Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 May 2018 · 1 min read

“वो नारी है “

“अग्नि की उठती ज्वाला सी,कभी ढलते सूरज की लाली है,
ममतामयी माँ दुर्गा सी,कभी रुद्र वो चंडी काली है,
अबला कहते हो उसको, जो दैत्यों पर भी भारी है,
हर वीर को जिसने जन्म दिया,वीरांगना वो नारी है,
कभी रजिया सुल्ताना सी कभी लक्ष्मीबाई बन जाती है, गृहलक्ष्मी है वो कोमल सी,कभी जंग में तलवार चलाती है,
मां बहन के रूप में मिली तुम्हें,कोई औरत तेरी घरवाली है,
कोई दरवाजे की मर्यादा में,कोई मर्दन करती शेरावाली है,
हुआ विनाश उन सबका जिसने बुरी निगाहें डाली है ,
रावण हो या महिषासुर,या रहा कोई शक्तिशाली है,
चुप रह कर वो सहती है तो, अबला नहीं समझ लेना,
निगलने की क्षमता है उसमें,बेहतर हो पहले संभल लेना,
नहीं कम है वो तुमसे, है उसमें उद्गार भरा, हर नारी के अंदर शक्ति का भंडार भरा,
नारी ही है जो पुरूषों का अस्तित्व बनाती हैं,
माँ स्वरूप पर जिसके पूरी दुनिया शीश झुकाती है,
रस भर देती जीवन में कभी कभी मधुशाला सी,
कभी पतन कर देती है,धरती से उगलती ज्वाला सी
निज सम्मान के खातिर,अग्नि परीक्षा तक दे डाली है,
सती सावित्री जिसने यम से भी अपनी बात मना ली है, विभिन्न रूपों में खुद को ढाले, मूर्तिकार वो नारी है, अबला कहते हो उसको,जो दैत्यों पर भी भारी है,
हर वीर को जिसने जन्म दिया,वीरांगना वो नारी है।”

Language: Hindi
555 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*जिंदगी*
*जिंदगी*
Harminder Kaur
यूं गुम हो गई वो मेरे सामने रहकर भी,
यूं गुम हो गई वो मेरे सामने रहकर भी,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
महकती नहीं आजकल गुलाबों की कालिया
महकती नहीं आजकल गुलाबों की कालिया
Neeraj Mishra " नीर "
■ #गीत :-
■ #गीत :-
*प्रणय प्रभात*
घर एक मंदिर🌷🙏
घर एक मंदिर🌷🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
मैंने अपनी, खिडकी से,बाहर जो देखा वो खुदा था, उसकी इनायत है सबसे मिलना, मैं ही खुद उससे जुदा था.
मैंने अपनी, खिडकी से,बाहर जो देखा वो खुदा था, उसकी इनायत है सबसे मिलना, मैं ही खुद उससे जुदा था.
Mahender Singh
जर्जर है कानून व्यवस्था,
जर्जर है कानून व्यवस्था,
ओनिका सेतिया 'अनु '
हार
हार
पूर्वार्थ
दोहा- दिशा
दोहा- दिशा
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
हर दिन रोज नया प्रयास करने से जीवन में नया अंदाज परिणाम लाता
हर दिन रोज नया प्रयास करने से जीवन में नया अंदाज परिणाम लाता
Shashi kala vyas
फूल
फूल
Neeraj Agarwal
24/249. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
24/249. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
बैरिस्टर ई. राघवेन्द्र राव
बैरिस्टर ई. राघवेन्द्र राव
Dr. Pradeep Kumar Sharma
*सब से महॅंगा इस समय, पुस्तक का छपवाना हुआ (मुक्तक)*
*सब से महॅंगा इस समय, पुस्तक का छपवाना हुआ (मुक्तक)*
Ravi Prakash
हमें लगा  कि वो, गए-गुजरे निकले
हमें लगा कि वो, गए-गुजरे निकले
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
देश की हिन्दी
देश की हिन्दी
surenderpal vaidya
डॉ अरुण कुमार शास्त्री 👌💐👌
डॉ अरुण कुमार शास्त्री 👌💐👌
DR ARUN KUMAR SHASTRI
Dard-e-madhushala
Dard-e-madhushala
Tushar Jagawat
आओ एक गीत लिखते है।
आओ एक गीत लिखते है।
PRATIK JANGID
मैं 🦾गौरव हूं देश 🇮🇳🇮🇳🇮🇳का
मैं 🦾गौरव हूं देश 🇮🇳🇮🇳🇮🇳का
डॉ० रोहित कौशिक
प्यार जताना नहीं आता ...
प्यार जताना नहीं आता ...
MEENU SHARMA
हिंदू कौन?
हिंदू कौन?
Sanjay ' शून्य'
कृष्ण वंदना
कृष्ण वंदना
लक्ष्मी सिंह
वाल्मिकी का अन्याय
वाल्मिकी का अन्याय
Manju Singh
हम तो अपनी बात कहेंगें
हम तो अपनी बात कहेंगें
अनिल कुमार निश्छल
“अखनो मिथिला कानि रहल अछि ”
“अखनो मिथिला कानि रहल अछि ”
DrLakshman Jha Parimal
नारी के मन की पुकार
नारी के मन की पुकार
Anamika Tiwari 'annpurna '
घन की धमक
घन की धमक
Dr. Kishan tandon kranti
जितना मिला है उतने में ही खुश रहो मेरे दोस्त
जितना मिला है उतने में ही खुश रहो मेरे दोस्त
कृष्णकांत गुर्जर
सपनों को दिल में लिए,
सपनों को दिल में लिए,
Yogendra Chaturwedi
Loading...