Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Jan 2020 · 1 min read

मुक्तक

1- हमने बुलंदी पे जाने की कसम खाई थी।
अपनों ने फलक से नीचे खींचने की कसम खाई थी।।

2- खामोश रहो तो सब है।
कह दो गर तो सब विलिन है।।

3- सारे खिड़की – दरवाजे बंद कर दो
झुठ की लगा दो पहरेदारी
छल – प्रपंच का बुन लो जाल
रुह को बहला लो फुसला लो
मगर
सच तो आॅक्सीजन है
दरारों – छिद्रों से चला ही आता है।

4- जो नजर से गिर जाते हैं
वो आंखों में सजते नहीं कभी।
जो नजर में सजते हैं
वो आंखों से बहते नहीं कभी।।

~रश्मि

Language: Hindi
3 Likes · 2 Comments · 425 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
यादों के झरने
यादों के झरने
Sidhartha Mishra
प्रदर्शनकारी पराए हों तो लाठियों की। सर्दी में गर्मी का अहसा
प्रदर्शनकारी पराए हों तो लाठियों की। सर्दी में गर्मी का अहसा
*प्रणय प्रभात*
बेबसी (शक्ति छन्द)
बेबसी (शक्ति छन्द)
नाथ सोनांचली
ग़ज़ल
ग़ज़ल
प्रीतम श्रावस्तवी
जीवन में कभी भी संत रूप में आए व्यक्ति का अनादर मत करें, क्य
जीवन में कभी भी संत रूप में आए व्यक्ति का अनादर मत करें, क्य
Sanjay ' शून्य'
करूण संवेदना
करूण संवेदना
Ritu Asooja
3045.*पूर्णिका*
3045.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
चाँद पर रखकर कदम ये यान भी इतराया है
चाँद पर रखकर कदम ये यान भी इतराया है
Dr Archana Gupta
*स्वच्छ गली-घर रखना सीखो (बाल कविता)*
*स्वच्छ गली-घर रखना सीखो (बाल कविता)*
Ravi Prakash
असली खबर वह होती है जिसे कोई दबाना चाहता है।
असली खबर वह होती है जिसे कोई दबाना चाहता है।
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
हावी दिलो-दिमाग़ पर, आज अनेकों रोग
हावी दिलो-दिमाग़ पर, आज अनेकों रोग
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
दिव्य दर्शन है कान्हा तेरा
दिव्य दर्शन है कान्हा तेरा
Neelam Sharma
* यौवन पचास का, दिल पंद्रेह का *
* यौवन पचास का, दिल पंद्रेह का *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
विरह–व्यथा
विरह–व्यथा
singh kunwar sarvendra vikram
नन्हीं परी आई है
नन्हीं परी आई है
Mukesh Kumar Sonkar
*परिचय*
*परिचय*
Pratibha Pandey
वाह भाई वाह
वाह भाई वाह
gurudeenverma198
लालच
लालच
Dr. Kishan tandon kranti
जिंदगी सितार हो गयी
जिंदगी सितार हो गयी
Mamta Rani
हर पल तलाशती रहती है नज़र,
हर पल तलाशती रहती है नज़र,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
"शाम की प्रतीक्षा में"
Ekta chitrangini
मिला कुछ भी नहीं खोया बहुत है
मिला कुछ भी नहीं खोया बहुत है
अरशद रसूल बदायूंनी
Teacher
Teacher
Rajan Sharma
जिस प्रकार लोहे को सांचे में ढालने पर उसका  आकार बदल  जाता ह
जिस प्रकार लोहे को सांचे में ढालने पर उसका आकार बदल जाता ह
Jitendra kumar
ती सध्या काय करते
ती सध्या काय करते
Mandar Gangal
भीड़ ने भीड़ से पूछा कि यह भीड़ क्यों लगी है? तो भीड़ ने भीड
भीड़ ने भीड़ से पूछा कि यह भीड़ क्यों लगी है? तो भीड़ ने भीड
जय लगन कुमार हैप्पी
शक्ति का पूंजी मनुष्य की मनुष्यता में है।
शक्ति का पूंजी मनुष्य की मनुष्यता में है।
प्रेमदास वसु सुरेखा
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
Bundeli doha-fadali
Bundeli doha-fadali
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
शायरी - ग़ज़ल - संदीप ठाकुर
शायरी - ग़ज़ल - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
Loading...