Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
31 Aug 2016 · 1 min read

शायरी से आज

शिकवे हज़ार करने हैं हमको किसी से आज
मन्सूब इसलिए हुए हम शायरी …से आज

लगने लगा है डर मुझे इतनी खुशी से आज
पूछा है हाल उसने मेरा हर.किसी से आज

Language: Hindi
Tag: शेर
1 Like · 1 Comment · 706 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कितना भी आवश्यक या जरूरी काम हो
कितना भी आवश्यक या जरूरी काम हो
शेखर सिंह
श्रमिक दिवस
श्रमिक दिवस
Bodhisatva kastooriya
जीवन में सही सलाहकार का होना बहुत जरूरी है
जीवन में सही सलाहकार का होना बहुत जरूरी है
Rekha khichi
नाम दोहराएंगे
नाम दोहराएंगे
Dr.Priya Soni Khare
जब भी आपसे कोई व्यक्ति खफ़ा होता है तो इसका मतलब यह नहीं है
जब भी आपसे कोई व्यक्ति खफ़ा होता है तो इसका मतलब यह नहीं है
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
मैने नहीं बुलाए
मैने नहीं बुलाए
Dr. Meenakshi Sharma
चार दिन की जिंदगी मे किस कतरा के चलु
चार दिन की जिंदगी मे किस कतरा के चलु
Sampada
हो मापनी, मफ़्हूम, रब्त तब कहो ग़ज़ल।
हो मापनी, मफ़्हूम, रब्त तब कहो ग़ज़ल।
सत्य कुमार प्रेमी
मेरी जन्नत
मेरी जन्नत
Satish Srijan
"सुनो भाई-बहनों"
Dr. Kishan tandon kranti
जीत हार का देख लो, बदला आज प्रकार।
जीत हार का देख लो, बदला आज प्रकार।
Arvind trivedi
भूली-बिसरी यादें
भूली-बिसरी यादें
krishna waghmare , कवि,लेखक,पेंटर
"तेरी याद"
Pushpraj Anant
3262.*पूर्णिका*
3262.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
गणपति अभिनंदन
गणपति अभिनंदन
Shyam Sundar Subramanian
ज्ञान क्या है
ज्ञान क्या है
DR ARUN KUMAR SHASTRI
खामोशी मेरी मैं गुन,गुनाना चाहता हूं
खामोशी मेरी मैं गुन,गुनाना चाहता हूं
पूर्वार्थ
आपका अनुरोध स्वागत है। यहां एक कविता है जो आपके देश की हवा क
आपका अनुरोध स्वागत है। यहां एक कविता है जो आपके देश की हवा क
कार्तिक नितिन शर्मा
यदि आपका स्वास्थ्य
यदि आपका स्वास्थ्य
Paras Nath Jha
बरक्कत
बरक्कत
Awadhesh Singh
मुस्कुराहट खुशी की आहट होती है ,
मुस्कुराहट खुशी की आहट होती है ,
Rituraj shivem verma
बेवजह की नजदीकियों से पहले बहुत दूर हो जाना चाहिए,
बेवजह की नजदीकियों से पहले बहुत दूर हो जाना चाहिए,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
शब्द -शब्द था बोलता,
शब्द -शब्द था बोलता,
sushil sarna
!! प्रेम बारिश !!
!! प्रेम बारिश !!
The_dk_poetry
मंजिल
मंजिल
डॉ. शिव लहरी
ग़ज़ल- तू फितरत ए शैतां से कुछ जुदा तो नहीं है- डॉ तबस्सुम जहां
ग़ज़ल- तू फितरत ए शैतां से कुछ जुदा तो नहीं है- डॉ तबस्सुम जहां
Dr Tabassum Jahan
🙅सोचिए ना जी🙅
🙅सोचिए ना जी🙅
*प्रणय प्रभात*
मुझे अच्छी नहीं लगती
मुझे अच्छी नहीं लगती
Dr fauzia Naseem shad
हब्स के बढ़ते हीं बारिश की दुआ माँगते हैं
हब्स के बढ़ते हीं बारिश की दुआ माँगते हैं
Shweta Soni
आज की जरूरत~
आज की जरूरत~
दिनेश एल० "जैहिंद"
Loading...