Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Dec 2022 · 1 min read

*शीत ऋतु (गीत)*

शीत ऋतु (गीत)
————————
सर्दी की देखो ऋतु आई
(1)
चिड़िया चुप है कौआ सोता
सुबह देर से दिन है होता
सूरज ने कब शक्ल दिखाई
(2)
शाम रोज जल्दी आ जाती
शीत-लहर हड्डियाँ कँपाती
स्वेटर ने कब ठंड भगाई
(3)
मौसम में फैला सन्नाटा
दिन में भी निकलो तो घाटा
और कहें कैसे हैं भाई
सर्दी की देखो ऋतु आई
——————————————-
रचयिताः रविप्रकाश
बाजार सर्राफा, रामपुर (उ.प्र.)
मो.. 9997615451

92 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
जब होती हैं स्वार्थ की,
जब होती हैं स्वार्थ की,
sushil sarna
मैं तेरे अहसानों से ऊबर भी  जाऊ
मैं तेरे अहसानों से ऊबर भी जाऊ
Swami Ganganiya
ज़िंदगी को यादगार बनाएं
ज़िंदगी को यादगार बनाएं
Dr fauzia Naseem shad
5) कब आओगे मोहन
5) कब आओगे मोहन
पूनम झा 'प्रथमा'
अयोग्य व्यक्ति द्वारा शासन
अयोग्य व्यक्ति द्वारा शासन
Paras Nath Jha
आपको डुबाने के लिए दुनियां में,
आपको डुबाने के लिए दुनियां में,
नेताम आर सी
महान् बनना सरल है
महान् बनना सरल है
प्रेमदास वसु सुरेखा
ऐसा क्यूं है??
ऐसा क्यूं है??
Kanchan Alok Malu
यादों में
यादों में
Shweta Soni
सुंदर शरीर का, देखो ये क्या हाल है
सुंदर शरीर का, देखो ये क्या हाल है
डॉ.एल. सी. जैदिया 'जैदि'
मंद मंद बहती हवा
मंद मंद बहती हवा
Soni Gupta
ఓ యువత మేలుకో..
ఓ యువత మేలుకో..
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
एक उम्र
एक उम्र
Rajeev Dutta
💐प्रेम कौतुक-400💐
💐प्रेम कौतुक-400💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
बहू हो या बेटी ,
बहू हो या बेटी ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
*यह दौर गजब का है*
*यह दौर गजब का है*
Harminder Kaur
एक ही बात याद रखो अपने जीवन में कि ...
एक ही बात याद रखो अपने जीवन में कि ...
Vinod Patel
मुझे बदनाम करने की कोशिश में लगा है.........,
मुझे बदनाम करने की कोशिश में लगा है.........,
कवि दीपक बवेजा
मृत्यु पर विजय
मृत्यु पर विजय
Mukesh Kumar Sonkar
अंदाज़े शायरी
अंदाज़े शायरी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
प्रेरणा और पराक्रम
प्रेरणा और पराक्रम
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
अकेला बेटा........
अकेला बेटा........
पूर्वार्थ
चुप रहना ही खाशियत है इस दौर की
चुप रहना ही खाशियत है इस दौर की
डॉ. दीपक मेवाती
* खूब खिलती है *
* खूब खिलती है *
surenderpal vaidya
चिढ़ है उन्हें
चिढ़ है उन्हें
Shekhar Chandra Mitra
डॉ. नामवर सिंह की आलोचना के प्रपंच
डॉ. नामवर सिंह की आलोचना के प्रपंच
कवि रमेशराज
"मन-मतंग"
Dr. Kishan tandon kranti
■ तय मानिए...
■ तय मानिए...
*Author प्रणय प्रभात*
*दशरथनंदन सीतापति को, सौ-सौ बार प्रणाम है (मुक्तक)*
*दशरथनंदन सीतापति को, सौ-सौ बार प्रणाम है (मुक्तक)*
Ravi Prakash
आदिकवि सरहपा।
आदिकवि सरहपा।
Acharya Rama Nand Mandal
Loading...