Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Jan 2024 · 1 min read

शादाब रखेंगे

बह्र 👉👉 1222 1222 1222 1222
मुफ़ाईलुन मुफ़ाईलुन मुफ़ाईलुन मुफ़ाईलुन

काफ़िया 💕 आब
रदीफ़ 💕 रक्खेंगे
1222 1222 1222 1222
गुज़ारे साथ जो लम्हें बनाकर ख्वाब रक्खेंगे।
निगेंबां आप ही होंगे तुम्हें महताब रक्खेंगे।

हमारी रूह में बसता क़मर बन मादरे वतन,
भले मुरझाए जाँ औ तन वतन शादाब रक्खेंगे।

रखो बुलंद इरादों को तरक्की आप चूमेगी,
करूँ सदका वतन सजदे जिगर बेताब रक्खेंगे।

मिरे अशआर बन नगमें सुनाएँ देश के किस्से,
भरी जो आग जोशीली उसे ना दाब रक्खेंगे।

ख़ुदा रक्खे सलामत ख़ास ये भारत हमारा है,
मिटा कर झूठ को नीलम जिगर नायाब रक्खेंगे।
नीलम शर्मा ✍️

Language: Hindi
1 Like · 91 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
चंद सिक्के उम्मीदों के डाल गुल्लक में
चंद सिक्के उम्मीदों के डाल गुल्लक में
सिद्धार्थ गोरखपुरी
.......*तु खुदकी खोज में निकल* ......
.......*तु खुदकी खोज में निकल* ......
Naushaba Suriya
काग़ज़ पर उतार दो
काग़ज़ पर उतार दो
Surinder blackpen
अच्छा लगता है
अच्छा लगता है
Pratibha Pandey
क्या मागे माँ तुझसे हम, बिन मांगे सब पाया है
क्या मागे माँ तुझसे हम, बिन मांगे सब पाया है
Anil chobisa
उनको मंजिल कहाँ नसीब
उनको मंजिल कहाँ नसीब
Mrs PUSHPA SHARMA {पुष्पा शर्मा अपराजिता}
लक्ष्य हासिल करना उतना सहज नहीं जितना उसके पूर्ति के लिए अभि
लक्ष्य हासिल करना उतना सहज नहीं जितना उसके पूर्ति के लिए अभि
Sukoon
Memories
Memories
Sampada
हिन्दी के साधक के लिए किया अदभुत पटल प्रदान
हिन्दी के साधक के लिए किया अदभुत पटल प्रदान
Dr.Pratibha Prakash
पहला खत
पहला खत
Mamta Rani
2440.पूर्णिका
2440.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
*चलिए बाइक पर सदा, दो ही केवल लोग (कुंडलिया)*
*चलिए बाइक पर सदा, दो ही केवल लोग (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
हमको इतनी आस बहुत है
हमको इतनी आस बहुत है
Dr. Alpana Suhasini
मुहब्बत कुछ इस कदर, हमसे बातें करती है…
मुहब्बत कुछ इस कदर, हमसे बातें करती है…
Anand Kumar
शिक्षक श्री कृष्ण
शिक्षक श्री कृष्ण
Om Prakash Nautiyal
दंगे-फसाद
दंगे-फसाद
Shekhar Chandra Mitra
मुकाम
मुकाम
Swami Ganganiya
शाखों के रूप सा हम बिखर जाएंगे
शाखों के रूप सा हम बिखर जाएंगे
कवि दीपक बवेजा
"गौरतलब"
Dr. Kishan tandon kranti
सबक ज़िंदगी पग-पग देती, इसके खेल निराले हैं।
सबक ज़िंदगी पग-पग देती, इसके खेल निराले हैं।
आर.एस. 'प्रीतम'
तेरा कंधे पे सर रखकर - दीपक नीलपदम्
तेरा कंधे पे सर रखकर - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
धन्य हैं वो बेटे जिसे माँ-बाप का भरपूर प्यार मिलता है । कुछ
धन्य हैं वो बेटे जिसे माँ-बाप का भरपूर प्यार मिलता है । कुछ
Dr. Man Mohan Krishna
सृष्टि की अभिदृष्टि कैसी?
सृष्टि की अभिदृष्टि कैसी?
AJAY AMITABH SUMAN
हम हो जायेंगें दूर तूझसे,
हम हो जायेंगें दूर तूझसे,
$úDhÁ MãÚ₹Yá
पूर्ण-अपूर्ण
पूर्ण-अपूर्ण
Srishty Bansal
थोड़ा दिन और रुका जाता.......
थोड़ा दिन और रुका जाता.......
Keshav kishor Kumar
आप की डिग्री सिर्फ एक कागज का टुकड़ा है जनाब
आप की डिग्री सिर्फ एक कागज का टुकड़ा है जनाब
शेखर सिंह
दीप की अभिलाषा।
दीप की अभिलाषा।
Kuldeep mishra (KD)
रिश्ते से बाहर निकले हैं - संदीप ठाकुर
रिश्ते से बाहर निकले हैं - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
प्रवासी चाँद
प्रवासी चाँद
Ramswaroop Dinkar
Loading...