Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Feb 2017 · 1 min read

शंकर आदि अनंत

शंकर आदि अनंत, अविनाशी नित्यानन्द, आशुतोष महाकाल ,शिव ही ओंकार है
क्रोध इनका प्रचंड, गले लिपटे भुजंग, किया सदा असुरों का, शिव ने संहार है
चंद्र भाल जटा गंग, प्रिय इनको है भंग,नंदी गौरा गणपति , प्यारा परिवार है
नीलकंठ महादेव, देवों के भी हैं ये देव ,हम सबका नमन, इन्हें बारंबार है
डॉ अर्चना गुप्ता

565 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr Archana Gupta
View all
You may also like:
राजा जनक के समाजवाद।
राजा जनक के समाजवाद।
Acharya Rama Nand Mandal
*राममय हुई रामपुर रजा लाइब्रेरी*
*राममय हुई रामपुर रजा लाइब्रेरी*
Ravi Prakash
देश जल रहा है
देश जल रहा है
gurudeenverma198
कोई चोर है...
कोई चोर है...
Srishty Bansal
दोस्त को रोज रोज
दोस्त को रोज रोज "तुम" कहकर पुकारना
ruby kumari
भारतवर्ष स्वराष्ट्र पूर्ण भूमंडल का उजियारा है
भारतवर्ष स्वराष्ट्र पूर्ण भूमंडल का उजियारा है
Pt. Brajesh Kumar Nayak
🪁पतंग🪁
🪁पतंग🪁
Dr. Vaishali Verma
Dr arun kumar shastri
Dr arun kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
" चर्चा चाय की "
Dr Meenu Poonia
"इमली"
Dr. Kishan tandon kranti
परेशानियों का सामना
परेशानियों का सामना
Paras Nath Jha
सदा सदाबहार हिंदी
सदा सदाबहार हिंदी
goutam shaw
🌺🌻 *गुरु चरणों की धूल*🌻🌺
🌺🌻 *गुरु चरणों की धूल*🌻🌺
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
*
*"गंगा"*
Shashi kala vyas
जीवन सूत्र (#नेपाली_लघुकथा)
जीवन सूत्र (#नेपाली_लघुकथा)
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
प्रकृति का गुलदस्ता
प्रकृति का गुलदस्ता
Madhu Shah
लिट्टी छोला
लिट्टी छोला
आकाश महेशपुरी
2805. *पूर्णिका*
2805. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
दिहाड़ी मजदूर
दिहाड़ी मजदूर
Vishnu Prasad 'panchotiya'
दस लक्षण पर्व
दस लक्षण पर्व
Seema gupta,Alwar
जिंदगी का ये,गुणा-भाग लगा लो ll
जिंदगी का ये,गुणा-भाग लगा लो ll
गुप्तरत्न
मेरे दिल की हर इक वो खुशी बन गई
मेरे दिल की हर इक वो खुशी बन गई
कृष्णकांत गुर्जर
आप और हम जीवन के सच
आप और हम जीवन के सच
Neeraj Agarwal
सरस्वती वंदना
सरस्वती वंदना
Neeraj Mishra " नीर "
#शेर-
#शेर-
*Author प्रणय प्रभात*
मेरे दिल मे रहा जुबान पर आया नहीं....,
मेरे दिल मे रहा जुबान पर आया नहीं....,
कवि दीपक बवेजा
कहने का मौका तो दिया था तुने मगर
कहने का मौका तो दिया था तुने मगर
Swami Ganganiya
-शेखर सिंह
-शेखर सिंह
शेखर सिंह
“परिंदे की अभिलाषा”
“परिंदे की अभिलाषा”
DrLakshman Jha Parimal
काली मां
काली मां
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
Loading...