Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Dec 2023 · 1 min read

****शीतल प्रभा****

धुंध में लिपटी प्रभा आई
कुहरे संग शीतलता लाई
पथ सुने तो कहीं ओस भरे
अलाव तापते लोग खड़े।

सर्द हवा ने रुख बदलाया
धरा ने नव्य रूप दिखलाया
सरसों,बथुआ,की हरियाली
गुड़हल की है रंगत निराली

नर शीतलता से आकुल हुए
सदन में ठहर व्याकुल हुए
निशी दीर्घ बेला ले आई
उज्जवला ने ली विदाई।

गेंदा,चमेली गुलाब महका
केवड़ा जासवंती संग बहका
मधुकर ने तब गुंजन सुनाई
सरोवर पे सुर्खाब दिखलाई।

फलों से लदी तरु की डाली
बैर,आँवला की छटा निराली
गाजर,सुरन, अमरूद,केले
गन्ना,सरसों,गराडू फैले।

विहग ने सुरीले गीत गाये
कलियों संग सुमन मुस्काये
गगन ने मोतियों की लड़ियाँ
चुनके वसुधा पर बिखराई।

✍️”कविता चौहान”
स्वरचित एवं मौलिक

2 Comments · 164 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
यही पाँच हैं वावेल (Vowel) प्यारे
यही पाँच हैं वावेल (Vowel) प्यारे
Jatashankar Prajapati
यक्ष प्रश्न
यक्ष प्रश्न
Manu Vashistha
उसकी दोस्ती में
उसकी दोस्ती में
Satish Srijan
भुजरियों, कजलियों की राम राम जी 🎉🙏
भुजरियों, कजलियों की राम राम जी 🎉🙏
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
इतनी उदासी और न पक्षियों का घनेरा
इतनी उदासी और न पक्षियों का घनेरा
Charu Mitra
भस्मासुर
भस्मासुर
आनन्द मिश्र
जब भी दिल का
जब भी दिल का
Neelam Sharma
शेखर सिंह ✍️
शेखर सिंह ✍️
शेखर सिंह
बटोही  (कुंडलिया)
बटोही (कुंडलिया)
Ravi Prakash
क्रांतिकारी किसी देश के लिए वह उत्साहित स्तंभ रहे है जिनके ज
क्रांतिकारी किसी देश के लिए वह उत्साहित स्तंभ रहे है जिनके ज
Rj Anand Prajapati
वाह नेता जी!
वाह नेता जी!
Sanjay ' शून्य'
प्रेरणा
प्रेरणा
पूर्वार्थ
सर्दी में कोहरा गिरता है बरसात में पानी।
सर्दी में कोहरा गिरता है बरसात में पानी।
ख़ान इशरत परवेज़
वो शख्स लौटता नहीं
वो शख्स लौटता नहीं
Surinder blackpen
मेरा तुझसे मिलना, मिलकर इतना यूं करीब आ जाना।
मेरा तुझसे मिलना, मिलकर इतना यूं करीब आ जाना।
AVINASH (Avi...) MEHRA
खुद से सिफारिश कर लेते हैं
खुद से सिफारिश कर लेते हैं
Smriti Singh
ये आँधियाँ हालातों की, क्या इस बार जीत पायेगी ।
ये आँधियाँ हालातों की, क्या इस बार जीत पायेगी ।
Manisha Manjari
2388.पूर्णिका
2388.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
बेटियां बोझ नहीं होती
बेटियां बोझ नहीं होती
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
कवियों की कैसे हो होली
कवियों की कैसे हो होली
महेश चन्द्र त्रिपाठी
अब भी दुनिया का सबसे कठिन विषय
अब भी दुनिया का सबसे कठिन विषय "प्रेम" ही है
DEVESH KUMAR PANDEY
शिक्षक दिवस
शिक्षक दिवस
Ram Krishan Rastogi
कोई मरहम
कोई मरहम
Dr fauzia Naseem shad
✍️गहरी बात✍️
✍️गहरी बात✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
इक्कीसवीं सदी की कविता में रस +रमेशराज
इक्कीसवीं सदी की कविता में रस +रमेशराज
कवि रमेशराज
ऐतिहासिक भूल
ऐतिहासिक भूल
Shekhar Chandra Mitra
मन की गांठ
मन की गांठ
Sangeeta Beniwal
यदि केवल बातों से वास्ता होता तो
यदि केवल बातों से वास्ता होता तो
Keshav kishor Kumar
*
*"गणतंत्र दिवस"*
Shashi kala vyas
#अभी_अभी
#अभी_अभी
*Author प्रणय प्रभात*
Loading...