Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Mar 2023 · 1 min read

शिल्पकार

एक अच्छे शिल्पकार थे तुम
हर पत्थर को तराशना बख़ूबी
जानते हो

एक बूत मिला था उसे भी तराशा
ज़माने भर की कमी तलाश कर

पत्थर को एक मूर्ति में परिवर्तित
कर तो दिए पर सीने में

साँसों के साथ धड़कन को
रखना भूल गए तुम ..!!⚘💕
सुरिंदर कौर

Language: Hindi
200 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Surinder blackpen
View all
You may also like:
हँसते गाते हुए
हँसते गाते हुए
Shweta Soni
अखंड भारत कब तक?
अखंड भारत कब तक?
जय लगन कुमार हैप्पी
" उज़्र " ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
जीवन की नैया
जीवन की नैया
भरत कुमार सोलंकी
अपने किरदार में
अपने किरदार में
Dr fauzia Naseem shad
सोशलमीडिया की दोस्ती
सोशलमीडिया की दोस्ती
लक्ष्मी सिंह
मेरे मालिक मेरी क़लम को इतनी क़ुव्वत दे
मेरे मालिक मेरी क़लम को इतनी क़ुव्वत दे
Dr Tabassum Jahan
*रामलला का सूर्य तिलक*
*रामलला का सूर्य तिलक*
Ghanshyam Poddar
Quote
Quote
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
* आओ ध्यान करें *
* आओ ध्यान करें *
surenderpal vaidya
फितरत में वफा हो तो
फितरत में वफा हो तो
shabina. Naaz
जब  फ़ज़ाओं  में  कोई  ग़म  घोलता है
जब फ़ज़ाओं में कोई ग़म घोलता है
प्रदीप माहिर
मेरे हर शब्द की स्याही है तू..
मेरे हर शब्द की स्याही है तू..
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
◆केवल बुद्धिजीवियों के लिए:-
◆केवल बुद्धिजीवियों के लिए:-
*Author प्रणय प्रभात*
*
*"ओ पथिक"*
Shashi kala vyas
स्वर्ग से सुन्दर
स्वर्ग से सुन्दर
Dr. Pradeep Kumar Sharma
"कभी मेरा ज़िक्र छीड़े"
Lohit Tamta
आदान-प्रदान
आदान-प्रदान
Ashwani Kumar Jaiswal
रक्षाबंधन
रक्षाबंधन
Harminder Kaur
सुनो पहाड़ की....!!! (भाग - ११)
सुनो पहाड़ की....!!! (भाग - ११)
Kanchan Khanna
श्याम दिलबर बना जब से
श्याम दिलबर बना जब से
Khaimsingh Saini
"ख़्वाहिश"
Dr. Kishan tandon kranti
खुद को इतना मजबूत बनाइए कि लोग आपसे प्यार करने के लिए मजबूर
खुद को इतना मजबूत बनाइए कि लोग आपसे प्यार करने के लिए मजबूर
ruby kumari
Anxiety fucking sucks.
Anxiety fucking sucks.
पूर्वार्थ
3152.*पूर्णिका*
3152.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
वो ख्वाबों में अब भी चमन ढूंढ़ते हैं।
वो ख्वाबों में अब भी चमन ढूंढ़ते हैं।
Phool gufran
भावनाओं में तैरता हुआ कवि
भावनाओं में तैरता हुआ कवि
Anamika Tiwari 'annpurna '
सब कुछ हमारा हमी को पता है
सब कुछ हमारा हमी को पता है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
*जनता को कर नमस्कार, जेलों में जाते नेताजी(हिंदी गजल/ गीतिका
*जनता को कर नमस्कार, जेलों में जाते नेताजी(हिंदी गजल/ गीतिका
Ravi Prakash
★संघर्ष जीवन का★
★संघर्ष जीवन का★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
Loading...