Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Apr 2024 · 1 min read

वो बदल रहे हैं।

ऐ जिंदगी दो कदम तू भी तो चल हम कबसे चल रहे है।
ठहरी पड़ी है तू वक्त के जानें कितने लम्हे गुजर रहे है।।

कुरान की आयते जाने कबसे याद तो हम भी कर रहे है।
पर इनमे से एक भी समझ में आती नही बस रट रहे है।।

झुकी निगाहे उनकी बज्म में कितने सवाल कर गई है।
हम तो है रिश्ते में वैसे ही जैसे थे पर वो बदल रहे है।।

सियासत दानों ने एक दूसरे को गले मिलने न दिया है।
बंद कर दो लड़ाई मज़हब की जिसमे सब लड़ रहे है।।

दौलत की ये भूख जानें कैसे कैसे काम करवा रही है।
ये कैसे है इंसा जो मासूम बच्चों की तिजारत कर रहे है।।

ऐसा नहीं है कि उनमें कुव्वत नही है तुमसे लड़ने की।
पर है वो गरीब तेरे जुल्मों सितम पर सबर कर रहे है।।

ताज मोहम्मद
लखनऊ

51 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Taj Mohammad
View all
You may also like:
प्यार टूटे तो टूटने दो ,बस हौंसला नहीं टूटना चाहिए
प्यार टूटे तो टूटने दो ,बस हौंसला नहीं टूटना चाहिए
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
कोशिश
कोशिश
विजय कुमार अग्रवाल
https://youtube.com/@pratibhaprkash?si=WX_l35pU19NGJ_TX
https://youtube.com/@pratibhaprkash?si=WX_l35pU19NGJ_TX
Dr.Pratibha Prakash
बुद्ध फिर मुस्कुराए / मुसाफ़िर बैठा
बुद्ध फिर मुस्कुराए / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
सच सोच ऊंची उड़ान की हो
सच सोच ऊंची उड़ान की हो
Neeraj Agarwal
काश हुनर तो..
काश हुनर तो..
Dr. Kishan tandon kranti
अन्तर्राष्ट्रीय श्रमिक दिवस
अन्तर्राष्ट्रीय श्रमिक दिवस
Bodhisatva kastooriya
*आ गई है  खबर  बिछड़े यार की*
*आ गई है खबर बिछड़े यार की*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
“मैं सब कुछ सुनकर भी
“मैं सब कुछ सुनकर भी
गुमनाम 'बाबा'
3117.*पूर्णिका*
3117.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मेरे वतन मेरे वतन
मेरे वतन मेरे वतन
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
यूँ तो समन्दर में कभी गोते लगाया करते थे हम
यूँ तो समन्दर में कभी गोते लगाया करते थे हम
The_dk_poetry
क्या क्या बताए कितने सितम किए तुमने
क्या क्या बताए कितने सितम किए तुमने
Kumar lalit
राह कठिन है राम महल की,
राह कठिन है राम महल की,
Satish Srijan
बुंदेली दोहा प्रतियोगिता-150 से चुने हुए श्रेष्ठ 11 दोहे
बुंदेली दोहा प्रतियोगिता-150 से चुने हुए श्रेष्ठ 11 दोहे
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
अब तुझे रोने न दूँगा।
अब तुझे रोने न दूँगा।
Anil Mishra Prahari
"चाँद को शिकायत" संकलित
Radhakishan R. Mundhra
हिज़ाब को चेहरे से हटाएँ किस तरह Ghazal by Vinit Singh Shayar
हिज़ाब को चेहरे से हटाएँ किस तरह Ghazal by Vinit Singh Shayar
Vinit kumar
यूं तो मेरे जीवन में हंसी रंग बहुत हैं
यूं तो मेरे जीवन में हंसी रंग बहुत हैं
हरवंश हृदय
सफलता
सफलता
Dr. Pradeep Kumar Sharma
आना ओ नोनी के दाई
आना ओ नोनी के दाई
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
आदमी की गाथा
आदमी की गाथा
कृष्ण मलिक अम्बाला
बेरुखी इख्तियार करते हो
बेरुखी इख्तियार करते हो
shabina. Naaz
दीया और बाती
दीया और बाती
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
कोई पागल हो गया,
कोई पागल हो गया,
sushil sarna
रहते हैं बूढ़े जहाँ ,घर के शिखर-समान(कुंडलिया)
रहते हैं बूढ़े जहाँ ,घर के शिखर-समान(कुंडलिया)
Ravi Prakash
वो क़ुदरत का दिया हुआ है,
वो क़ुदरत का दिया हुआ है,
*Author प्रणय प्रभात*
प्रेम!
प्रेम!
कविता झा ‘गीत’
माँ आजा ना - आजा ना आंगन मेरी
माँ आजा ना - आजा ना आंगन मेरी
Basant Bhagawan Roy
दूर चकोरी तक रही अकास...
दूर चकोरी तक रही अकास...
डॉ.सीमा अग्रवाल
Loading...