Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Jul 2023 · 1 min read

शार्टकट

लघुकथा
शार्टकट
उनका लेखन बहुत अच्छा तो नहीं, पर ठीक-ठाक ही था। अक्सर स्थानीय अखबारों की रविवारीय अंक में उनकी रचनाएँ दिख जाती थीं। कभी-कभार राष्ट्रीय स्तर की अखबारों और संकलनों में भी। गद्य और पद्य की लगभग सभी विधाओं में उन्होंने कलम चलाया।
बचपन से ही निरंतर लिखते हुए पचपन तक पहुँचने पर उन्हें लगा कि वे जिस स्तर की रचनाकार हैं, उनकी ख्याति उस स्तर की नहीं है।
काफी सोच-विचार के बाद उन्होंने अपनी आत्मकथा लिखना शुरु किया। इसमें उन्होंने अपने एक समकालीन प्रख्यात साहित्यकार और संपादक जो अब यह दुनिया छोड़ चुके थे, पर यौन उत्पीड़न का आरोप लगा दिया।
आत्मकथा का वह अंश सोसल मीडिया में वायरल होने के बाद वे कुछ ही दिनों बहुचर्चित रचनाकार हो गई थीं। अब वे स्थानीय साहित्यिक कार्यक्रमों में मंच की शोभा बढ़ाने लगीं। वे प्रकाशक, जो कभी उनसे सीधे मुँह बात तक नहीं करते थे, अब उन्हें छापने को आतुर थे।
– डॉ. प्रदीप कुमार शर्मा
रायपुर, छत्तीसगढ़

Language: Hindi
150 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
#दोहा
#दोहा
*Author प्रणय प्रभात*
🥀*अज्ञानी की कलम*🥀
🥀*अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
पंक्ति में व्यंग कहां से लाऊं ?
पंक्ति में व्यंग कहां से लाऊं ?
goutam shaw
जगमगाती चाँदनी है इस शहर में
जगमगाती चाँदनी है इस शहर में
Dr Archana Gupta
मै हिन्दी का शब्द हूं, तू गणित का सवाल प्रिये.
मै हिन्दी का शब्द हूं, तू गणित का सवाल प्रिये.
Vishal babu (vishu)
मन मंदिर के कोने से 💺🌸👪
मन मंदिर के कोने से 💺🌸👪
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
मेरी हथेली पर, तुम्हारी उंगलियों के दस्तख़त
मेरी हथेली पर, तुम्हारी उंगलियों के दस्तख़त
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
वसंत की बहार।
वसंत की बहार।
Anil Mishra Prahari
दिल तुम्हारा जो कहे, वैसा करो
दिल तुम्हारा जो कहे, वैसा करो
अरशद रसूल बदायूंनी
रूठी हूं तुझसे
रूठी हूं तुझसे
Surinder blackpen
ज़िंदगी ख़त्म थोड़ी
ज़िंदगी ख़त्म थोड़ी
Dr fauzia Naseem shad
फागुन आया झूमकर, लगा सताने काम।
फागुन आया झूमकर, लगा सताने काम।
महेश चन्द्र त्रिपाठी
मुझे जीना सिखा कर ये जिंदगी
मुझे जीना सिखा कर ये जिंदगी
कृष्णकांत गुर्जर
(22) एक आंसू , एक हँसी !
(22) एक आंसू , एक हँसी !
Kishore Nigam
देश के युवा करे पुकार, शिक्षित हो हमारी सरकार
देश के युवा करे पुकार, शिक्षित हो हमारी सरकार
Gouri tiwari
প্রফুল্ল হৃদয় এবং হাস্যোজ্জ্বল চেহারা
প্রফুল্ল হৃদয় এবং হাস্যোজ্জ্বল চেহারা
Sakhawat Jisan
बड़ा हिज्र -हिज्र करता है तू ,
बड़ा हिज्र -हिज्र करता है तू ,
Rohit yadav
अनुभूति
अनुभूति
Shweta Soni
*पुस्तक समीक्षा*
*पुस्तक समीक्षा*
Ravi Prakash
23/160.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/160.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
सरकारी नौकरी
सरकारी नौकरी
कवि दीपक बवेजा
वैष्णों भोजन खाइए,
वैष्णों भोजन खाइए,
Satish Srijan
बेटियां / बेटे
बेटियां / बेटे
Mamta Singh Devaa
अहोभाग्य
अहोभाग्य
DR ARUN KUMAR SHASTRI
"आशिकी ने"
Dr. Kishan tandon kranti
दोहा त्रयी. . . शीत
दोहा त्रयी. . . शीत
sushil sarna
कुछ उत्तम विचार.............
कुछ उत्तम विचार.............
विमला महरिया मौज
जीवन
जीवन
Rekha Drolia
Helping hands🙌 are..
Helping hands🙌 are..
Vandana maurya
Jo kbhi mere aashko me dard bankar
Jo kbhi mere aashko me dard bankar
Sakshi Tripathi
Loading...