Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Jul 2023 · 1 min read

वो सब खुश नसीब है

वो सब खुश नसीब है
जिनके हिस्से में मां-बाप , घर आया ।
मेरी किस्मत में सफर था इसलिए
सब छोड़ कर परदेश आया।।
शिव प्रताप लोधी

332 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from शिव प्रताप लोधी
View all
You may also like:
अपने को अपना बना कर रखना जितना कठिन है उतना ही सहज है दूसरों
अपने को अपना बना कर रखना जितना कठिन है उतना ही सहज है दूसरों
Paras Nath Jha
हमसफ़र
हमसफ़र
अखिलेश 'अखिल'
रावण
रावण
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
In the middle of the sunflower farm
In the middle of the sunflower farm
Sidhartha Mishra
हे प्रभु मेरी विनती सुन लो , प्रभु दर्शन की आस जगा दो
हे प्रभु मेरी विनती सुन लो , प्रभु दर्शन की आस जगा दो
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
Just lost in a dilemma when the abscisic acid of negativity
Just lost in a dilemma when the abscisic acid of negativity
Sukoon
*महामना जैसा भला, होगा किसका काम (कुंडलिया)*
*महामना जैसा भला, होगा किसका काम (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
"कलम के लड़ाई"
Dr. Kishan tandon kranti
हनुमंत लाल बैठे चरणों में देखें प्रभु की प्रभुताई।
हनुमंत लाल बैठे चरणों में देखें प्रभु की प्रभुताई।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
मतदान
मतदान
Kanchan Khanna
कर्म कांड से बचते बचाते.
कर्म कांड से बचते बचाते.
Mahender Singh
आजमाइश
आजमाइश
Suraj Mehra
"दीप जले"
Shashi kala vyas
अंधविश्वास का पुल / DR. MUSAFIR BAITHA
अंधविश्वास का पुल / DR. MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
💐प्रेम कौतुक-369💐
💐प्रेम कौतुक-369💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
पुरुष की अभिलाषा स्त्री से
पुरुष की अभिलाषा स्त्री से
Anju ( Ojhal )
मेरी कलम से…
मेरी कलम से…
Anand Kumar
*खुशियों की सौगात*
*खुशियों की सौगात*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
लर्जिश बड़ी है जुबान -ए -मोहब्बत में अब तो
लर्जिश बड़ी है जुबान -ए -मोहब्बत में अब तो
सिद्धार्थ गोरखपुरी
माँ महान है
माँ महान है
Dr. Man Mohan Krishna
...........,,
...........,,
शेखर सिंह
चंद्रयान
चंद्रयान
डिजेन्द्र कुर्रे
ये खुदा अगर तेरे कलम की स्याही खत्म हो गई है तो मेरा खून लेल
ये खुदा अगर तेरे कलम की स्याही खत्म हो गई है तो मेरा खून लेल
Ranjeet kumar patre
देश के दुश्मन कहीं भी, साफ़ खुलते ही नहीं हैं
देश के दुश्मन कहीं भी, साफ़ खुलते ही नहीं हैं
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
सफ़र
सफ़र
Shyam Sundar Subramanian
बैसाखी....
बैसाखी....
पंकज पाण्डेय सावर्ण्य
■ आज की बात....!
■ आज की बात....!
*Author प्रणय प्रभात*
सीख लिया है सभी ने अब
सीख लिया है सभी ने अब
gurudeenverma198
2526.पूर्णिका
2526.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
मृत्यु पर विजय
मृत्यु पर विजय
Mukesh Kumar Sonkar
Loading...