Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Jun 2016 · 1 min read

शेर

।।फर्जी दुनिया।।
बनते हैं शहंशाह, कहते हैं हम किसी से कम नहीं
शेर हैं सब कागज़ के जनाब, है किसी में दम नहीं।

।।दिलबर।।
दिलबर मिले ना दिलवाले
दिलकश दिखने में अंदर से दिल काले

Language: Hindi
Tag: शेर
304 Views
You may also like:
दुआएं करेंगी असर धीरे- धीरे
Dr Archana Gupta
काँच के टुकड़े तख़्त-ओ-ताज में जड़े हुए हैं
Anis Shah
कुज्रा-कुजर्नी ( #लोकमैथिली_हाइकु)
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
■ व्यंग्य / एक न्यूज़ : जो उड़ा दी फ्यूज..
*प्रणय प्रभात*
आज काल के नेता और उनके बेटा
Harsh Richhariya
मोहब्बत
Kanchan sarda Malu
✍️ बस में कर लिया है समंदर✍️
'अशांत' शेखर
हुस्न-ए-अदा
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
गज़ल सुलेमानी
DR ARUN KUMAR SHASTRI
'इरशाद'
Godambari Negi
काँटों में खिलो फूल-सम, औ दिव्य ओज लो।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
तुम्हारे माता-पिता
Saraswati Bajpai
माँ
अश्क चिरैयाकोटी
$प्रीतम के दोहे
आर.एस. 'प्रीतम'
हंसने की वजह हम थे।
Taj Mohammad
“गुरुनानक जयंती 08 नवम्बर 2022 पर विशेष” : आदर एवं...
सत्य भूषण शर्मा
बर्बादी का तमाशा
Seema 'Tu hai na'
दे सहयोग पुरजोर
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
मेरी आंखों में
Dr fauzia Naseem shad
जय श्री महाकाल सबको, उज्जैयिनी में आमंत्रण है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
ऐ जिन्दगी
Anamika Singh
राह जो तकने लगे हैं by Vinit Singh Shayar
Vinit kumar
रवीश कुमार
Shekhar Chandra Mitra
साथ जीने के लिए
surenderpal vaidya
शमा से...!!!
Kanchan Khanna
'बेटियाॅं! किस दुनिया से आती हैं'
Rashmi Sanjay
तू कहता क्यों नहीं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मकड़ी है कमाल
Buddha Prakash
*दृश्य पर आधारित कविता*
Ravi Prakash
God has destined me with a unique goal
Manisha Manjari
Loading...