Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
31 Mar 2024 · 1 min read

शिद्धतों से ही मिलता है रोशनी का सबब्

शिद्धतों से ही मिलता है रोशनी का सबब्
अंधेरों ने तो बहुत ही वीरान किया होता है

मंजिल पर आकर राही को मिलता है सुकून
वर्ना रास्तों ने तो बहुत परेशान किया होता है

✍️कवि दीपक सरल

47 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
5 हाइकु
5 हाइकु
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
तारो की चमक ही चाँद की खूबसूरती बढ़ाती है,
तारो की चमक ही चाँद की खूबसूरती बढ़ाती है,
Ranjeet kumar patre
पूछी मैंने साँझ से,
पूछी मैंने साँझ से,
sushil sarna
आप और हम
आप और हम
Neeraj Agarwal
देश गान
देश गान
Prakash Chandra
Khuch chand kisso ki shuruat ho,
Khuch chand kisso ki shuruat ho,
Sakshi Tripathi
5 हिन्दी दोहा बिषय- विकार
5 हिन्दी दोहा बिषय- विकार
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
*** चंद्रयान-३ : चांद की सतह पर....! ***
*** चंद्रयान-३ : चांद की सतह पर....! ***
VEDANTA PATEL
बस तुम
बस तुम
Rashmi Ranjan
सत्य की खोज
सत्य की खोज
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
कहना नहीं तुम यह बात कल
कहना नहीं तुम यह बात कल
gurudeenverma198
(8) मैं और तुम (शून्य- सृष्टि )
(8) मैं और तुम (शून्य- सृष्टि )
Kishore Nigam
3200.*पूर्णिका*
3200.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
आज का यथार्थ~
आज का यथार्थ~
दिनेश एल० "जैहिंद"
पुलिस बनाम लोकतंत्र (व्यंग्य) +रमेशराज
पुलिस बनाम लोकतंत्र (व्यंग्य) +रमेशराज
कवि रमेशराज
जिंदगी के कुछ कड़वे सच
जिंदगी के कुछ कड़वे सच
Sûrëkhâ
दिवाली का संकल्प
दिवाली का संकल्प
Dr. Pradeep Kumar Sharma
Two scarred souls and the seashore, was it a glorious beginning?
Two scarred souls and the seashore, was it a glorious beginning?
Manisha Manjari
जिंदगी की फितरत
जिंदगी की फितरत
Amit Pathak
उम्मीद है दिल में
उम्मीद है दिल में
Surinder blackpen
अपने चरणों की धूलि बना लो
अपने चरणों की धूलि बना लो
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
बारिश की संध्या
बारिश की संध्या
महेश चन्द्र त्रिपाठी
प्रेरणा और पराक्रम
प्रेरणा और पराक्रम
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
बुराइयां हैं बहुत आदमी के साथ
बुराइयां हैं बहुत आदमी के साथ
Shivkumar Bilagrami
सीख लिया मैनै
सीख लिया मैनै
Seema gupta,Alwar
पयसी
पयसी
DR ARUN KUMAR SHASTRI
*कविता पुरस्कृत*
*कविता पुरस्कृत*
Ravi Prakash
छीज रही है धीरे-धीरे मेरी साँसों की डोर।
छीज रही है धीरे-धीरे मेरी साँसों की डोर।
डॉ.सीमा अग्रवाल
There is nothing wrong with slowness. All around you in natu
There is nothing wrong with slowness. All around you in natu
पूर्वार्थ
मणिपुर की घटना ने शर्मसार कर दी सारी यादें
मणिपुर की घटना ने शर्मसार कर दी सारी यादें
Vicky Purohit
Loading...