Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 May 2023 · 2 min read

शाहजहां के ताजमहल के मजदूर।

लोहे को पिघलाकर जो उसका आकार बदल देता है ।
ईट -ईट को जोड़कर जो महल खड़ा कर देता हैं ।
अपने श्रम का दान कर, जो दूसरो का काम कर जाता है ।
याद हैं आज भी बरबस जुबान पर नाम आ जाता है ।

उस्ताद अहम लाहौरी और उस्ताद ईसा खान ।
ताजमहल के थे जो सरनाम वास्तुकारो मे प्रधान ।
अजूबा बना हैं अपनी प्रेम और सुंदरता का आज पूरे जहान ।
पूछने पर कह दिया जाता है ताजमहल बनाया शाहजहां ने ।
ताजमहल बनाने का कैसा उनको ये प्रतिफल मिला ।
20 हजार मजदूरो ने मिल 22 साल मे यह ऐतिहासिक काम किया ।
मुमताज की याद मे शाहजहां के प्यार को देख ताजमहल का निर्माण किया ।
और उनको उसके बदले में अपने हाथ-पैर गंवाने पड़े ।
क्योकि शाहजहां ने सोचा कि ऐसा अजूबा फिर कभी न बने ।
श्रम दान से बढकर न दान कोई हमको समझ में आता हैं ।
खून, पसीना अपना बहाकर चंद पैसो के लिए वो ।
झोपङ -पट्टी मे गुजर -बसर कर आपका आलीशान महल बनाता है ।
साम्यवाद विचारधारक कार्ल मार्क्स ने कहा है क्या ।
कि हे ! विश्व के मजदूरो तुम सब एक हो जाओ ।
क्योकि तुम्हारे पास खोने को बेङिया है और पाने के लिए संसार ।
एक बात तुम ये समझ लेना मजदूरो का कोई देश नही होता है ।
अमेरिका मे मजदूरो को 18-18 घण्टे खटाएं जाते थे ।
अमेरिका के मजदूर यूनियन ने काम को 8 घण्टे तक करने की कवायद रखी ।
इसी के विरूद्ध मे हड़ताल किए ,न्याय का फरमान दिए ।
1 मई 1886 से मजदूर दिवस मनाया जा रहा ।
ये मजदूर ही हैं जिसके बलबूते कोई कोई अरबपति – खरबपति बन रहा ।
मजदूर नही वो हमारे विश्वकर्मा भगवान् हैं ।
उन्ही से लाल किला, गीजा पिरामिड और विश्व के पर्यटन गौरववान है ।
जय मजदूर – जय श्रमपरिपूर्ण – जय मां लक्ष्मी नूर ।
जहां श्रम वहां दुनिया का हरेक पदार्थ हैं ।
जहां आलस्य हैं वहां केवल श्मशान हैं ।
तप और श्रम के ही बल पर ये धरा की डोर है ।
ब्रह्म-विष्णु – महेश का यही मंत्र और शक्तिपुंज है ।

Language: Hindi
238 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
संवेदनाओं का भव्य संसार
संवेदनाओं का भव्य संसार
Ritu Asooja
बाजार आओ तो याद रखो खरीदना क्या है।
बाजार आओ तो याद रखो खरीदना क्या है।
Rajendra Kushwaha
प्रकृति
प्रकृति
Bodhisatva kastooriya
यह गलतफहमी कभी नहीं पालता कि,
यह गलतफहमी कभी नहीं पालता कि,
Jogendar singh
*हारा कब हारा नहीं, दिलवाया जब हार (हास्य कुंडलिया)*
*हारा कब हारा नहीं, दिलवाया जब हार (हास्य कुंडलिया)*
Ravi Prakash
जगत का हिस्सा
जगत का हिस्सा
Harish Chandra Pande
शिक्षा और संस्कार जीवंत जीवन के
शिक्षा और संस्कार जीवंत जीवन के
Neelam Sharma
गजल सगीर
गजल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
आत्महत्या कर के भी, मैं जिंदा हूं,
आत्महत्या कर के भी, मैं जिंदा हूं,
Pramila sultan
लहरों ने टूटी कश्ती को कमतर समझ लिया
लहरों ने टूटी कश्ती को कमतर समझ लिया
अंसार एटवी
सत्य की खोज
सत्य की खोज
Santosh Khanna (world record holder)
इक्कीसवीं सदी के सपने... / MUSAFIR BAITHA
इक्कीसवीं सदी के सपने... / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
कोरी आँखों के ज़र्द एहसास, आकर्षण की धुरी बन जाते हैं।
कोरी आँखों के ज़र्द एहसास, आकर्षण की धुरी बन जाते हैं।
Manisha Manjari
पढ़ें बेटियां-बढ़ें बेटियां
पढ़ें बेटियां-बढ़ें बेटियां
Shekhar Chandra Mitra
23/170.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/170.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
🙅सीधी बात🙅
🙅सीधी बात🙅
*प्रणय प्रभात*
जय भोलेनाथ ।
जय भोलेनाथ ।
Anil Mishra Prahari
रात भी तन्हाई भरी काटना ऐ मेरे दोस्त,
रात भी तन्हाई भरी काटना ऐ मेरे दोस्त,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
राजनीति
राजनीति
Dr. Pradeep Kumar Sharma
उज्जैन घटना
उज्जैन घटना
Rahul Singh
अर्जुन धुरंधर न सही ...एकलव्य तो बनना सीख लें ..मौन आखिर कब
अर्जुन धुरंधर न सही ...एकलव्य तो बनना सीख लें ..मौन आखिर कब
DrLakshman Jha Parimal
जिंदगी एक सफ़र अपनी 👪🧑‍🤝‍🧑👭
जिंदगी एक सफ़र अपनी 👪🧑‍🤝‍🧑👭
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
अधर मौन थे, मौन मुखर था...
अधर मौन थे, मौन मुखर था...
डॉ.सीमा अग्रवाल
जख्म भी रूठ गया है अबतो
जख्म भी रूठ गया है अबतो
सिद्धार्थ गोरखपुरी
तुम्हारे महबूब के नाजुक ह्रदय की तड़पती नसों की कसम।
तुम्हारे महबूब के नाजुक ह्रदय की तड़पती नसों की कसम।
★ IPS KAMAL THAKUR ★
अब मुझे महफिलों की,जरूरत नहीं रही
अब मुझे महफिलों की,जरूरत नहीं रही
पूर्वार्थ
हमने भी ज़िंदगी को
हमने भी ज़िंदगी को
Dr fauzia Naseem shad
उम्र पैंतालीस
उम्र पैंतालीस
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
किसी से अपनी बांग लगवानी हो,
किसी से अपनी बांग लगवानी हो,
Umender kumar
मुक्तक
मुक्तक
sushil sarna
Loading...