Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Jun 2016 · 1 min read

शायरी तक आ गए

हम जो डूबे प्यार में तो शायरी तक आ गए
भाव दिल के सब उतर कर लेखनी तक आ गए

जीत तो पाये नहीं हम दिल तुम्हारा प्यार में
पर ख़ुशी है हम तुम्हारी दोस्ती तक आ गए

नाम पर अब आधुनिकता के यहाँ पर दोस्तो
नौजवानों के कदम आवारगी तक आ गए

याद की पगडंडियों पर चलते चलते हम यहाँ
अपने पहले प्यार की सँकरी गली तक आ गए

जानते थे प्यार का मतलब नही हम ‘अर्चना’
पर चले जब राह इसकी बन्दग़ी तक आ गए
डॉ अर्चना गुप्ता

1336 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr Archana Gupta
View all
You may also like:
श्वासें राधा हुईं प्राण कान्हा हुआ।
श्वासें राधा हुईं प्राण कान्हा हुआ।
Neelam Sharma
सहज है क्या _
सहज है क्या _
Aradhya Raj
कर बैठे कुछ और हम
कर बैठे कुछ और हम
Basant Bhagawan Roy
चारू कात देख दुनियां कें,सोचि रहल छी ठाड़ भेल !
चारू कात देख दुनियां कें,सोचि रहल छी ठाड़ भेल !
DrLakshman Jha Parimal
जीवन का मुस्कान
जीवन का मुस्कान
Awadhesh Kumar Singh
कबीर का पैगाम
कबीर का पैगाम
Shekhar Chandra Mitra
जो चाहने वाले होते हैं ना
जो चाहने वाले होते हैं ना
पूर्वार्थ
चाहत 'तुम्हारा' नाम है, पर तुम्हें पाने की 'तमन्ना' मुझे हो
चाहत 'तुम्हारा' नाम है, पर तुम्हें पाने की 'तमन्ना' मुझे हो
Sukoon
मैं तो महज क़ायनात हूँ
मैं तो महज क़ायनात हूँ
VINOD CHAUHAN
राष्ट्रपिता
राष्ट्रपिता
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
World tobacco prohibition day
World tobacco prohibition day
Tushar Jagawat
दलित साहित्य / ओमप्रकाश वाल्मीकि और प्रह्लाद चंद्र दास की कहानी के दलित नायकों का तुलनात्मक अध्ययन // आनंद प्रवीण//Anandpravin
दलित साहित्य / ओमप्रकाश वाल्मीकि और प्रह्लाद चंद्र दास की कहानी के दलित नायकों का तुलनात्मक अध्ययन // आनंद प्रवीण//Anandpravin
आनंद प्रवीण
सत्य की खोज........एक संन्यासी
सत्य की खोज........एक संन्यासी
Neeraj Agarwal
■ आज की ग़ज़ल
■ आज की ग़ज़ल
*Author प्रणय प्रभात*
💐प्रेम कौतुक-370💐
💐प्रेम कौतुक-370💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
जनता हर पल बेचैन
जनता हर पल बेचैन
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
कोई दर ना हीं ठिकाना होगा
कोई दर ना हीं ठिकाना होगा
Shweta Soni
वह फूल हूँ
वह फूल हूँ
Pt. Brajesh Kumar Nayak
दिल के हर
दिल के हर
Dr fauzia Naseem shad
जब तक हो तन में प्राण
जब तक हो तन में प्राण
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
रोबोटिक्स -एक समीक्षा
रोबोटिक्स -एक समीक्षा
Shyam Sundar Subramanian
*मेरी इच्छा*
*मेरी इच्छा*
Dushyant Kumar
उदघोष
उदघोष
DR ARUN KUMAR SHASTRI
"ख़्वाहिशों की दुनिया"
Dr. Kishan tandon kranti
हमारा हाल अब उस तौलिए की तरह है बिल्कुल
हमारा हाल अब उस तौलिए की तरह है बिल्कुल
Johnny Ahmed 'क़ैस'
// अगर //
// अगर //
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
राष्ट्र पिता महात्मा गाँधी
राष्ट्र पिता महात्मा गाँधी
लक्ष्मी सिंह
आये हो मिलने तुम,जब ऐसा हुआ
आये हो मिलने तुम,जब ऐसा हुआ
gurudeenverma198
मानव हमारी आगोश में ही पलते हैं,
मानव हमारी आगोश में ही पलते हैं,
Ashok Sharma
3073.*पूर्णिका*
3073.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
Loading...