Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Jan 2017 · 1 min read

शेर

तुम जानती नहीं कि लौ सी जलती है मेरे अंदर
तुम्हीं हो वो बाती जो मेरे उजाले की पहचान है

-पंकज त्रिवेदी …

Language: Hindi
Tag: शेर
262 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कितनी अजब गजब हैं ज़माने की हसरतें
कितनी अजब गजब हैं ज़माने की हसरतें
Dr. Alpana Suhasini
वो इँसा...
वो इँसा...
'अशांत' शेखर
मैं लिखता हूँ जो सोचता हूँ !
मैं लिखता हूँ जो सोचता हूँ !
DrLakshman Jha Parimal
भ्रूणहत्या
भ्रूणहत्या
Dr Parveen Thakur
बहुत कीमती है पानी,
बहुत कीमती है पानी,
Anil Mishra Prahari
(18) छलों का पाठ्यक्रम इक नया चलाओ !
(18) छलों का पाठ्यक्रम इक नया चलाओ !
Kishore Nigam
वक्त (प्रेरणादायक कविता):- सलमान सूर्य
वक्त (प्रेरणादायक कविता):- सलमान सूर्य
Salman Surya
■ आज का परिहास...
■ आज का परिहास...
*Author प्रणय प्रभात*
आत्म मंथन
आत्म मंथन
Dr. Mahesh Kumawat
ये दुनिया है साहब यहां सब धन,दौलत,पैसा, पावर,पोजीशन देखते है
ये दुनिया है साहब यहां सब धन,दौलत,पैसा, पावर,पोजीशन देखते है
Ranjeet kumar patre
सत्य होता सामने
सत्य होता सामने
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
मुक्तामणि छंद [सम मात्रिक].
मुक्तामणि छंद [सम मात्रिक].
Subhash Singhai
चिन्तन का आकाश
चिन्तन का आकाश
Dr. Kishan tandon kranti
" तुम से नज़र मिलीं "
Aarti sirsat
एकांत में रहता हूँ बेशक
एकांत में रहता हूँ बेशक
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
*सीखा सब आकर यहीं, थोड़ा-थोड़ा ज्ञान (कुंडलिया)*
*सीखा सब आकर यहीं, थोड़ा-थोड़ा ज्ञान (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
कविता-आ रहे प्रभु राम अयोध्या 🙏
कविता-आ रहे प्रभु राम अयोध्या 🙏
Madhuri Markandy
वादा करती हूं मै भी साथ रहने का
वादा करती हूं मै भी साथ रहने का
Ram Krishan Rastogi
life is an echo
life is an echo
पूर्वार्थ
वो दौर था ज़माना जब नज़र किरदार पर रखता था।
वो दौर था ज़माना जब नज़र किरदार पर रखता था।
शिव प्रताप लोधी
पंचचामर मुक्तक
पंचचामर मुक्तक
Neelam Sharma
एक और द्रौपदी (अंतःकरण झकझोरती कहानी)
एक और द्रौपदी (अंतःकरण झकझोरती कहानी)
गुमनाम 'बाबा'
तेरी जुस्तुजू
तेरी जुस्तुजू
Shyam Sundar Subramanian
क्या अजीब बात है
क्या अजीब बात है
Atul "Krishn"
श्रमिक  दिवस
श्रमिक दिवस
Satish Srijan
तनिक लगे न दिमाग़ पर,
तनिक लगे न दिमाग़ पर,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
बचपन की यादें
बचपन की यादें
प्रीतम श्रावस्तवी
नारी के हर रूप को
नारी के हर रूप को
Dr fauzia Naseem shad
रिश्तों की बंदिशों में।
रिश्तों की बंदिशों में।
Taj Mohammad
तू है तसुव्वर में तो ए खुदा !
तू है तसुव्वर में तो ए खुदा !
ओनिका सेतिया 'अनु '
Loading...