Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Feb 2024 · 1 min read

शायरी – संदीप ठाकुर

वक्त की बात हर घड़ी मत कर
ख़ुद घड़ी देख गड़बड़ी मत कर
चांद बाहों में सो रहा है मेरी
रात ढलने में हड़बड़ी मत कर

संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur

168 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सांसे केवल आपके जीवित होने की सूचक है जबकि तुम्हारे स्वर्णिम
सांसे केवल आपके जीवित होने की सूचक है जबकि तुम्हारे स्वर्णिम
Rj Anand Prajapati
फितरत
फितरत
Dr.Khedu Bharti
सावन में शिव गुणगान
सावन में शिव गुणगान
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
वो साँसों की गर्मियाँ,
वो साँसों की गर्मियाँ,
sushil sarna
खूब ठहाके लगा के बन्दे !
खूब ठहाके लगा के बन्दे !
Akash Yadav
बेवजह ख़्वाहिशों की इत्तिला मे गुज़र जाएगी,
बेवजह ख़्वाहिशों की इत्तिला मे गुज़र जाएगी,
शेखर सिंह
मैं एक महल हूं।
मैं एक महल हूं।
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
#रोचक_तथ्य
#रोचक_तथ्य
*प्रणय प्रभात*
निर्मोही हो तुम
निर्मोही हो तुम
A🇨🇭maanush
जरूरी बहुत
जरूरी बहुत
surenderpal vaidya
नहीं मिलना हो जो..नहीं मिलता
नहीं मिलना हो जो..नहीं मिलता
Shweta Soni
"मैं पूछता हूँ"
Dr. Kishan tandon kranti
मिली उर्वशी अप्सरा,
मिली उर्वशी अप्सरा,
लक्ष्मी सिंह
अखंड भारतवर्ष
अखंड भारतवर्ष
Bodhisatva kastooriya
रामलला के विग्रह की जब, भव में प्राण प्रतिष्ठा होगी।
रामलला के विग्रह की जब, भव में प्राण प्रतिष्ठा होगी।
डॉ.सीमा अग्रवाल
ਯਾਦਾਂ ਤੇ ਧੁਖਦੀਆਂ ਨੇ
ਯਾਦਾਂ ਤੇ ਧੁਖਦੀਆਂ ਨੇ
Surinder blackpen
बादल और बरसात
बादल और बरसात
Neeraj Agarwal
जिंदगी एक सफर सुहाना है
जिंदगी एक सफर सुहाना है
Suryakant Dwivedi
किसी भी सफल और असफल व्यक्ति में मुख्य अन्तर ज्ञान और ताकत का
किसी भी सफल और असफल व्यक्ति में मुख्य अन्तर ज्ञान और ताकत का
Paras Nath Jha
है हार तुम्ही से जीत मेरी,
है हार तुम्ही से जीत मेरी,
कृष्णकांत गुर्जर
गीत
गीत
Shiva Awasthi
श्रृष्टि का आधार!
श्रृष्टि का आधार!
कविता झा ‘गीत’
लड़की
लड़की
Dr. Pradeep Kumar Sharma
बुंदेली दोहा
बुंदेली दोहा
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
चकोर हूं मैं कभी चांद से मिला भी नहीं
चकोर हूं मैं कभी चांद से मिला भी नहीं
सत्य कुमार प्रेमी
व्यवहार वह सीढ़ी है जिससे आप मन में भी उतर सकते हैं और मन से
व्यवहार वह सीढ़ी है जिससे आप मन में भी उतर सकते हैं और मन से
Ranjeet kumar patre
बुद्धिमान हर बात पर, पूछें कई सवाल
बुद्धिमान हर बात पर, पूछें कई सवाल
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
रिश्तों से अब स्वार्थ की गंध आने लगी है
रिश्तों से अब स्वार्थ की गंध आने लगी है
Bhupendra Rawat
कुछ रिश्ते भी बंजर ज़मीन की तरह हो जाते है
कुछ रिश्ते भी बंजर ज़मीन की तरह हो जाते है
पूर्वार्थ
मानव जीवन की बन यह पहचान
मानव जीवन की बन यह पहचान
भरत कुमार सोलंकी
Loading...