Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Apr 2022 · 4 min read

शृंगार छंद और विधाएँ

शृंगार छंद “विधान”
शृंगार छंद बहुत ही मधुर लय का 16 मात्रा का चार चरण का छंद है। तुक दो दो चरण में या चारो चरण में होती है , | इसकी मात्रा बाँट 3 – 2 – 8 – 3 (ताल) है। प्रारंभ के त्रिकल के तीनों रूप मान्य है जबकि अंत का त्रिकल केवल दीर्घ और लघु (21) होना चाहिए। द्विकल 1 1 या 2 हो सकता है। अठकल के नियम जैसे प्रथम और पंचम मात्रा पर शब्द का समाप्त न होना, 1 से 4 तथा 5 से 8 मात्रा में पूरित जगण का न होना और अठकल का अंत द्विकल से होना मान्य हैं।
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~

इस छंद में आप – मूलछंद , मुक्तक , गीतिका , गीत लिख सकते है कुछ उदाहरण मैं ( सुभाष सिंघई ) प्रस्तुत कर रहा हूँ

( दो दो चरण तुकांत – उत्तम )

हमारे भगवन् है अतिवीर |
हरें जो जन जन की सब पीर ||
सियापति रघुकुल है पहचान |
रखें जो भक्तो का सम्मान ||

पूजता मंंदिर में साकार |
राम को मानू मैं आधार ||
जानता लीला अपरम्पार |
जगत में राम नाम उपचार ||

सुना है बजरंगी का काम |
बने थे सब कुछ जिनके राम ||
बचाए लछमन जी के प्राण |
हुआ था रण में तब कल्याण ||

( चारों चरण सम तुकांत- सर्वोत्तम)

आचरण जिनकी है पहचान |
चरण रज पावन है प्रतिमान ||
शरण भी प्रभुवर की है शान |
करे जन सुबह शाम गुण गान ||

दीन की कभी न पूछो जात |
बना वह सेवक है दिन रात |
सहे वह सबके अब आघात |
हाथ में रखता हरदम मात ||
~~~~~~~~~~~~~~~~~~
श्रृंङ्गार छंद ( मुक्तक)

जगत के पालक हैं श्री राम |
बनाते भक्तों के सब काम |
‘सुभाषा जिनका पूरा दास ~
शरण में करता है विश्राम |

लखें जब गोरी का शृंगार |
सभी के दिल में चुभे कटार |
चमकते घूँघट से जब नैन ~
हिलोरे लेता मन में प्यार |
~~~~~~~~~~~~~~~~~
छंद शृंङ्गार

उठे जब पायल की झंकार |
हँसी की लगती वहाँ फुहार |
देखते गोरी का श्रृंङ्गार |
सभी के बजते वीणा तार |

लोग भी जुड़कर करते भीड़ |
बना घर गोरी का है नीड़ |
गए सब गोरी को दिल हार |
नहीं अब दिखता है उपचार |

देखते नथनी न्यारी आज |
लगे अब गोरी को भी लाज |
झूलता पड़ा गले का हार |
झुकाने ग्रीवा को तैयार |

दमकता सूरज वहाँ विराट,|
लगी है बिंदी जहाँ ललाट |
‌’सुभाषा’ खोज रहा उपचार |
लगी है दिल में जहाँ कटार |

नैन भी गोरी के अनमोल |
फूल~से लगते उसके बोल |
करे सब गोरी से मनुहार |
चाहते गोरी से सब प्यार |
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
शृंगार छंद
श्री हनुमान जन्मोत्सव पर सभी को शुभकामनाएं

आपकी जय‌ करता हनुमान |
राम के सेवक तुम ‌बलवान ||
विनय हम सब करते है आज |
भारती माँ की रखना लाज ||

लुटेरे लूटे हिंदुस्तान |
बने है कुर्सी पर श्रीमान ||
लगे है घपलो के अम्बार |
देश का होता नहीं सुधार ||

अखरते कुछ को है श्रीराम |
करें वह भक्तों को बदनाम ||
जुबाँ से फैलाते उन्माद |
वतन को करते है वर्बाद ||

देश में फैलाते जो रार |
बनाकर लंका देते खार ||
पूँछ से फिर से करो कमाल |
विनय यह सुनो अंजनी लाल ||
~~~

शृंगार छंद
रामनवमी पर सभी के लिए मंगलकामनाएं

रहे है सदा सहायी राम |
बनाते जग में सबके काम ||
सियापति रघुकुल है पहचान |
भक्तजन करते मन से गान ||

राम नवमी प्यारी है आज |
रखेगें प्रभुवर सबकी लाज ||
सनातन से हम रखते ज्ञान |
रामजी सबके है भगवान ||

नवम् तिथि आज हुई साकार |
रामजी सुखद लिया अवतार ||
जगत में राम नाम उपचार |
‘सुभाषा समझा है यह सार ||

राम से सभी रखो पहचान |
चरण रज पावन है प्रतिमान ||
करे जो सबह शाम गुणगान |
रखेगें प्रभुवर उसकी शान |

दीन की सुनते है प्रभु बात |
न्याय की रखते है वह जात ||
हर्ष से होता आज. विभोर |
देखता अब तो प्रभु की ओर ||

नेत्र की पीड़ा है अब दूर |
राम की कृपा रही भरपूर ||
छंद पर करूँ निरंतर काम |
चाहते मेरे प्रभुवर. राम ||

श्रीराम जी के चरणों में शत शत नमन

सुभाष सिंघई
~~~~~
शृंगार छंद में एक शृंगार गीत

लगा है गोरी का दरबार |
देखते सब उसका शृंगार ||
खिली है ,धवल कुमुदिनी आज |
भ्रमर सब खोल. रहे है राज ||

