Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Apr 2024 · 1 min read

…….शेखर सिंह

…….शेखर सिंह

46 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जीने के तकाज़े हैं
जीने के तकाज़े हैं
Dr fauzia Naseem shad
मृत्यु शैय्या
मृत्यु शैय्या
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
#धोती (मैथिली हाइकु)
#धोती (मैथिली हाइकु)
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
अंधभक्तो को जितना पेलना है पेल लो,
अंधभक्तो को जितना पेलना है पेल लो,
शेखर सिंह
मेरे पिता मेरा भगवान
मेरे पिता मेरा भगवान
Nanki Patre
"आखिर"
Dr. Kishan tandon kranti
विषय- सत्य की जीत
विषय- सत्य की जीत
rekha mohan
जुल्मतों के दौर में
जुल्मतों के दौर में
Shekhar Chandra Mitra
मोहब्बत के लिए गुलकारियां दोनों तरफ से है। झगड़ने को मगर तैयारियां दोनों तरफ से। ❤️ नुमाइश के लिए अब गुफ्तगू होती है मिलने पर। मगर अंदर से तो बेजारियां दोनो तरफ से हैं। ❤️
मोहब्बत के लिए गुलकारियां दोनों तरफ से है। झगड़ने को मगर तैयारियां दोनों तरफ से। ❤️ नुमाइश के लिए अब गुफ्तगू होती है मिलने पर। मगर अंदर से तो बेजारियां दोनो तरफ से हैं। ❤️
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
जलन इंसान को ऐसे खा जाती है
जलन इंसान को ऐसे खा जाती है
shabina. Naaz
*खाते नहीं जलेबियॉं, जिनको डायबिटीज (हास्य कुंडलिया)*
*खाते नहीं जलेबियॉं, जिनको डायबिटीज (हास्य कुंडलिया)*
Ravi Prakash
हम गांव वाले है जनाब...
हम गांव वाले है जनाब...
AMRESH KUMAR VERMA
// अगर //
// अगर //
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
गम के पीछे ही खुशी है ये खुशी कहने लगी।
गम के पीछे ही खुशी है ये खुशी कहने लगी।
सत्य कुमार प्रेमी
हमें आशिकी है।
हमें आशिकी है।
Taj Mohammad
"प्लीज़! डोंट डू
*Author प्रणय प्रभात*
मान देने से मान मिले, अपमान से मिले अपमान।
मान देने से मान मिले, अपमान से मिले अपमान।
पूर्वार्थ
सदपुरुष अपना कर्तव्य समझकर कर्म करता है और मूर्ख उसे अपना अध
सदपुरुष अपना कर्तव्य समझकर कर्म करता है और मूर्ख उसे अपना अध
Sanjay ' शून्य'
मेरी अर्थी🌹
मेरी अर्थी🌹
Aisha Mohan
गर जानना चाहते हो
गर जानना चाहते हो
SATPAL CHAUHAN
यादों के तराने
यादों के तराने
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
Tum ibadat ka mauka to do,
Tum ibadat ka mauka to do,
Sakshi Tripathi
सुनो पहाड़ की....!!! (भाग - १०)
सुनो पहाड़ की....!!! (भाग - १०)
Kanchan Khanna
चलो चलें वहां जहां मिले ख़ुशी
चलो चलें वहां जहां मिले ख़ुशी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Sushila joshi
हमारी जिंदगी ,
हमारी जिंदगी ,
DrLakshman Jha Parimal
बाल कविता मोटे लाला
बाल कविता मोटे लाला
Ram Krishan Rastogi
रास्ता दुर्गम राह कंटीली, कहीं शुष्क, कहीं गीली गीली
रास्ता दुर्गम राह कंटीली, कहीं शुष्क, कहीं गीली गीली
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
हम पचास के पार
हम पचास के पार
Sanjay Narayan
*नासमझ*
*नासमझ*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
Loading...