Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Mar 2023 · 1 min read

शब्द वाणी

वाणी,शब्द

कभी आग की अंगारा लगती हो,
तो कभी शीतल पानी ।
कौंआ की कर्कश बोलीं
तो कभी कोयल सी मीठी
वाणी ।।
मौनव्रत में हे वाणी ,माटी की तुरंत लगती हो।
कभी पराया अनजाना,तो कभी अपना स लगती हो।।
आम की अमराई है,या बरगद की छाया।
काठ की कठपुतली है,या धातु की काया।।
निद्रा वस्था में रहती है,या चकमा देकर भाती है,।
कभी पराया अनजाना,तो कभी अपना सा लगती हो।।
ग्रिष्म की अंगारा हो या वर्षा की पानी।
शीतल की शीतलता हो या,बसंत की रानी,
तुम्हीं बताओ कौहो तुम,एक माया ही लगती हो।
कभी पराया अनजाना, तो कभी अपना सा लगती हो
शब्द जाल में मुझे फंसाकर,क्यों रूप बदलकर आती हो।
कवि हृदय के धड़कन में,क्यों लेखनी बनकर तड़पाती हो
उलझ गया हूं शब्द जाल में,लेखनी भी रूकती है।
क्रोधाग्नि की महाज्वाला, मेरे नजरों में झुलती है।।
साहित्य के इस महासागर में ब्याकरण बनकर रहती हो।।
कभी पराया अनजाना तो कभी अपना सा लगती हो।।
नौ रस में तुम समाकर,दिल में आनन्द भर्ती हो।
साहित्य मंच में हे देवी,देव अपस्सर से जचती हो।
कभी पराया अनजाना तो कभी अपना सा लगती हो।।
रस छंद अलंकार सजाकर,दोहा सोरठा चौपाई की रानी,।
बहुत सुन्दर लगती हो,ताल ,धमाल, कव्वाल की वाणी।।
कभी सिंह की दहाड़,तो कभी तोते की बोली बनती हो।।
कभी पराया अनजाना तो कभी अपना सा लगती हो।।।

Language: Hindi
3 Likes · 1024 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
💐💐कुण्डलिया निवेदन💐💐
💐💐कुण्डलिया निवेदन💐💐
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
कविता
कविता
Mahendra Narayan
*जीतेंगे इस बार चार सौ पार हमारे मोदी जी (हिंदी गजल)*
*जीतेंगे इस बार चार सौ पार हमारे मोदी जी (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
*फितरत*
*फितरत*
Dushyant Kumar
आपसे गुफ्तगू ज़रूरी है
आपसे गुफ्तगू ज़रूरी है
Surinder blackpen
तालाब समंदर हो रहा है....
तालाब समंदर हो रहा है....
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
नया साल
नया साल
umesh mehra
साधना
साधना
Vandna Thakur
3092.*पूर्णिका*
3092.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
सागर ने भी नदी को बुलाया
सागर ने भी नदी को बुलाया
Anil Mishra Prahari
मां को नहीं देखा
मां को नहीं देखा
Suryakant Dwivedi
आसमाँ पर तारे लीप रहा है वो,
आसमाँ पर तारे लीप रहा है वो,
अर्चना मुकेश मेहता
किताब
किताब
Sûrëkhâ
ढाई अक्षर वालों ने
ढाई अक्षर वालों ने
Dr. Kishan tandon kranti
इश्क़ में भी हैं बहुत, खा़र से डर लगता है।
इश्क़ में भी हैं बहुत, खा़र से डर लगता है।
सत्य कुमार प्रेमी
सियासी मुद्दों पर आए दिन भाड़ सा मुंह फाड़ने वाले धर्म के स्वय
सियासी मुद्दों पर आए दिन भाड़ सा मुंह फाड़ने वाले धर्म के स्वय
*प्रणय प्रभात*
नारी कब होगी अत्याचारों से मुक्त?
नारी कब होगी अत्याचारों से मुक्त?
कवि रमेशराज
इसरो का आदित्य
इसरो का आदित्य
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
दुर्लभ हुईं सात्विक विचारों की श्रृंखला
दुर्लभ हुईं सात्विक विचारों की श्रृंखला
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
कल पापा की परी को उड़ाने के लिए छत से धक्का दिया..!🫣💃
कल पापा की परी को उड़ाने के लिए छत से धक्का दिया..!🫣💃
SPK Sachin Lodhi
फूल है और मेरा चेहरा है
फूल है और मेरा चेहरा है
Dr fauzia Naseem shad
मोहब्बत
मोहब्बत
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
बुंदेली दोहा प्रतियोगिता-151से चुने हुए श्रेष्ठ दोहे (लुगया)
बुंदेली दोहा प्रतियोगिता-151से चुने हुए श्रेष्ठ दोहे (लुगया)
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
सत्य जब तक
सत्य जब तक
Shweta Soni
कोई चीज़ मैंने तेरे पास अमानत रखी है,
कोई चीज़ मैंने तेरे पास अमानत रखी है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
सृजन
सृजन
Rekha Drolia
हर कोई समझ ले,
हर कोई समझ ले,
Yogendra Chaturwedi
पिछले पन्ने 7
पिछले पन्ने 7
Paras Nath Jha
भीगी पलकें( कविता)
भीगी पलकें( कविता)
Monika Yadav (Rachina)
नीलामी हो गई अब इश्क़ के बाज़ार में मेरी ।
नीलामी हो गई अब इश्क़ के बाज़ार में मेरी ।
Phool gufran
Loading...