भरे है हाला से दो नैन |
नशा खुद करता सबको सैन ||
गजब है काजल की अब रेख |
कटारी लगती उसको देख ||

उमड़ता मन में सबके प्यार |
लगा है गोरी ~~~~~~~||

नथनियाँ करती खूब कमाल |
उदित ज्यो सूरज होता लाल ||
कर्ण पर झुमके लगते फूल |
उगे ज्यो सरवर के हो कूल ||

बजे है मन वीणा के तार |
लगा है गोरी ~~~~~~~||

गाल के तिल पर भी है ध्यान |
करे वह योवन का रस पान ||
मची है गोरी की अब धूम |
रहे सब उसको लखकर झूम ||

सुभाषा”करता है मनुहार |
लगा है गोरी ~~~~~~~||
~~~~~
गीत ( आधार छंद श्रृंङ्गार)

आज हम क्या लिख दे अविराम , बताओ हे मेरे घन श्याम | (मुखड़ा)
करूँ मैं पूजा आठों याम , आपकी सेवा मेरा धाम ||(टेक)

हमारे भगवन् ‌तुम अतिवीर ,हरण भी करते जन की पीर |(अंतरा)
यशोदा नंदन है पहचान ,भक्त सब. करते हैं गुणगान ||
सभा में किया द्रोपदी काम , बचाई लाज वहाँ अविराम | (पूरक)
करूँ मैं पूजा आठों याम , आपकी सेवा मेरा धाम ||टेक

पूजता मंंदिर में साकार , आपको मानूँ मैं आधार ||(अंतरा)
जानता लीला अपरम्पार , जगत में कृष्ण नाम उपचार ||
जगत के पालक हो घन श्याम , बनाते भक्तों के सब काम |(पूरक)
करूँ मैं पूजा आठों याम , आपकी सेवा मेरा धाम ||(टेक)

कृपा ही बनी हुई. पहचान | चरण रज पावन है प्रतिमान ||(अंतरा)
सुदामा रखी आपने शान | करे जन सुबह शाम गुण गान ||
‘सुभाषा लेना प्रभुवर थाम ~ शरण में देना अब विश्राम |(पूरक)
करूँ मैं पूजा आठों याम , आपकी सेवा मेरा धाम ||(टेक)

आलेख व उदाहरण ~ #सुभाष_सिंघई , एम. ए. हिंदी साहित्य , दर्शन शास्त्र , निवासी जतारा ( टीकमगढ़ ) म० प्र०

आलेख- सरल सहज भाव शब्दों से छंद को समझाने का प्रयास किया है , वर्तनी व कहीं मात्रा दोष, व अन्य विधान सम्मत दोष हो, तो परिमार्जन करके ग्राह करें |

Language: Hindi
Tag: लेख
1631 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
" टैगोर "
सुनीलानंद महंत
तलाक़ का जश्न…
तलाक़ का जश्न…
Anand Kumar
आ अब लौट चले
आ अब लौट चले
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
देश मे सबसे बड़ा संरक्षण
देश मे सबसे बड़ा संरक्षण
*प्रणय प्रभात*
विचार~
विचार~
दिनेश एल० "जैहिंद"
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
"उल्लास"
Dr. Kishan tandon kranti
कर रही हूँ इंतज़ार
कर रही हूँ इंतज़ार
Rashmi Ranjan
कोहरा काला घना छट जाएगा।
कोहरा काला घना छट जाएगा।
Neelam Sharma
*मनुष्य जब मरता है तब उसका कमाया हुआ धन घर में ही रह जाता है
*मनुष्य जब मरता है तब उसका कमाया हुआ धन घर में ही रह जाता है
Shashi kala vyas
आलेख - मित्रता की नींव
आलेख - मित्रता की नींव
रोहताश वर्मा 'मुसाफिर'
"राष्टपिता महात्मा गांधी"
Pushpraj Anant
*स्वच्छ मन (मुक्तक)*
*स्वच्छ मन (मुक्तक)*
Rituraj shivem verma
आ ठहर विश्राम कर ले।
आ ठहर विश्राम कर ले।
सरोज यादव
"पुरानी तस्वीरें"
Lohit Tamta
आज़माइश कोई
आज़माइश कोई
Dr fauzia Naseem shad
अपने आलोचकों को कभी भी नजरंदाज नहीं करें। वही तो है जो आपकी
अपने आलोचकों को कभी भी नजरंदाज नहीं करें। वही तो है जो आपकी
Paras Nath Jha
2471पूर्णिका
2471पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
दस्तक
दस्तक
Satish Srijan
दिल से दिल गर नहीं मिलाया होली में।
दिल से दिल गर नहीं मिलाया होली में।
सत्य कुमार प्रेमी
मेला लगता तो है, मेल बढ़ाने के लिए,
मेला लगता तो है, मेल बढ़ाने के लिए,
Buddha Prakash
कश्मीर में चल रहे जवानों और आतंकीयो के बिच मुठभेड़
कश्मीर में चल रहे जवानों और आतंकीयो के बिच मुठभेड़
कुंवर तुफान सिंह निकुम्भ
जरूरी है
जरूरी है
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
*हटता है परिदृश्य से, अकस्मात इंसान (कुंडलिया)*
*हटता है परिदृश्य से, अकस्मात इंसान (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
मन की कामना
मन की कामना
Basant Bhagawan Roy
नारी शक्ति
नारी शक्ति
भरत कुमार सोलंकी
नियम पुराना
नियम पुराना
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
लिखते हैं कई बार
लिखते हैं कई बार
Shweta Soni
****प्रेम सागर****
****प्रेम सागर****
Kavita Chouhan
गांव की याद
गांव की याद
Punam Pande
Loading...