Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Sep 2023 · 1 min read

वो जाने क्या कलाई पर कभी बांधा नहीं है।

रक्षाबंधन
गज़ल

1222/1222/1222/122
वो जाने क्या कलाई पर कभी बांधा नहीं है।
है राखी प्यार का बंधन महज धागा नहीं है।1

वो भाई क्या है जिसने प्यार बहना का न पाया,
वो बहना क्या है जिसने भाई को चाहा नहीं है।2

बहन‌ की रक्षा में कुर्बान कर दे जो सभी कुछ,
वो भाई सामने हो मौत भी डरता नहीं है।3

कलाई पर बॅंधी राखी वतन पर मिट गया जो,
वो भाई बहनों के खातिर कभी मरता नहीं है।4

वो बदक़िस्मत है भाई और बहनें दोस्तो गर,
वो जिंदा है मगर आपस में ही रिश्ता नहीं है।5

…✍️ सत्य कुमार प्रेमी

200 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"परमार्थ"
Dr. Kishan tandon kranti
कर्नाटक के मतदाता
कर्नाटक के मतदाता
*Author प्रणय प्रभात*
सूरज नहीं थकता है
सूरज नहीं थकता है
Ghanshyam Poddar
तड़के जब आँखें खुलीं, उपजा एक विचार।
तड़के जब आँखें खुलीं, उपजा एक विचार।
डॉ.सीमा अग्रवाल
अगर मेरी मोहब्बत का
अगर मेरी मोहब्बत का
श्याम सिंह बिष्ट
मंगलमय हो आपका विजय दशमी शुभ पर्व ,
मंगलमय हो आपका विजय दशमी शुभ पर्व ,
Neelam Sharma
तारे दिन में भी चमकते है।
तारे दिन में भी चमकते है।
Rj Anand Prajapati
चिंतन और अनुप्रिया
चिंतन और अनुप्रिया
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
भोली बिटिया
भोली बिटिया
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
धर्म और सिध्दांत
धर्म और सिध्दांत
Santosh Shrivastava
फागुन की अंगड़ाई
फागुन की अंगड़ाई
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
“पसरल अछि अकर्मण्यता”
“पसरल अछि अकर्मण्यता”
DrLakshman Jha Parimal
हिंदी दिवस पर एक आलेख
हिंदी दिवस पर एक आलेख
कवि रमेशराज
ज़िन्दगी की राह
ज़िन्दगी की राह
Sidhartha Mishra
हमारे दोस्त
हमारे दोस्त
Shivkumar Bilagrami
जन्नत
जन्नत
जय लगन कुमार हैप्पी
हमें सलीका न आया।
हमें सलीका न आया।
Taj Mohammad
मुक्तक
मुक्तक
जगदीश शर्मा सहज
दुम कुत्ते की कब हुई,
दुम कुत्ते की कब हुई,
sushil sarna
मन तेरा भी
मन तेरा भी
Dr fauzia Naseem shad
हवाओं पर कोई कहानी लिखूं,
हवाओं पर कोई कहानी लिखूं,
AJAY AMITABH SUMAN
23/192. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/192. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
तुमको खोकर इस तरहां यहाँ
तुमको खोकर इस तरहां यहाँ
gurudeenverma198
आज़ादी की क़ीमत
आज़ादी की क़ीमत
Shekhar Chandra Mitra
पथ पर आगे
पथ पर आगे
surenderpal vaidya
तुम्हें पाना-खोना एकसार सा है--
तुम्हें पाना-खोना एकसार सा है--
Shreedhar
"फागुन गीत..2023"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
*मध्यमवर्ग तबाह, धूम से कर के शादी (कुंडलिया)*
*मध्यमवर्ग तबाह, धूम से कर के शादी (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
कभी सुलगता है, कभी उलझता  है
कभी सुलगता है, कभी उलझता है
Anil Mishra Prahari
अबोध प्रेम
अबोध प्रेम
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
Loading...