस्म को ख़ूब निहारा।
ऐसे में मेरे दुविधा ग्रस्त मन को, सराहना से मिल गया था सहारा।
पसंद अपनी और हामी सबकी, ऐसा ही विचार मन को सताता है।
हम सबके मन की इच्छाओं को, बाज़ार प्रलोभन देकर बुलाता है।

कभी तिलक, गोखले, गाॅंधी, कभी पटेल, बटुकेश्वर और आज़ाद।
इनके तन से शॉल लिपटी थी, तभी सारे वस्त्र आते हैं इसके बाद।
इसलिए शॉल का रेशा-रेशा, स्वतंत्रता की अमर कहानी सुनाता है।
हम सबके मन की इच्छाओं को, बाज़ार प्रलोभन देकर बुलाता है।

शॉल देख मेरी बहन बोली, भैय्या तुम हर बार तारीफ़ से बचते हो।
कोई कुछ भी कहे पर मैं न मानूॅं, आप इस शॉल में बड़े जचते हो।
बिगड़ी बात अपने ही सुधारेंगे, यही खयाल तो सुकून पहुँचाता है।
हम सबके मन की इच्छाओं को, बाज़ार प्रलोभन देकर बुलाता है।

अपनी पसंदीदा शॉल के साथ, यूं मैंने ढेर सारे मंच साझा किए हैं। गुज़रे वक्त ने भी सारे किस्से, आज बातों के ज़रिए ताज़ा किए हैं।
भावी अनिश्चित, वर्तमान गतिमान, सच से तो पूर्व ही मिलवाता है।
हम सबके मन की इच्छाओं को, बाज़ार प्रलोभन देकर बुलाता है।

जो शॉल पहले बेकार लगती थी, अब दिल को अच्छी लगने लगी।
रात ख्वाहिशें ओढ़कर सोती रहीं, भोर भी इसके संग जगने लगी।
क्षणिक तुरंत आकर्षित करे, पर शाश्वत रूप ही दिल को भाता है।
हम सबके मन की इच्छाओं को, बाज़ार प्रलोभन देकर बुलाता है।

आज काफ़ी लंबा वक्त गुज़रा, अब ये शॉल मेरा ध्यान रखने लगी।
महफ़िल, सम्मेलन, बैठकों में, मेरे कवि हृदय का मान रखने लगी।
हर शॉल का एक मखमली स्पर्श, हर उम्र के हृदय को छू जाता है।
हम सबके मन की इच्छाओं को, बाज़ार प्रलोभन देकर बुलाता है।

धुलाई व सफ़ाई के बल से, नई-नवेली शॉल भी पुरानी हो रही है।
जिसे सब सुनाया करते थे, आज वही अनसुनी कहानी हो रही है।
वक्त के बेवक्त थपेड़ों से तो, भाव, चाव व लगाव भी खो जाता है।
हम सबके मन की इच्छाओं को, बाज़ार प्रलोभन देकर बुलाता है।

सभी रेशों के कमज़ोर पड़ते ही, मखमली शॉल तक उधड़ने लगी।
उसकी सुंदरता के लुप्त होते ही, सारी यादें हृदय से बिछड़ने लगीं।
किसी ख़ास वस्तु के बिछड़ते ही, हमारा अन्तर्मन चुप हो जाता है।
हम सबके मन की इच्छाओं को, बाज़ार प्रलोभन देकर बुलाता है।

4 Likes · 48 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
माँ-बाप का किया सब भूल गए
माँ-बाप का किया सब भूल गए
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
पड़ोसन के वास्ते
पड़ोसन के वास्ते
VINOD CHAUHAN
जलने वालों का कुछ हो नहीं सकता,
जलने वालों का कुछ हो नहीं सकता,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
💐 Prodigi Love-47💐
💐 Prodigi Love-47💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
हम दुनिया के सभी मच्छरों को तो नहीं मार सकते है तो क्यों न ह
हम दुनिया के सभी मच्छरों को तो नहीं मार सकते है तो क्यों न ह
Rj Anand Prajapati
पूजा
पूजा
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
मेरे हमसफ़र 💗💗🙏🏻🙏🏻🙏🏻
मेरे हमसफ़र 💗💗🙏🏻🙏🏻🙏🏻
Seema gupta,Alwar
इशारों इशारों में ही, मेरा दिल चुरा लेते हो
इशारों इशारों में ही, मेरा दिल चुरा लेते हो
Ram Krishan Rastogi
मिलना अगर प्रेम की शुरुवात है तो बिछड़ना प्रेम की पराकाष्ठा
मिलना अगर प्रेम की शुरुवात है तो बिछड़ना प्रेम की पराकाष्ठा
Sanjay ' शून्य'
संत सनातनी बनना है तो
संत सनातनी बनना है तो
Satyaveer vaishnav
बाजार  में हिला नहीं
बाजार में हिला नहीं
AJAY AMITABH SUMAN
कौन कहता है कि नदी सागर में
कौन कहता है कि नदी सागर में
Anil Mishra Prahari
उसने आंखों में
उसने आंखों में
Dr fauzia Naseem shad
■ आज का मुक्तक
■ आज का मुक्तक
*Author प्रणय प्रभात*
टिमटिमाता समूह
टिमटिमाता समूह
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
दूध-जले मुख से बिना फूंक फूंक के कही गयी फूहड़ बात! / MUSAFIR BAITHA
दूध-जले मुख से बिना फूंक फूंक के कही गयी फूहड़ बात! / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
To improve your mood, exercise
To improve your mood, exercise
पूर्वार्थ
* सुनो मास्क पहनो दूल्हे जी (बाल कविता)*
* सुनो मास्क पहनो दूल्हे जी (बाल कविता)*
Ravi Prakash
बालचंद झां (हल्के दाऊ)
बालचंद झां (हल्के दाऊ)
Ms.Ankit Halke jha
ताउम्र करना पड़े पश्चाताप
ताउम्र करना पड़े पश्चाताप
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
"तोता"
Dr. Kishan tandon kranti
“STORY MIRROR AUTHOR OF THE YEAR 2022”
“STORY MIRROR AUTHOR OF THE YEAR 2022”
DrLakshman Jha Parimal
रंग बदलते बहरूपिये इंसान को शायद यह एहसास बिलकुल भी नहीं होत
रंग बदलते बहरूपिये इंसान को शायद यह एहसास बिलकुल भी नहीं होत
Seema Verma
विचार
विचार
Godambari Negi
23/35.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/35.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
आदमी खरीदने लगा है आदमी को ऐसे कि-
आदमी खरीदने लगा है आदमी को ऐसे कि-
Mahendra Narayan
हर सांस की गिनती तय है - रूख़सती का भी दिन पहले से है मुक़र्रर
हर सांस की गिनती तय है - रूख़सती का भी दिन पहले से है मुक़र्रर
Atul "Krishn"
रमेशराज की कविता विषयक मुक्तछंद कविताएँ
रमेशराज की कविता विषयक मुक्तछंद कविताएँ
कवि रमेशराज
रस्सी जैसी जिंदगी हैं,
रस्सी जैसी जिंदगी हैं,
Jay Dewangan
Loading...