Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Aug 2023 · 1 min read

शुभ प्रभात मित्रो !

शुभ प्रभात मित्रो !
आजकल पाप और पुण्य की परिभाषाएँ बदल रही हैं । पहले आदमी पापकर्म से डरता था । किसी का दिल दुखाने को पाप समझता था । दूसरे की सम्पत्ति को देखकर जलता नहीं था । किन्तु आज आदमी पाप करने से तनिक भी नहीं घबराता । वह येन केन प्रकारेण , धन पाना चाहता है । धन में उसे सुख दिखाई देने लगा है । धनवान की ही समाज में प्रतिष्ठा है । यही कारण है कि वह धन के पीछे भाग रहा है ।
जय श्री राधे !
जय श्री कृष्ण !
***

306 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Mahesh Jain 'Jyoti'
View all
You may also like:
नयन कुंज में स्वप्न का,
नयन कुंज में स्वप्न का,
sushil sarna
"ओट पर्दे की"
Ekta chitrangini
बिटिया की जन्मकथा / मुसाफ़िर बैठा
बिटिया की जन्मकथा / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
तेरी याद ......
तेरी याद ......
sushil yadav
हिंदी सबसे प्यारा है
हिंदी सबसे प्यारा है
शेख रहमत अली "बस्तवी"
हम भी अपनी नज़र में
हम भी अपनी नज़र में
Dr fauzia Naseem shad
आजकल
आजकल
Munish Bhatia
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
हरा न पाये दौड़कर,
हरा न पाये दौड़कर,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
दो कदम का फासला ही सही
दो कदम का फासला ही सही
goutam shaw
अंतर्जाल यात्रा
अंतर्जाल यात्रा
Dr. Sunita Singh
मुस्कान
मुस्कान
नवीन जोशी 'नवल'
"रंग भर जाऊँ"
Dr. Kishan tandon kranti
जो कभी मिल ना सके ऐसी चाह मत करना।
जो कभी मिल ना सके ऐसी चाह मत करना।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
2466.पूर्णिका
2466.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
करवाचौथ
करवाचौथ
Surinder blackpen
थोड़ा सा अजनबी बन कर रहना तुम
थोड़ा सा अजनबी बन कर रहना तुम
शेखर सिंह
स्कूल चलो
स्कूल चलो
Dr. Pradeep Kumar Sharma
गुत्थियों का हल आसान नही .....
गुत्थियों का हल आसान नही .....
Rohit yadav
ग्रंथ
ग्रंथ
Tarkeshwari 'sudhi'
!! एक चिरईया‌ !!
!! एक चिरईया‌ !!
Chunnu Lal Gupta
"सुप्रभात"
Yogendra Chaturwedi
जिनके अंदर जानवर पलता हो, उन्हें अलग से जानवर पालने की क्या
जिनके अंदर जानवर पलता हो, उन्हें अलग से जानवर पालने की क्या
*Author प्रणय प्रभात*
कौन है जिम्मेदार?
कौन है जिम्मेदार?
Pratibha Pandey
*जनता के कब पास है, दो हजार का नोट* *(कुंडलिया)*
*जनता के कब पास है, दो हजार का नोट* *(कुंडलिया)*
Ravi Prakash
दर्द देकर मौहब्बत में मुस्कुराता है कोई।
दर्द देकर मौहब्बत में मुस्कुराता है कोई।
Phool gufran
जज़्बात
जज़्बात
Neeraj Agarwal
छवि अति सुंदर
छवि अति सुंदर
Buddha Prakash
🇮🇳 🇮🇳 राज नहीं राजनीति हो अपना 🇮🇳 🇮🇳
🇮🇳 🇮🇳 राज नहीं राजनीति हो अपना 🇮🇳 🇮🇳
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
दोहा ग़ज़ल (गीतिका)
दोहा ग़ज़ल (गीतिका)
Subhash Singhai
Loading...