Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
31 Jul 2023 · 1 min read

शिव आदि पुरुष सृष्टि के,

शिव आदि पुरुष सृष्टि के,
शिव ही करते अंत
कर पूजा शिव की सदा,
शिव संतों के संत
– महावीर उत्तरांचली

1 Like · 72 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
View all
You may also like:
धूप
धूप
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
"शेर-ऐ-पंजाब महाराजा रणजीत सिंह और कोहिनूर हीरा"
Pravesh Shinde
जैसे एकसे दिखने वाले नमक और चीनी का स्वाद अलग अलग होता है...
जैसे एकसे दिखने वाले नमक और चीनी का स्वाद अलग अलग होता है...
Radhakishan R. Mundhra
क्षमा
क्षमा
Saraswati Bajpai
न मिलती कुछ तवज्जो है, न होता मान सीधे का।
न मिलती कुछ तवज्जो है, न होता मान सीधे का।
डॉ.सीमा अग्रवाल
2261.
2261.
Dr.Khedu Bharti
कलम
कलम
शायर देव मेहरानियां
नारी को मानसिक रूप से
नारी को मानसिक रूप से
Dr fauzia Naseem shad
मैं तो महज चुनौती हूँ
मैं तो महज चुनौती हूँ
VINOD CHAUHAN
हम फर्श पर गुमान करते,
हम फर्श पर गुमान करते,
Neeraj Agarwal
■ एक शेर
■ एक शेर
*Author प्रणय प्रभात*
परिपक्वता (maturity) को मापने के लिए उम्र का पैमाना (scale)
परिपक्वता (maturity) को मापने के लिए उम्र का पैमाना (scale)
Seema Verma
समाप्त हो गई परीक्षा
समाप्त हो गई परीक्षा
Vansh Agarwal
मैं घाट तू धारा…
मैं घाट तू धारा…
Rekha Drolia
: काश कोई प्यार को समझ पाता
: काश कोई प्यार को समझ पाता
shabina. Naaz
Kabhi kabhi
Kabhi kabhi
Vandana maurya
हर नदी अपनी राह खुद ब खुद बनाती है ।
हर नदी अपनी राह खुद ब खुद बनाती है ।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
ਕੁਝ ਕਿਰਦਾਰ
ਕੁਝ ਕਿਰਦਾਰ
Surinder blackpen
बहुत सोर करती है ,तुम्हारी बेजुबा यादें।
बहुत सोर करती है ,तुम्हारी बेजुबा यादें।
पूर्वार्थ
हमारा हरियाणा प्रदेश
हमारा हरियाणा प्रदेश
Ram Krishan Rastogi
रस्सी जैसी जिंदगी हैं,
रस्सी जैसी जिंदगी हैं,
Jay Dewangan
खुद से प्यार
खुद से प्यार
लक्ष्मी सिंह
💐अज्ञात के प्रति-93💐
💐अज्ञात के प्रति-93💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
पहचान
पहचान
Dr. Pradeep Kumar Sharma
पतझड़
पतझड़
ओश
ज़िन्दगी में हमेशा खुशियों की सौगात रहे।
ज़िन्दगी में हमेशा खुशियों की सौगात रहे।
Phool gufran
खाने में हल्की रही, मधुर मूँग की दाल(कुंडलिया)
खाने में हल्की रही, मधुर मूँग की दाल(कुंडलिया)
Ravi Prakash
जमाने को खुद पे
जमाने को खुद पे
A🇨🇭maanush
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
🌹 मैं सो नहीं पाया🌹
🌹 मैं सो नहीं पाया🌹
सुरेश अजगल्ले"इंद्र"
Loading...