Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Aug 2022 · 1 min read

शायरी

बहुत कुछ था कहने को भीतर मेरे

पर एक कमबख्त तुम ही नहीं थी !

Language: Hindi
Tag: शेर
422 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from श्याम सिंह बिष्ट
View all
You may also like:
रविश कुमार हूँ मैं
रविश कुमार हूँ मैं
Sandeep Albela
Dr arun kumar शास्त्री
Dr arun kumar शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
दोहा
दोहा
दुष्यन्त 'बाबा'
मातृस्वरूपा प्रकृति
मातृस्वरूपा प्रकृति
ऋचा पाठक पंत
I want to collaborate with my  lost pen,
I want to collaborate with my lost pen,
Sakshi Tripathi
अपनी हसरत अपने दिल में दबा कर रखो
अपनी हसरत अपने दिल में दबा कर रखो
पूर्वार्थ
लहर
लहर
Shyam Sundar Subramanian
"अक्ल बेचारा"
Dr. Kishan tandon kranti
तुम्हारा साथ
तुम्हारा साथ
Ram Krishan Rastogi
मौन में भी शोर है।
मौन में भी शोर है।
लक्ष्मी सिंह
☀️ओज़☀️
☀️ओज़☀️
सुरेश अजगल्ले"इंद्र"
★क़त्ल ★
★क़त्ल ★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
हमारा संविधान
हमारा संविधान
AMRESH KUMAR VERMA
☄️💤 यादें 💤☄️
☄️💤 यादें 💤☄️
Dr Manju Saini
बिटिया  घर  की  ससुराल  चली, मन  में सब संशय पाल रहे।
बिटिया घर की ससुराल चली, मन में सब संशय पाल रहे।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
प्राकृतिक के प्रति अपने कर्तव्य को,
प्राकृतिक के प्रति अपने कर्तव्य को,
goutam shaw
एक मुक्तक....
एक मुक्तक....
डॉ.सीमा अग्रवाल
नव बर्ष 2023 काआगाज
नव बर्ष 2023 काआगाज
Dr. Girish Chandra Agarwal
💐प्रेम कौतुक-456💐
💐प्रेम कौतुक-456💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
न पूछो हुस्न की तारीफ़ हम से,
न पूछो हुस्न की तारीफ़ हम से,
Vishal babu (vishu)
जहां आपका सही और सटीक मूल्यांकन न हो वहां  पर आपको उपस्थित ह
जहां आपका सही और सटीक मूल्यांकन न हो वहां पर आपको उपस्थित ह
Rj Anand Prajapati
2968.*पूर्णिका*
2968.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
राष्ट्रप्रेम
राष्ट्रप्रेम
Dr. Pradeep Kumar Sharma
अपनों का दीद है।
अपनों का दीद है।
Satish Srijan
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
हंसने के फायदे
हंसने के फायदे
Manoj Kushwaha PS
*कुकर्मी पुजारी*
*कुकर्मी पुजारी*
Dushyant Kumar
मुझको क्या मतलब तुमसे
मुझको क्या मतलब तुमसे
gurudeenverma198
काश ये नींद भी तेरी याद के जैसी होती ।
काश ये नींद भी तेरी याद के जैसी होती ।
CA Amit Kumar
#लघुकथा
#लघुकथा
*Author प्रणय प्रभात*
Loading...