Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Feb 2017 · 1 min read

शायरी

न मारो उठा का पत्थेर, उस फिजां में
यहाँ पर रहने वाले तुम्हारे अपने ही है,
न आग का दरिया बनाओ इस शेहर को
यहाँ बसने वाले तुम्हारे अपने ही है !!

जल का यह चमन राख न बन जाये
इस चमन में ऐसा कुछ न होने देना,
यह बाग़ बड़ी मुश्किल से खिला है,
मेरे दोस्तों इस बाघ को न मुरझाने देना !!

कवि अजीत कुमार तलवार
मेरठ

Language: Hindi
Tag: शेर
243 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
View all
You may also like:
पेंशन प्रकरणों में देरी, लापरवाही, संवेदनशीलता नहीं रखने बाल
पेंशन प्रकरणों में देरी, लापरवाही, संवेदनशीलता नहीं रखने बाल
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी
बचपन अपना अपना
बचपन अपना अपना
Sanjay ' शून्य'
"गौरतलब"
Dr. Kishan tandon kranti
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
#शिवाजी_के_अल्फाज़
#शिवाजी_के_अल्फाज़
Abhishek Shrivastava "Shivaji"
23/05.छत्तीसगढ़ी पूर्णिका
23/05.छत्तीसगढ़ी पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
गीता में लिखा है...
गीता में लिखा है...
Omparkash Choudhary
संगीत का महत्व
संगीत का महत्व
Neeraj Agarwal
ग़ज़ल
ग़ज़ल
नितिन पंडित
💐प्रेम कौतुक-298💐
💐प्रेम कौतुक-298💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मैं भी क्यों रखूं मतलब उनसे
मैं भी क्यों रखूं मतलब उनसे
gurudeenverma198
हर लम्हे में
हर लम्हे में
Sangeeta Beniwal
Ek ladki udas hoti hai
Ek ladki udas hoti hai
Sakshi Tripathi
चमत्कार को नमस्कार
चमत्कार को नमस्कार
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
Even If I Ever Died
Even If I Ever Died
Manisha Manjari
’बज्जिका’ लोकभाषा पर एक परिचयात्मक आलेख / DR. MUSAFIR BAITHA
’बज्जिका’ लोकभाषा पर एक परिचयात्मक आलेख / DR. MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
वाह ग़ालिब तेरे इश्क के फतवे भी कमाल है
वाह ग़ालिब तेरे इश्क के फतवे भी कमाल है
Vishal babu (vishu)
#प्रयोगात्मक_कविता-
#प्रयोगात्मक_कविता-
*Author प्रणय प्रभात*
द्रोपदी फिर.....
द्रोपदी फिर.....
Kavita Chouhan
ऐसा नही था कि हम प्यारे नही थे
ऐसा नही था कि हम प्यारे नही थे
Dr Manju Saini
सावन का महीना
सावन का महीना
Mukesh Kumar Sonkar
समाप्त हो गई परीक्षा
समाप्त हो गई परीक्षा
Vansh Agarwal
भावात्मक
भावात्मक
Surya Barman
*चंदा (बाल कविता)*
*चंदा (बाल कविता)*
Ravi Prakash
जीवन है
जीवन है
Dr fauzia Naseem shad
आँख से अपनी अगर शर्म-ओ-हया पूछेगा
आँख से अपनी अगर शर्म-ओ-हया पूछेगा
Fuzail Sardhanvi
सत्य बोलना,
सत्य बोलना,
Buddha Prakash
दीवार
दीवार
अखिलेश 'अखिल'
दंगा पीड़ित कविता
दंगा पीड़ित कविता
Shyam Pandey
Loading...