Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Apr 2024 · 1 min read

शायद …

शायद …
तुम्हें याद भी ना रहे
कोई तुम्हे शिद्दत से चाहता था
जीता था तुम्हारे लिए
दिल ग़र धड़कता था
तो तुम्हारे लिए धड़कता था …!!
होगा फ़िर कुछ यूँ
वक़्त की तरह
गुज़र जाऊँगा एक दिन मैं
और टिमटिमाते हुए
दूर आसमान से देखूँगा तुम्हें
और शायद..
तुम्हें भी
किसी एक लम्हे में
उस सितारे में
एक धुंधला सा अक्स
नजर आ जाए.. उसका
जो तुम्हारे साथ
गुजारना चाहता था
एक जिंदगी…!!!!

हिमांशु Kulshrestha

42 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
'खामोश बहती धाराएं'
'खामोश बहती धाराएं'
Dr MusafiR BaithA
मेरी भी कहानी कुछ अजीब है....!
मेरी भी कहानी कुछ अजीब है....!
singh kunwar sarvendra vikram
इतने दिनों बाद आज मुलाकात हुईं,
इतने दिनों बाद आज मुलाकात हुईं,
Stuti tiwari
सुख दुख
सुख दुख
Sûrëkhâ
*मांसाहार-शाकाहार : 12 दोहे*
*मांसाहार-शाकाहार : 12 दोहे*
Ravi Prakash
💜💠💠💠💜💠💠💠💜
💜💠💠💠💜💠💠💠💜
Manoj Kushwaha PS
मेरे भाव मेरे भगवन
मेरे भाव मेरे भगवन
Dr.sima
23/173.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/173.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
ॐ शिव शंकर भोले नाथ र
ॐ शिव शंकर भोले नाथ र
Swami Ganganiya
■ स्लो-गन बोले तो धीमी बंदूक। 😊
■ स्लो-गन बोले तो धीमी बंदूक। 😊
*Author प्रणय प्रभात*
🧟☠️अमावस की रात☠️🧟
🧟☠️अमावस की रात☠️🧟
SPK Sachin Lodhi
फागुन होली
फागुन होली
Khaimsingh Saini
स्वार्थी नेता
स्वार्थी नेता
पंकज कुमार कर्ण
*
*"शिव आराधना"*
Shashi kala vyas
जितने धैर्यता, सहनशीलता और दृढ़ता के साथ संकल्पित संघ के स्व
जितने धैर्यता, सहनशीलता और दृढ़ता के साथ संकल्पित संघ के स्व
जय लगन कुमार हैप्पी
माँ
माँ
नन्दलाल सुथार "राही"
परिवार
परिवार
Sandeep Pande
प्यासे को
प्यासे को
Santosh Shrivastava
अफसोस है मैं आजाद भारत बोल रहा हूॅ॑
अफसोस है मैं आजाद भारत बोल रहा हूॅ॑
VINOD CHAUHAN
जय माँ दुर्गा देवी,मैया जय अंबे देवी...
जय माँ दुर्गा देवी,मैया जय अंबे देवी...
Harminder Kaur
दिल ए तकलीफ़
दिल ए तकलीफ़
Dr fauzia Naseem shad
नकाबे चेहरा वाली, पेश जो थी हमको सूरत
नकाबे चेहरा वाली, पेश जो थी हमको सूरत
gurudeenverma198
जनता का भरोसा
जनता का भरोसा
Shekhar Chandra Mitra
राम के जैसा पावन हो, वो नाम एक भी नहीं सुना।
राम के जैसा पावन हो, वो नाम एक भी नहीं सुना।
सत्य कुमार प्रेमी
तुम्हें रूठना आता है मैं मनाना सीख लूँगा,
तुम्हें रूठना आता है मैं मनाना सीख लूँगा,
pravin sharma
दर्द  जख्म कराह सब कुछ तो हैं मुझ में
दर्द जख्म कराह सब कुछ तो हैं मुझ में
Ashwini sharma
नई शिक्षा
नई शिक्षा
अंजनीत निज्जर
मिमियाने की आवाज
मिमियाने की आवाज
Dr Nisha nandini Bhartiya
I am Yash Mehra
I am Yash Mehra
Yash mehra
आँखों में अब बस तस्वीरें मुस्कुराये।
आँखों में अब बस तस्वीरें मुस्कुराये।
Manisha Manjari
Loading...