Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Oct 2023 · 1 min read

शरद पूर्णिमा का चांद

शरद पूर्णिमा का चांद
चारू चंद्र का मनोरम स्वरूप कितना सुंदर कितना प्यारा,
इसकी सुंदरता देख रहा है एकटक होकर ये जग सारा।
शरद पूर्णिमा का चांद अपनी सोलह कला दिखलाता,
मानो अंतरिक्ष के मंच पर सुंदर नृत्य सबको दिखलाता।
समूचे ब्रम्हांड में चारों ओर ये चमक चांदनी बिखराए,
जैसे अनगिनत तारों को अपने प्रकाश में ये राह दिखलाए।
आज के इस दिन चांद अमृत की बूंदें बरसाए,
इनके लिए सब अपने छत पर पकवान सजाए।
चंद्रमा के स्वागत में सब आसमान पर पलकें बिछाए,
सुंदरतम चांद के इस स्वरूप को सब शीश नवाएं।
चांद का यह सुंदर स्वरूप देख मन प्रसन्न हो जाता,
कितना निहारो इसको पर मन कभी न भर पाता।
रूप अनुपम इसकी सुंदरता सबके मन को भाए,
देख के उसकी सुंदरता को सबके मन हर्षाए।
शरद पूर्णिमा का यह पूर्ण चंद्र सबको प्रेरित करता,
अंधकार से हिम्मत न हारने की बात ये सिखलाता।।
©✍️ मुकेश कुमार सोनकर, रायपुर छत्तीसगढ़

1 Like · 115 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
A daughter's reply
A daughter's reply
Bidyadhar Mantry
ऐसी गुस्ताखी भरी नजर से पता नहीं आपने कितनों के दिलों का कत्
ऐसी गुस्ताखी भरी नजर से पता नहीं आपने कितनों के दिलों का कत्
Sukoon
कागज ए ज़िंदगी............एक सोच
कागज ए ज़िंदगी............एक सोच
Neeraj Agarwal
मन
मन
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
*घर आँगन सूना - सूना सा*
*घर आँगन सूना - सूना सा*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
आज हम जा रहे थे, और वह आ रही थी।
आज हम जा रहे थे, और वह आ रही थी।
SPK Sachin Lodhi
कान्हा तेरी नगरी, आए पुजारी तेरे
कान्हा तेरी नगरी, आए पुजारी तेरे
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
भरत मिलाप
भरत मिलाप
अटल मुरादाबादी, ओज व व्यंग कवि
She was the Mother - an ode to Mother Teresa
She was the Mother - an ode to Mother Teresa
Dhriti Mishra
About [ Ranjeet Kumar Shukla ]
About [ Ranjeet Kumar Shukla ]
Ranjeet Kumar Shukla
सत्य की खोज
सत्य की खोज
Mamta Rani
सन् २०२३ में,जो घटनाएं पहली बार हुईं
सन् २०२३ में,जो घटनाएं पहली बार हुईं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
आविष्कार एक स्वर्णिम अवसर की तलाश है।
आविष्कार एक स्वर्णिम अवसर की तलाश है।
Rj Anand Prajapati
वचन सात फेरों का
वचन सात फेरों का
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
जुदा होते हैं लोग ऐसे भी
जुदा होते हैं लोग ऐसे भी
Dr fauzia Naseem shad
"चांदनी के प्रेम में"
Dr. Kishan tandon kranti
थैला (लघु कथा)
थैला (लघु कथा)
Ravi Prakash
मैं अपना जीवन
मैं अपना जीवन
Swami Ganganiya
किसी एक के पीछे भागना यूं मुनासिब नहीं
किसी एक के पीछे भागना यूं मुनासिब नहीं
Dushyant Kumar Patel
शहीदों को नमन
शहीदों को नमन
Dinesh Kumar Gangwar
2511.पूर्णिका
2511.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
मैं भी क्यों रखूं मतलब उनसे
मैं भी क्यों रखूं मतलब उनसे
gurudeenverma198
नमो-नमो
नमो-नमो
Bodhisatva kastooriya
जब तुम नहीं सुनोगे भैया
जब तुम नहीं सुनोगे भैया
DrLakshman Jha Parimal
अन्तर्मन
अन्तर्मन
Dr. Upasana Pandey
■ मूर्खतापूर्ण कृत्य...।।
■ मूर्खतापूर्ण कृत्य...।।
*Author प्रणय प्रभात*
Suni padi thi , dil ki galiya
Suni padi thi , dil ki galiya
Sakshi Tripathi
समल चित् -समान है/प्रीतिरूपी मालिकी/ हिंद प्रीति-गान बन
समल चित् -समान है/प्रीतिरूपी मालिकी/ हिंद प्रीति-गान बन
Pt. Brajesh Kumar Nayak
ख़राब आदमी
ख़राब आदमी
Dr MusafiR BaithA
मैं हर इक चीज़ फानी लिख रहा हूं
मैं हर इक चीज़ फानी लिख रहा हूं
शाह फैसल मुजफ्फराबादी
Loading...