Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Jan 2024 · 1 min read

व्यस्तता

तुम जैसा नहीं कोई दूजा है।
पर,मेरे लिए कर्म ही पूजा है।

चाहता हूं मैं तुम्हारे पास आऊं।
व्यस्तता से तुम तक न आ पाऊं।।

व्यस्तता में न तुमको ढ़ूंढ पाऊं।
अपने आपको सूखा ठूंठ पाऊँ।।

समय नहीं ठहरता है अब यहांँ।
समय नहीं ठहरता है अब वहांँ।।

तुम्हारे चेहरे पर झुर्रियां हो गई।
काया जाने सूखी पत्तियां हो गई।।

काम की ढ़ेरों मजबूरियां हो गई।
हमारे बीच बहुत दूरियां हो गई।

व्यस्तता कब कम हुई किसी की।
आंखें भले ही नम हुई सभी की।।

क्या करूं? तुम्हें सब कुछ चाहिए।
सपने में नहीं हकीकत में चाहिए।।

व्यस्तता अब कम नहीं हो सकती।
नभ में पहचान,बनकर चमकती।।‌

व्यस्तता से मनचाहा मिलता है।
सूखे वन में भी फूल खिलता है।।

सबको मालूम है,तुम हो मेरी ।
मेरे मन में छवि बसी है तेरी।।

122 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
अन्तर्राष्टीय मज़दूर दिवस
अन्तर्राष्टीय मज़दूर दिवस
सत्य कुमार प्रेमी
उसकी एक नजर
उसकी एक नजर
साहिल
जो ये समझते हैं कि, बेटियां बोझ है कन्धे का
जो ये समझते हैं कि, बेटियां बोझ है कन्धे का
Sandeep Kumar
*दादी चली गई*
*दादी चली गई*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
नहीं-नहीं प्रिये!
नहीं-नहीं प्रिये!
Pratibha Pandey
कविता: सजना है साजन के लिए
कविता: सजना है साजन के लिए
Rajesh Kumar Arjun
17रिश्तें
17रिश्तें
Dr Shweta sood
अनसोई कविता............
अनसोई कविता............
sushil sarna
चुप
चुप
Dr.Priya Soni Khare
तेरे गम का सफर
तेरे गम का सफर
Rajeev Dutta
ओ मेरी सोलमेट जन्मों से - संदीप ठाकुर
ओ मेरी सोलमेट जन्मों से - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
आधी बीती जून, मिले गर्मी से राहत( कुंडलिया)
आधी बीती जून, मिले गर्मी से राहत( कुंडलिया)
Ravi Prakash
कैसे देखनी है...?!
कैसे देखनी है...?!
Srishty Bansal
मेरी ख़्वाहिश ने
मेरी ख़्वाहिश ने
Dr fauzia Naseem shad
पेड़ के हिस्से की जमीन
पेड़ के हिस्से की जमीन
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
Time Travel: Myth or Reality?
Time Travel: Myth or Reality?
Shyam Sundar Subramanian
🙅एक न एक दिन🙅
🙅एक न एक दिन🙅
*Author प्रणय प्रभात*
पितर पाख
पितर पाख
Mukesh Kumar Sonkar
चिन्ता
चिन्ता
Dr. Kishan tandon kranti
इश्क में  हम वफ़ा हैं बताए हो तुम।
इश्क में हम वफ़ा हैं बताए हो तुम।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
माटी कहे पुकार
माटी कहे पुकार
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
साहित्य क्षेत्रे तेल मालिश का चलन / MUSAFIR BAITHA
साहित्य क्षेत्रे तेल मालिश का चलन / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
आगे बढ़ने दे नहीं,
आगे बढ़ने दे नहीं,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
साहित्यकार गजेन्द्र ठाकुर: व्यक्तित्व आ कृतित्व।
साहित्यकार गजेन्द्र ठाकुर: व्यक्तित्व आ कृतित्व।
Acharya Rama Nand Mandal
When you learn to view life
When you learn to view life
पूर्वार्थ
एक नज़र से ही मौहब्बत का इंतेखाब हो गया।
एक नज़र से ही मौहब्बत का इंतेखाब हो गया।
Phool gufran
बलिदान
बलिदान
लक्ष्मी सिंह
जीवन दर्शन
जीवन दर्शन
Prakash Chandra
तुम ये उम्मीद मत रखना मुझसे
तुम ये उम्मीद मत रखना मुझसे
Maroof aalam
नजरअंदाज करने के
नजरअंदाज करने के
Dr Manju Saini
Loading...