Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Nov 2022 · 1 min read

शख्स या शख्शियत

शख्सियत बदली है या शख्स ही बदल गया ,
हालात ही बदले हैं या फिर वक्त बदल गया।

Language: Hindi
1 Like · 2 Comments · 430 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
वो तुम्हें! खूब निहारता होगा ?
वो तुम्हें! खूब निहारता होगा ?
The_dk_poetry
हुआ क्या तोड़ आयी प्रीत को जो  एक  है  नारी
हुआ क्या तोड़ आयी प्रीत को जो एक है नारी
Anil Mishra Prahari
अभी-अभी
अभी-अभी
*Author प्रणय प्रभात*
अभी तो साथ चलना है
अभी तो साथ चलना है
Vishal babu (vishu)
करके याद तुझे बना रहा  हूँ  अपने मिजाज  को.....
करके याद तुझे बना रहा हूँ अपने मिजाज को.....
Rakesh Singh
*सुबह उगा है जो सूरज, वह ढल जाता है शाम (गीत)*
*सुबह उगा है जो सूरज, वह ढल जाता है शाम (गीत)*
Ravi Prakash
जय भगतसिंह
जय भगतसिंह
Shekhar Chandra Mitra
कभी ना अपने लिए जीया मैं…..
कभी ना अपने लिए जीया मैं…..
AVINASH (Avi...) MEHRA
उस गुरु के प्रति ही श्रद्धानत होना चाहिए जो अंधकार से लड़ना सिखाता है
उस गुरु के प्रति ही श्रद्धानत होना चाहिए जो अंधकार से लड़ना सिखाता है
कवि रमेशराज
23, मायके की याद
23, मायके की याद
Dr Shweta sood
भीगी फिर थीं भारी रतियाॅं!
भीगी फिर थीं भारी रतियाॅं!
Rashmi Sanjay
आदि ब्रह्म है राम
आदि ब्रह्म है राम
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
आप हो
आप हो
Dr.Pratibha Prakash
दोहा- छवि
दोहा- छवि
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
वो कत्ल कर दिए,
वो कत्ल कर दिए,
पंकज पाण्डेय सावर्ण्य
बैठे थे किसी की याद में
बैठे थे किसी की याद में
Sonit Parjapati
पत्ते बिखरे, टूटी डाली
पत्ते बिखरे, टूटी डाली
Arvind trivedi
2777. *पूर्णिका*
2777. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
आज भी
आज भी
Dr fauzia Naseem shad
सियासत में
सियासत में
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
"अजीज"
Dr. Kishan tandon kranti
तज द्वेष
तज द्वेष
Neelam Sharma
हवा में हाथ
हवा में हाथ
रोहताश वर्मा 'मुसाफिर'
सोचना नहीं कि तुमको भूल गया मैं
सोचना नहीं कि तुमको भूल गया मैं
gurudeenverma198
जिंदगी ना जाने कितने
जिंदगी ना जाने कितने
Ragini Kumari
मुझको अपनी शरण में ले लो हे मनमोहन हे गिरधारी
मुझको अपनी शरण में ले लो हे मनमोहन हे गिरधारी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
बस हौसला करके चलना
बस हौसला करके चलना
SATPAL CHAUHAN
अहसान का दे रहा हूं सिला
अहसान का दे रहा हूं सिला
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
अधिक हर्ष और अधिक उन्नति के बाद ही अधिक दुख और पतन की बारी आ
अधिक हर्ष और अधिक उन्नति के बाद ही अधिक दुख और पतन की बारी आ
पूर्वार्थ
सोचो जो बेटी ना होती
सोचो जो बेटी ना होती
लक्ष्मी सिंह
Loading...