Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 May 2024 · 1 min read

शीर्षक – मां

शीर्षक – मां

मां कहां गई है तू
मां क्यों खो गई है तू
मुझसे मिलने कब आएगी मां
मां क्या मुझे भी अपने साथ ले जाएगी

जिस दुनियां में रहती है तू मां
क्या वहां से वापस आएगी तू मां
मां कहां है तू क्यों खो गई है तू
पास बुलाने पर क्यों नहीं आती है तू मां

क्या मुझे भूल गई है मां
क्या मुझसे रूठ गई है मां
तू तो जग जननी है न मां
हम सब तो तेरी संतानें हैं न मां

तेरे बिना ज़िंदगी अधूरी है न मां
फिर क्यों तू तेरे आंचल को ले गई है मां
मां तू करुणामई ममतामई है न
स्नेह का सागर है मां

यह सच है कि मां तू है
लेकिन सबके पास नहीं होती है
जिनके पास होती है मां
उन्हें तेरी कदर कहां होती है

मां तू प्रेम और स्नेह का अथाह सागर है
तेरे आंचल में छुपा ले मुझे
सीने से अपने एक बार लगा ले मुझे
अपनी ममता दिखा दे मुझे

_ सोनम पुनीत दुबे

2 Likes · 31 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जीना भूल गए है हम
जीना भूल गए है हम
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
एक कथित रंग के चादर में लिपटे लोकतंत्र से जीवंत समाज की कल्प
एक कथित रंग के चादर में लिपटे लोकतंत्र से जीवंत समाज की कल्प
Anil Kumar
हर एक ईट से उम्मीद लगाई जाती है
हर एक ईट से उम्मीद लगाई जाती है
कवि दीपक बवेजा
शक
शक
Dr. Akhilesh Baghel "Akhil"
संगत
संगत
Sandeep Pande
23/185.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/185.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
24--- 🌸 कोहरे में चाँद 🌸
24--- 🌸 कोहरे में चाँद 🌸
Mahima shukla
*मन का समंदर*
*मन का समंदर*
Sûrëkhâ
वर्ण पिरामिड विधा
वर्ण पिरामिड विधा
Pratibha Pandey
नजरे मिली धड़कता दिल
नजरे मिली धड़कता दिल
Khaimsingh Saini
मतलबी ज़माना है.
मतलबी ज़माना है.
शेखर सिंह
खंड काव्य लिखने के महारथी तो हो सकते हैं,
खंड काव्य लिखने के महारथी तो हो सकते हैं,
DrLakshman Jha Parimal
फारवर्डेड लव मैसेज
फारवर्डेड लव मैसेज
Dr. Pradeep Kumar Sharma
*मोटू (बाल कविता)*
*मोटू (बाल कविता)*
Ravi Prakash
कुछ काम करो , कुछ काम करो
कुछ काम करो , कुछ काम करो
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
जब गेंद बोलती है, धरती हिलती है, मोहम्मद शमी का जादू, बयां क
जब गेंद बोलती है, धरती हिलती है, मोहम्मद शमी का जादू, बयां क
Sahil Ahmad
मां बाप
मां बाप
Mukesh Kumar Sonkar
दीप ऐसा जले
दीप ऐसा जले
Kumud Srivastava
"जुबां पर"
Dr. Kishan tandon kranti
କେବଳ ଗୋଟିଏ
କେବଳ ଗୋଟିଏ
Otteri Selvakumar
मौसम सुहाना बनाया था जिसने
मौसम सुहाना बनाया था जिसने
VINOD CHAUHAN
जिंदगी को बोझ मान
जिंदगी को बोझ मान
भरत कुमार सोलंकी
*मतदान*
*मतदान*
Shashi kala vyas
जगतगुरु स्वामी रामानंदाचार्य जन्मोत्सव
जगतगुरु स्वामी रामानंदाचार्य जन्मोत्सव
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
न छीनो मुझसे मेरे गम
न छीनो मुझसे मेरे गम
Mahesh Tiwari 'Ayan'
बादल
बादल
लक्ष्मी सिंह
हिसका (छोटी कहानी) / मुसाफ़िर बैठा
हिसका (छोटी कहानी) / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
■ संडे इज़ द फंडे...😊
■ संडे इज़ द फंडे...😊
*प्रणय प्रभात*
अनेकता में एकता 🇮🇳🇮🇳
अनेकता में एकता 🇮🇳🇮🇳
Madhuri Markandy
दुश्मन से भी यारी रख। मन में बातें प्यारी रख। दुख न पहुंचे लहजे से। इतनी जिम्मेदारी रख। ।
दुश्मन से भी यारी रख। मन में बातें प्यारी रख। दुख न पहुंचे लहजे से। इतनी जिम्मेदारी रख। ।
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
Loading...