Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Jun 2023 · 1 min read

वो ज़माने चले गए

इसके घर की रोटी थी, उसके घर का अचार था
इसके घर का तकिया था, उसके घर का खाट था।
दिनभर पहले मेहनत, फिर रात सजा दरबार था
हर दिन थी दीवाली, हर दिन होता त्यौहार था।
वो दीवाने, वो मस्ताने चले गए…
वो ज़माने चले गए, वो ज़माने चले गए।

इसके घर का चूल्हा था, उसके घर की लकड़ी थी
इसके सर पे भार था, उसके तन की टंगड़ी थी।
हुई शाम गले मिल जाती, जो बहन सुबह में झगड़ी थी
जो था सबसे समझदार, बस उसके सर पे पगड़ी थी।
वो हंसी-ठिठोली, प्यारे ताने चले गए…
वो ज़माने चले गए, वो ज़माने चले गए।

शुद्ध अन्न था, शुद्ध मन था, थी शुद्ध ही बोली-वाणी
बिन मतलब के मिलते थे, आपस में प्राणी-प्राणी।
थी एक दुकान, जहाँ मिले सामान, होते थे सेठ-सेठाणी
घर का मुखिया राजा था, थी पत्नी उसकी राणी।
वो काम-काज, वो राज-पाट सब चले गए…
वो ज़माने चले गए, वो ज़माने चले गए।

अब वो ज़माना आ गया, जहाँ बिन मतलब के यारी ना
कोई किसी का प्यारा ना, कोई किसी की प्यारी ना।
Mobile से pay कर दे, अब होती कोई उधारी ना
कहे “सुधीरा” भोले की अब चलती दूकानदारी ना।
गेंहूँ की बालों से दाने चले गए…
वो ज़माने चले गए, वो ज़माने चले गए।

407 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
भारतीय वनस्पति मेरी कोटेशन
भारतीय वनस्पति मेरी कोटेशन
Ms.Ankit Halke jha
"चाह"
Dr. Kishan tandon kranti
बच्चा सिर्फ बच्चा होता है
बच्चा सिर्फ बच्चा होता है
Dr. Pradeep Kumar Sharma
कुछ एक आशू, कुछ एक आखों में होगा,
कुछ एक आशू, कुछ एक आखों में होगा,
goutam shaw
मेरा भी कुछ लिखने का मन करता है,
मेरा भी कुछ लिखने का मन करता है,
डॉ. दीपक मेवाती
**बकरा बन पल मे मै हलाल हो गया**
**बकरा बन पल मे मै हलाल हो गया**
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
आत्महत्या कर के भी, मैं जिंदा हूं,
आत्महत्या कर के भी, मैं जिंदा हूं,
Pramila sultan
त्याग
त्याग
Punam Pande
💐प्रेम कौतुक-522💐
💐प्रेम कौतुक-522💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
■ होली का हुल्लड़...
■ होली का हुल्लड़...
*Author प्रणय प्रभात*
FUSION
FUSION
पूर्वार्थ
उलझ नहीं पाते
उलझ नहीं पाते
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
विश्वास की मंजिल
विश्वास की मंजिल
Buddha Prakash
इस बुझी हुई राख में तमाम राज बाकी है
इस बुझी हुई राख में तमाम राज बाकी है
कवि दीपक बवेजा
रैन बसेरा
रैन बसेरा
Shekhar Chandra Mitra
"हास्य व्यंग्य"
Radhakishan R. Mundhra
*कर्मठ व्यक्तित्व श्री राज प्रकाश श्रीवास्तव*
*कर्मठ व्यक्तित्व श्री राज प्रकाश श्रीवास्तव*
Ravi Prakash
बेटा बेटी का विचार
बेटा बेटी का विचार
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
सीख का बीज
सीख का बीज
Sangeeta Beniwal
सांसे केवल आपके जीवित होने की सूचक है जबकि तुम्हारे स्वर्णिम
सांसे केवल आपके जीवित होने की सूचक है जबकि तुम्हारे स्वर्णिम
Rj Anand Prajapati
मोहब्बत
मोहब्बत
AVINASH (Avi...) MEHRA
जब सांझ ढले तुम आती हो
जब सांझ ढले तुम आती हो
Dilip Kumar
"एक दीप जलाना चाहूँ"
Ekta chitrangini
3054.*पूर्णिका*
3054.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
आऊं कैसे अब वहाँ
आऊं कैसे अब वहाँ
gurudeenverma198
स्वप्न विवेचना -ज्योतिषीय शोध लेख
स्वप्न विवेचना -ज्योतिषीय शोध लेख
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
जो होता है सही  होता  है
जो होता है सही होता है
Anil Mishra Prahari
पिछले पन्ने 3
पिछले पन्ने 3
Paras Nath Jha
अल्फाज़ ए ताज भाग-11
अल्फाज़ ए ताज भाग-11
Taj Mohammad
झोली मेरी प्रेम की
झोली मेरी प्रेम की
Sandeep Pande
Loading...