Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings
Jun 4, 2016 · 1 min read

शायरी तक आ गए

हम जो डूबे प्यार में तो शायरी तक आ गए
भाव दिल के सब उतर कर लेखनी तक आ गए

जीत तो पाये नहीं हम दिल तुम्हारा प्यार में
पर ख़ुशी है हम तुम्हारी दोस्ती तक आ गए

नाम पर अब आधुनिकता के यहाँ पर दोस्तो
नौजवानों के कदम आवारगी तक आ गए

याद की पगडंडियों पर चलते चलते हम यहाँ
अपने पहले प्यार की सँकरी गली तक आ गए

जानते थे प्यार का मतलब नही हम ‘अर्चना’
पर चले जब राह इसकी बन्दग़ी तक आ गए
डॉ अर्चना गुप्ता

839 Views
You may also like:
रफ्तार
Anamika Singh
गाऊँ तेरी महिमा का गान (हरिशयन एकादशी विशेष)
श्री रमण 'श्रीपद्'
टेढ़ी-मेढ़ी जलेबी
Buddha Prakash
पिता का सपना
Prabhudayal Raniwal
कैसे गाऊँ गीत मैं, खोया मेरा प्यार
Dr Archana Gupta
*जय हिंदी* ⭐⭐⭐
पंकज कुमार कर्ण
पितृ स्तुति
दुष्यन्त 'बाबा'
चोट गहरी थी मेरे ज़ख़्मों की
Dr fauzia Naseem shad
अनमोल जीवन
आकाश महेशपुरी
श्रीराम गाथा
मनोज कर्ण
नफरत की राजनीति...
मनोज कर्ण
बूँद-बूँद को तरसा गाँव
ईश्वर दयाल गोस्वामी
मुर्गा बेचारा...
मनोज कर्ण
पवनपुत्र, हे ! अंजनि नंदन ....
ईश्वर दयाल गोस्वामी
दीवार में दरार
VINOD KUMAR CHAUHAN
वाक्य से पोथी पढ़
शेख़ जाफ़र खान
भूखे पेट न सोए कोई ।
Buddha Prakash
क्या मेरी कलाई सूनी रहेगी ?
Kumar Anu Ojha
बुद्ध भगवान की शिक्षाएं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
जिंदगी
Abhishek Pandey Abhi
The Buddha And His Path
Buddha Prakash
ज़िंदगी में न ज़िंदगी देखी
Dr fauzia Naseem shad
जैवविविधता नहीं मिटाओ, बन्धु अब तो होश में आओ
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
सपनों में खोए अपने
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मुझे आज भी तुमसे प्यार है
Ram Krishan Rastogi
ठोडे का खेल
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
कोई मंझधार में पड़ा हैं
VINOD KUMAR CHAUHAN
याद पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
✍️गुरु ✍️
Vaishnavi Gupta
पहचान...
मनोज कर्ण
Loading...