Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Dec 2023 · 1 min read

शाश्वत और सनातन

आप रोजमर्रा की जिंदगी,
जीते जीते,
हालात ऐसे हैं,
जैसे रोबोट
बिल्कुल यांत्रिक (mechanical)
.
ऐसे में मन मस्तिष्क के क्रियान्वयन,
क्रिया-शैली का अध्ययन आवश्यक है,
उदाहरण के तौर पर,
साइकिल चलाना,
मोटरसाइकिल चलाना,
फिर कार या भारी वाहन चलाने के सीखने,
जैसा ही है :-
जो साइकिल /मोटरसाइकिल /कार /भारी वाहन
बनाते हैं .।।
वे चलाना जानते हो, आवश्यक नहीं हैं,
जो चलाना जानते,
उनके लिए,
यह आवश्यक नहीं कि :- उन्हें बनाना आता हो,
.
जब वर्ण-व्यवस्था और जाति-व्यवस्था का भारत में जाल की बुनियाद रखी जा रही थी,
उस समय कल्पना बलवति थी,
बेईमानी मन में,
धोखे से राजपाट,
छीन कर,
सत्ता किसी नालायक को सौंपी जा रही थी,
उस समय, सेवक और स्त्री को वंचित कर,
शिक्षा और संपत्ति रखने के अधिकार इसलिए
छीन लिये गये,
क्योंकि ग्रंथ, वेद, पुराण, उपनिषद् इनके खिलाफत में थे, भारतीय सभ्यता और संस्कृति की आंतरिक भावना, बेईमान और असमानता की परिचायक रही है,, राज पाट चाहे, त्रेता के राम का हो, या द्वापर के कृष्ण का रहा हो .।।
दमन शूद्र वर्ण का ही करने के लिए,,,
उन्हें शिक्षा और भोजन व्यवस्था से दूर रखकर,
उनके साथ जानवरों जैसा क्रूर आचरण की देन,
भारतीय सभ्यता और संस्कृति की पराकाष्ठा रही है,, इस आधार को बनाये रखना, इसे टूटने न देने का स्वार्थ ही सनातन और शाश्वत यानि अनवरत परंपरा का नाम है..
(महेन्द्र सिंह मनु)

Language: Hindi
1 Like · 170 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Mahender Singh
View all
You may also like:
मनवा मन की कब सुने, करता इच्छित काम ।
मनवा मन की कब सुने, करता इच्छित काम ।
sushil sarna
नन्ही परी और घमंडी बिल्ली मिनी
नन्ही परी और घमंडी बिल्ली मिनी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
आपकी तस्वीर ( 7 of 25 )
आपकी तस्वीर ( 7 of 25 )
Kshma Urmila
ख़ाक हुए अरमान सभी,
ख़ाक हुए अरमान सभी,
Arvind trivedi
अभिव्यक्ति का दुरुपयोग एक बहुत ही गंभीर और चिंता का विषय है। भाग - 06 Desert Fellow Rakesh Yadav
अभिव्यक्ति का दुरुपयोग एक बहुत ही गंभीर और चिंता का विषय है। भाग - 06 Desert Fellow Rakesh Yadav
Desert fellow Rakesh
23/90.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/90.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
कारण कोई बतायेगा
कारण कोई बतायेगा
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
मुझको कुर्सी तक पहुंचा दे
मुझको कुर्सी तक पहुंचा दे
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मस्तमौला फ़क़ीर
मस्तमौला फ़क़ीर
Shekhar Chandra Mitra
ज़िंदगी को
ज़िंदगी को
Dr fauzia Naseem shad
#लघु_व्यंग्य
#लघु_व्यंग्य
*Author प्रणय प्रभात*
*अगर तुम फरवरी में जो चले आते तो अच्छा था (मुक्तक)*
*अगर तुम फरवरी में जो चले आते तो अच्छा था (मुक्तक)*
Ravi Prakash
गौरी।
गौरी।
Acharya Rama Nand Mandal
इसरो के हर दक्ष का,
इसरो के हर दक्ष का,
Rashmi Sanjay
"साहिल"
Dr. Kishan tandon kranti
... सच्चे मीत
... सच्चे मीत
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
कविता के हर शब्द का, होता है कुछ सार
कविता के हर शब्द का, होता है कुछ सार
Dr Archana Gupta
!! एक चिरईया‌ !!
!! एक चिरईया‌ !!
Chunnu Lal Gupta
"बचपन याद आ रहा"
Sandeep Kumar
अनंत का आलिंगन
अनंत का आलिंगन
Dr.Pratibha Prakash
मुझे हमेशा लगता था
मुझे हमेशा लगता था
ruby kumari
चुगलखोरों और जासूसो की सभा में गूंगे बना रहना ही बुद्धिमत्ता
चुगलखोरों और जासूसो की सभा में गूंगे बना रहना ही बुद्धिमत्ता
Rj Anand Prajapati
मन चाहे कुछ कहना....!
मन चाहे कुछ कहना....!
Kanchan Khanna
अहिल्या
अहिल्या
Dr.Priya Soni Khare
मेरे पूर्ण मे आधा व आधे मे पुर्ण अहसास हो
मेरे पूर्ण मे आधा व आधे मे पुर्ण अहसास हो
Anil chobisa
मैं तुमसे दुर नहीं हूँ जानम,
मैं तुमसे दुर नहीं हूँ जानम,
Dr. Man Mohan Krishna
लिखना है मुझे वह सब कुछ
लिखना है मुझे वह सब कुछ
पूनम कुमारी (आगाज ए दिल)
राम सिया की होली देख, अवध में हनुमंत लगे हर्षांने।
राम सिया की होली देख, अवध में हनुमंत लगे हर्षांने।
राकेश चौरसिया
लहर-लहर दीखे बम लहरी, बम लहरी
लहर-लहर दीखे बम लहरी, बम लहरी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
कुछ इस तरह टुटे है लोगो के नजरअंदाजगी से
कुछ इस तरह टुटे है लोगो के नजरअंदाजगी से
पूर्वार्थ
Loading...