Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Jul 2023 · 1 min read

शिव की महिमा

जो कोई पाठ करे शिव जी का
रहे सुखी हर पल जीवन में
कण-कण में है भोले शम्भु
रख विश्वास शिव स्मरण में
शिव की महिमा अनंत अपार
सब करो इनका गुणगान

न कर सके कोई इनकी उदारता का बखान
इनके है नाम अनेको,
शिव कहो चाहे महादेव कहो भोलेनाथ कहो
भले ही कैलाशपति कहो
नाम भले ही है अनेको पर,
माया एक ही है महादेव री

शिव है सृष्टि के रखवाले
मोह,माया से कोसों दूर
है जटाधारी और तपस्वी
साथ ही है ज्ञानवान दृष्टा
शिव की महिमा अनंत अपार
सब करो इनका गुणगान

कवि : प्रवीण सैन नवापुरा ध्वेचा
बागोड़ा (जालोर)

Language: Hindi
1 Like · 272 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जो लोग धन को ही जीवन का उद्देश्य समझ बैठे है उनके जीवन का भो
जो लोग धन को ही जीवन का उद्देश्य समझ बैठे है उनके जीवन का भो
Rj Anand Prajapati
वो एक विभा..
वो एक विभा..
Parvat Singh Rajput
सरस रंग
सरस रंग
Punam Pande
"पनाहों में"
Dr. Kishan tandon kranti
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
भ्रम नेता का
भ्रम नेता का
Sanjay ' शून्य'
एकांत
एकांत
DR ARUN KUMAR SHASTRI
*हिंदी हमारी शान है, हिंदी हमारा मान है*
*हिंदी हमारी शान है, हिंदी हमारा मान है*
Dushyant Kumar
।।आध्यात्मिक प्रेम।।
।।आध्यात्मिक प्रेम।।
Aryan Raj
Ye chad adhura lagta hai,
Ye chad adhura lagta hai,
Sakshi Tripathi
"सत्य अमर है"
Ekta chitrangini
ना बातें करो,ना मुलाकातें करो,
ना बातें करो,ना मुलाकातें करो,
Dr. Man Mohan Krishna
करवाचौथ
करवाचौथ
Dr Archana Gupta
इशारा दोस्ती का
इशारा दोस्ती का
Sandeep Pande
नए साल के ज़श्न को हुए सभी तैयार
नए साल के ज़श्न को हुए सभी तैयार
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
कोई नहीं देता...
कोई नहीं देता...
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
*सभी कर्मों का अच्छा फल, नजर फौरन नहीं आता (हिंदी गजल)*
*सभी कर्मों का अच्छा फल, नजर फौरन नहीं आता (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
2899.*पूर्णिका*
2899.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
बार बार बोला गया झूठ भी बाद में सच का परिधान पहन कर सच नजर आ
बार बार बोला गया झूठ भी बाद में सच का परिधान पहन कर सच नजर आ
Babli Jha
*अध्यापिका
*अध्यापिका
Naushaba Suriya
सुप्त तरुण निज मातृभूमि को हीन बनाकर के विभेद दें।
सुप्त तरुण निज मातृभूमि को हीन बनाकर के विभेद दें।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
नई बहू
नई बहू
Dr. Pradeep Kumar Sharma
विचार और भाव-2
विचार और भाव-2
कवि रमेशराज
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
आज कृत्रिम रिश्तों पर टिका, ये संसार है ।
आज कृत्रिम रिश्तों पर टिका, ये संसार है ।
Manisha Manjari
अपने
अपने
Shyam Sundar Subramanian
सपने..............
सपने..............
पूर्वार्थ
तपन ऐसी रखो
तपन ऐसी रखो
Ranjana Verma
रंगों की दुनिया में हम सभी रहते हैं
रंगों की दुनिया में हम सभी रहते हैं
Neeraj Agarwal
■ आज की बात
■ आज की बात
*Author प्रणय प्रभात*
Loading...