Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Apr 2023 · 1 min read

शिव विनाशक,

शिव विनाशक,
शिव अविनाशी।
शिव ही पालक,
शिव संहारक।
शिव ओंकार,
शिव प्रणवकार।
शिव गण पिशाच,
शिव बने किरात।
शिव दया रूप,
शिव क्रोध स्वरूप।
शिव शांत ह्रदय,
शिव ही तांडव ,प्रलय।

– शाम्भवी शिवओम मिश्रा

501 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
दर्द ....
दर्द ....
sushil sarna
हर इश्क में रूह रोता है
हर इश्क में रूह रोता है
Pratibha Pandey
गुरु अंगद देव
गुरु अंगद देव
कवि रमेशराज
Kya kahun ki kahne ko ab kuchh na raha,
Kya kahun ki kahne ko ab kuchh na raha,
Irfan khan
दुनिया कितनी निराली इस जग की
दुनिया कितनी निराली इस जग की
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
फ़ितरत
फ़ितरत
Dr.Priya Soni Khare
मेरा वजूद क्या
मेरा वजूद क्या
भरत कुमार सोलंकी
अर्थ शब्दों के. (कविता)
अर्थ शब्दों के. (कविता)
Monika Yadav (Rachina)
खेल खिलौने वो बचपन के
खेल खिलौने वो बचपन के
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मैंने खुद को जाना, सुना, समझा बहुत है
मैंने खुद को जाना, सुना, समझा बहुत है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
अनकहे अल्फाज़
अनकहे अल्फाज़
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
याद रक्खा नहीं भुलाया है
याद रक्खा नहीं भुलाया है
Dr fauzia Naseem shad
अपने चरणों की धूलि बना लो
अपने चरणों की धूलि बना लो
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
फेसबुक पर सक्रिय रहितो अनजान हम बनल रहैत छी ! आहाँ बधाई शुभक
फेसबुक पर सक्रिय रहितो अनजान हम बनल रहैत छी ! आहाँ बधाई शुभक
DrLakshman Jha Parimal
"महंगाई"
Slok maurya "umang"
बेकारी का सवाल
बेकारी का सवाल
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
"विरले ही लोग"
Dr. Kishan tandon kranti
मुफ़्तखोरी
मुफ़्तखोरी
SURYA PRAKASH SHARMA
वादा
वादा
Bodhisatva kastooriya
*कविवर शिव कुमार चंदन* *(कुंडलिया)*
*कविवर शिव कुमार चंदन* *(कुंडलिया)*
Ravi Prakash
"बूढ़ा" तो एक दिन
*प्रणय प्रभात*
"A Dance of Desires"
Manisha Manjari
राष्ट्र निर्माता गुरु
राष्ट्र निर्माता गुरु
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
पुकारती है खनकती हुई चूड़ियाँ तुमको।
पुकारती है खनकती हुई चूड़ियाँ तुमको।
Neelam Sharma
मोक्ष पाने के लिए नौकरी जरुरी
मोक्ष पाने के लिए नौकरी जरुरी
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
"बोलती आँखें"
पंकज कुमार कर्ण
ग्वालियर की बात
ग्वालियर की बात
पूर्वार्थ
बंदिशें
बंदिशें
Kumud Srivastava
विश्व पुस्तक दिवस पर
विश्व पुस्तक दिवस पर
Mohan Pandey
जीवन की आपाधापी में, न जाने सब क्यों छूटता जा रहा है।
जीवन की आपाधापी में, न जाने सब क्यों छूटता जा रहा है।
Gunjan Tiwari
Loading...