Aug 30, 2016 · 1 min read

व्यंग

जीन्स क्यों बिलकुल बुरी बात..
ऐसे हंसते हैं क्या ये कोई तरीका है,?
सीधा चलो इतना मटकने की जरूरत क्या ?
एक पब्लिक पब से फोन आता है , 7 बज गए कहाँ हो अभी तक …घर क्यों नहीं पहुची ?
कॉलेज क्या अब बहुत पढ़ लिया कलेक्टर नहीं बनाना,
गर्ल फ्रेंड को व्हट्स ऐप पर उत्तर देने के बाद,
माँ मेने मना किया था मोबाइल मत देना पर मेरी सुने कौन ?? दो चार कनटॉप लगाओ देखो कैसे गाडी ट्रेक पर आती है !
छत पर क्या रखा है ? क्यों पहुच आती हो हर बार दिख नहीं रहा हम लोग बैठे हैं यहाँ ?
1000/933, यही होना चाहिए यही विकल्प है अब बचा l

128 Views
You may also like:
मेरे पापा
Anamika Singh
"साहित्यकार भी गुमनाम होता है"
Ajit Kumar "Karn"
💐आत्म साक्षात्कार💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
हाइकु__ पिता
Manu Vashistha
ऊँच-नीच के कपाट ।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
ममत्व की माँ
Raju Gajbhiye
मुक्तक- जो लड़ना भूल जाते हैं...
आकाश महेशपुरी
माँ बाप का बटवारा
Ram Krishan Rastogi
माँ
सूर्यकांत द्विवेदी
बसन्त बहार
N.ksahu0007@writer
🌺प्रेम की राह पर-52🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
पंचशील गीत
Buddha Prakash
माँ तुम अनोखी हो
Anamika Singh
कुछ लोग यूँ ही बदनाम नहीं होते...
मनोज कर्ण
विषय:सूर्योपासना
Vikas Sharma'Shivaaya'
पिता का कंधा याद आता है।
Taj Mohammad
अभी बचपन है इनका
gurudeenverma198
आज असंवेदनाओं का संसार देखा।
Manisha Manjari
माँ (खड़ी हूँ मैं बुलंदी पर मगर आधार तुम हो...
Dr Archana Gupta
भ्राजक
DR ARUN KUMAR SHASTRI
"विहग"
Ajit Kumar "Karn"
पापा को मैं पास में पाऊँ
Dr. Pratibha Mahi
अलबेले लम्हें, दोस्तों के संग में......
Aditya Prakash
टूटता तारा
Anamika Singh
*"पिता"*
Shashi kala vyas
ऐ जिन्दगी
Anamika Singh
फिक्र ना है किसी में।
Taj Mohammad
बचे जो अरमां तुम्हारे दिल में
Ram Krishan Rastogi
आखिर तुम खुश क्यों हो
Krishan Singh
सुर बिना संगीत सूना.!
Prabhudayal Raniwal
Loading...